संगीत, अभिनय और गायन में जीवन्त हुए पंचम दा

( Read 1720 Times)

18 Mar 19
Share |
Print This Page

संगीत, अभिनय और गायन में जीवन्त हुए पंचम दा

उदयपुर  पश्चिम क्षेत्र् सांस्कृतिक केन्द्र की ओर से आयोजित तीन दिवसीय ‘‘ऋतु वसंत’’ के के आखिरी दिन रविवार की शाम प्रसिद्ध संगीतकार राहुल देव बर्मन को एक अनूठे अंदाज में प्रस्तुत किया। प्रस्तुति में गायन, अभिनय और दृश्य बिम्ब के जरिये पंचम दा को जीवन्त बनाया गया।

शिल्पग्राम के मुक्ताकाशी रंगमंच पर पुणे की संस्था नीश एन्टरटेनमेन्ट्स के कलाकारों ने बॉलीवुड के प्रसिद्ध संगीतकार और पंचम के नाम से विख्यात राहुलदेव बर्मन पर विशेष प्रस्तुति दी जिसमें कलाकारों ने गायन, वादन, अभिनय के माध्यम से पंचमदा को सुरांजलि दी। नीश के कलाकारों ने इस अवसर पर राहुलदेव बर्मन के कृतित्व को बखूबी दर्शाया जिसमें एक अभिनेता, एक संगीतकार, एक गायक एक कम्पोजर और म्यूजक अरेन्जर राहुलदेंव बर्मन को बखूबी जीवन्त बनाया।

प्रस्तुति में पंचम के बचपन से ले कर उनके अवसान तक के प्रसंगों को रोचक ढंग से दर्शाया गया। प्रस्तुति में पंचम दा को एक ऐसा संबीतकार दर्शाया गया जिसने हिन्दुस्तानी क्लासिकल और पयिचमी संगीत के अनूठी ब्लैंडिंग के साथ लोगों के समक्ष प्रस्तुत किया। प्रस्तुति की शुरूआत ‘‘अपना देश’’ के गीत ‘‘दुनिया में लागों को धोखा कभी हो जाता है..’’ से हुई इसके बाद एक-एक करके पंचम के संगीत का जादू प्रस्तुति में परवान चढने लगा। प्रस्तुति में शोले, मासूम, आंधी, शान जैसी पिक्चरों के गीतों के साथ बांग्ला में गाये गानों का अनूठा मिश्रण किया गया। वहीं प्रस्तुति में गीत ‘‘जागो सोने वालों सुनो मेरी कहानी..’ गीत को आकर्षक ढंग से पेश किया गया। नीश के कलाकारों ने प्रस्तुति में पंचम के जीवन के उस दौर का जक्रभी किया जब पंचम इंडस्ट्री में विलमत से हो गये थे व उनके पास कम काम था। ऐसे में 1942 लव स्टोरी से उन्होंने ध्माकेदार वापसी की किन्तु इस कामयाबी को देखने से पहले पंचम इस दुनिया से अलविदा हो गये।

कुणाल फडके द्वारा परिकल्पित इस प्रस्तुति में मिलिन्द ओक के साथ-साथ गायन में जितेन्द्र अभंयकर, सवारदा गोडबोले, चैतन्य कुलकर्णी, रसिका ने अपने सुरीले अंदाज से और गायकी से पंचम के गीतों को प्रस्तुत किया वहीं नर्तक कुणाल फडके, रूतुजा इंगले, अभिषेक हवारगी ने अपने नर्तन से बॉलीवुड में फिल्माये गये गीतों को शिल्पग्राम के मंच पर जीवंत बनाया।

इससे पूर्व कारगिल युद्ध के वीर चक्र कर्नल दीपक रामलाल, एडिीशनल एस.पी. स्वाति शर्मा तथा प्रावदायी भविष्य निधी के कमिश्नर धनवंत सिंह तथा केन्द्र के निदेशक प्रभारी सुधांशु सिंह ने दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम का उद्घाटन किया।


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Udaipur News
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like