GMCH STORIES

अंतर्राष्ट्रीय ईएसजी एवं पर्यावरणीय और सामाजिक निष्पादन के लिए सर्वोत्तम मानकों पर वेदांता का विषेश ध्यान

( Read 2412 Times)

03 Mar 21
Share |
Print This Page
अंतर्राष्ट्रीय ईएसजी एवं पर्यावरणीय और सामाजिक निष्पादन के लिए सर्वोत्तम मानकों पर वेदांता का विषेश ध्यान

 

अंतर्राष्ट्रीय ईएसजी एवं पर्यावरणीय और सामाजिक निष्पादन के लिए सर्वोत्तम मानकों पर वेदांता का विषेश ध्यान

-डाउ जोन्स सस्टेनेबिलिटी इंडेक्स द्वारा द सस्टेनेबिलिटी इयरबुक- २०२१ में मान्यता

-सीडीपी स्कोर में सी से बी की और उत्कृश्टता- पर्यावरणीय प्रकटीकरण हेतु प्रतिबद्धता

- पारदर्शिता मानकों को विकसित करने के लिए वैश्विक टीसीएफडी के साथ सहयोग

 

वेदांता सस्टेनेबिलिटी प्रेक्टिस में अग्रणी रहा है और पर्यावरण और समुदायों की सुरक्षा के लिए नई तकनीकों का अपना रहा है। जीरो हार्म, जीरो वेस्ट, जीरो डिस्चार्जके दर्शन से प्रेरित, कंपनी सभी हितधारकों के लिए अपने सस्टेनेबिलिटी कार्यक्रमों के व्यापक प्रकटीकरण के लिए प्रतिबद्ध है।

पर्यावरण, सामाजिक और कॉर्पोरेट प्रशासन (ईएसजी) प्रथाओं के लिए समूह की मजबूत प्रतिबद्धता के लिए वेदांता लिमिटेड को एस एंड पी ग्लोबल द्वारा दो श्रेणियों ’’एसएएम इंडस्ट्री मूवर्स’’ और ’’सस्टेनेबिलिटी ईयरबुक मेंबर’’ के तहत द सस्टेनेबिलिटी इयरबक २०२१ में शामिल किया गया है। वेदांता की कंपनी हिंदुस्तान जिंक को भी इस वर्श के संस्करण में स्थान दिया गया है।

एसएण्डपी ग्लोबल की द सस्टेनेबिलिटी ईयरबुक विष्व के सबसे व्यापक प्रकाशनों में से एक है जो कॉर्पोरेट जिम्मेदारी पर गहराई से विश्लेषण प्रदान करता है। इस वर्श द सस्टेनेबिलिटी ईयरबुक द्वारा ६१ विभिन्न उद्योगों की ७००० से अधिक कंपनियों को षामिल किया गया जिनमें वेदांता और हिंदुस्तान जिंक को ६३० स्थिरता वाले षिर्श में स्थान दिया गया, जिन्हें एस एंड पी ग्लोबल ईएसजी स्कोर के आधार पर मूल्यांकन और रेटिंग की कठिन प्रक्रिया के बाद चुना गया।

इसके साथ ही, वेदांता के अधिक पर्यावरणीय पारदर्शिता और कार्रवाई के लक्ष्य के अनुरूप, कंपनी का सीडीपी स्कोर सी से बी की ओर उत्कृश्ट हुआ है। विगत वर्ष में कंपनी का स्कोर डी से बी की और अग्रसर हो कर बेहतर हुआ है। सीडीपी सीडीआर के जलवायु परिवर्तन, वन और जल सुरक्षा प्रश्नावली में भागीदारी के माध्यम से पर्यावरणीय प्रभावों को मापने और प्रबंधित करने हेतु स्कोरिंग पद्धति का उपयोग कर कंपनियों को प्रोत्साहित करता है।

