GMCH STORIES

शिल्पग्राम के दर्पण सभागार में ‘संक्रमण’ नाटक का मंचन रविवार को

( Read 2947 Times)

03 May 24
Share |
Print This Page

शिल्पग्राम के दर्पण सभागार में ‘संक्रमण’ नाटक का मंचन रविवार को


उदयपुर, रविवार 5 मई को शिल्पग्राम के दर्पण सभागार में पश्चिम क्षेत्र सांस्कृतिक केंद्र, उदयपुर द्वारा आयोजित मासिक नाट्य संध्या ‘रंगशाला’ में ‘संक्रमण’ नाटक का मंचन होगा।
पश्चिम क्षेत्र सांस्कृतिक केंद्र, उदयपुर के निदेशक फुरकान खान ने बताया कि माह के प्रथम रविवार को आयोजित होने वाले मासिक नाट्य संध्या रंगशाला के तहत अभिनय गुरूकुल एक्टर्स स्टूडियो जोधपुर द्वारा ‘संक्रमण’ नाटक का मंचन किया जाएगा। इस नाटक के लेखक स्व. श्री कामतानाथ एवं निर्देशक अरू व्यास है। इस नाटक में 6 कलाकार भाग ले रहे हैं। रविवार शाम सात बजे होने वाली नाटक प्रस्तुति में प्रवेश निःशुल्क रहेगा।
कहानी:
संक्रमण कहानी मुख्य रूप से पिता, पुत्र और माँ की गवाही है, ये तीन कथन पिता और पुत्र के बीच रोजमर्रा के संघर्ष की कहानी है। जहाँ पिता अपने रोजमर्रा के संघर्ष, त्याग और जीवन के अनुभवों का महत्व सिद्ध करता है, जहाँ सुनने वाली हमेशा उसकी पत्नी होती है। पिता को अपने जीवन का सत्य अपने नजरिए से सार्थक लगता है लेकिन बेटा अपने पिता के नजरिए पर सवाल उठाता रहता है क्योंकि उसने वह संघर्ष, बलिदान और अनुभव नहीं देखा है जिससे उसके पिता गुजरे हैं। इन दोनों नजरियों के टकराव में पिसती है मां, जो किसी भी पक्ष में खड़ी नहीं हो पाती, लेकिन जैसे-जैसे समय बीतता है पति का यह व्यवहार एक तरह का संक्रमण बन जाता है जो हर पिता से उसके बेटे में फैलता है। यह नाटक पिता और पुत्र के बीच तथाकथित ‘पीढ़ी के अंतर’ और ‘वैचारिक मतभेद’ पर सवाल उठाता है। वह बेटा जो अपने पिता के झक्की व्यवहार पर सवाल उठाता है लेकिन जब वह खुद पिता बनता है, तो वह खुद को उसी स्थान पर पाता है।


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Literature News , Udaipur News
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like