BREAKING NEWS

नंदी को छोडा तब से किसान मायुसः ग्वाल संत

( Read 325 Times)

15 Jan 20
Share |
Print This Page

op mehta

नंदी को छोडा तब से किसान मायुसः ग्वाल संत

बाडमेर। पहले किसान नंदी बाबा के साथ खेत खलिहानों में हल चलाकर खेती करते थे। खेती में जो अनाज होता वह किसान ले जाता और जो चारा बचता नंदी बाबा के लिए छोडते थे। अब यंत्रों पर आसीन होने से नंदी भगवान से किसानों ने किनारा कर लिया, तब से किसान दुखी है। इससे किसान शारीरिक रूप से भी कमजोर हुआ है, वहीं निरंतर कर्ज में डूबता ही जा रहा है। शंकर भगवान की सवारी नंदी ही हमारा धर्म है, इसको कभी नहीं भूलना चाहिए।     

   यह प्रवचन ग्वाल संत ने मंगलवार को श्री नंदी गौशाला में चल रही दिव्य गौ नंदी कृपा कथा के पांचवें दिन सैकडों गौ भक्त माता-बहनों को कही। उन्होंने विद्यार्थियों को आलस्य को त्यागने, पढाई में मन लगाने, शारीरिक रूप से स्वस्थ रहने के कई टिप्स भी बताएं।

कथा में बाडमेर विधायक मेवाराम जैन, नगरपालिका अध्यक्ष दिलीप माली, बालोतरा नगरपालिका अध्यक्षा श्रीमती सुमित्रा देवी, श्री नंदी गौशाला के कार्यकारी अध्यक्ष ओमप्रकाश मेहता, साध्वी शबला गोपाल सरस्वती, श्रवण कुमार डूंगरोमल, चेलाराम सिंधी, खत्री समाज के अध्यक्ष लेखराज खत्री, एए श्रेणी कोन्ट्रेक्टर अमृतलाल खत्री, भारत विकास परिषद के सचिव ओम जोशी, दिलीप तिवाडी एवं शहर के अनेक गणमान्य नागरिकों ने कथा श्रवण व आरती का धर्म लाभ लिया। मुख्य लाभार्थी के रूप में खरताराम चौधरी रहे। यज्ञ के लाभार्थी जितेन्द्र खत्री, अशोक गीगल, लोकेश सिंधी, पदमाराम सैन रहे।  प्रसाद वितरण भारत विकास परिषद की ओर से रहा। 


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Barmer News
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like