वेदांता टास्क फोर्स द्वारा जलवायु से संबंधित वित्तीय प्रकटीकरणों के और पारदर्शिता के लिए अच्छी प्रथाओं और मानकों को विकसित करने के लिए टीसीएफडी के साथ सहयोग किया है। जिसका लक्ष्य नवीन तकनीकी समाधानों के माध्यम से २०१२ के हमारे आधारभूत वर्ष से २०२५ तक २० प्रतिषत उत्सर्जन की तीव्रता को कम करना है।

वेदांता समूह के मुख्य कार्यकारी अधिकारी और मुख्य सुरक्षा अधिकारी सुनील दुग्गल ने कहा कि ’’वेदांता के सभी कार्यों में जीरो हार्म, जीरो वेस्ट और जीरो डिस्चार्ज की महत्वाकांक्षी दृष्टि है। हम वर्तमान में संपत्ति अनुकूलन, औद्योगिक सहजीवन, बेहतर सामुदायिक संबंधों और रणनीतिक कार्बन एजेंडे के माध्यम से इसे पूर्ण करने की ओर अग्रसर हैं। परिचालनों के भीतर हमारे अभ्यास एसडीजी -१२ से स्थायी उपभोग और उत्पादन के अुनरूप हैं। हम श्रेश्ठ सस्टेनेबल तरीके से व्यापार करने के लिए प्रतिबद्ध हैं और यह अद्भुत है कि हमारे प्रयासों को वैश्विक स्तर पर मान्यता मिल रही है।

ईएसजी रिसर्च, एसएण्डपी के ग्लोबल हेड मंजीत जुस कहा कि हम वेदांता लिमिटेड और हिंदुस्तान जिंक को द सस्टेनेबिलिटी ईयर २०२१ में मुकाम के लिए बधाई देते हैं, जो उद्योग के निर्माताओं और वित्तीय सामग्री ईएसजी मेट्रिक्स के संदर्भ में सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाली कंपनियों को प्रदर्शित करता है। ७,००० से अधिक कंपनियों के आकलन के साथ, ईयरबुक में शामिल होना कॉर्पोरेट स्थिरता उत्कृष्टता का सही उदाहरण है।

धातुओं और खनन क्षेत्र में डॉव जोन्स सस्टेनेबिलिटी इंडेक्स (डीजेएसआई) रैंकिंग के अनुसार, वेदांता को २०२० में विष्व स्तर पर शीर्ष १२ कंपनियों में रखा गया है। कंपनी की स्थिरता रैंकिंग में निरंतर सुधार तीन वर्शो की प्रगति को दर्षाती है। हिंदुस्तान जिंक और वेदांता ने एशिया पेसिफिक में डीजेएसआई रैंकिंग में शीर्ष स्थान हासिल किया है।

वेदांता २०५० तक कार्बन उत्सर्जन को काफी हद तक कम करने के लिए प्रतिबद्ध है। कंपनी पेरिस समझौते की समर्थक है और जीओआई के नेष्नली डिटरमाइंड कंट्रीब्यूटर्स (एनडीसी) के अनुरूप कार्बन कटौती लक्ष्यों को निर्धारित किया है। कंपनी ने कार्बन-न्यूट्रलिटी की ओर बढने की स्वेच्छा से वचन देकर जलवायु परिवर्तन पर निजी क्षेत्र घोषणा पर हस्ताक्षर किए हैं।

वेदांता अपने प्रत्येक व्यवसाय के संचालन ढांचे में स्थिरता सिद्धांतों को एकीकृत करता है, जो बडे पैमाने पर पर्यावरण, कर्मचारियों और समुदायों की रक्षा के लिए वैश्विक सर्वोत्तम प्रथाओं के साथ संरेखित होते हैं। कंपनी का लक्ष्य बडे, लंबे जीवन और कम लागत वाली परिसंपत्तियों के अपने विविध पोर्टफोलियो के माध्यम से सतत विकास को बनाए रखते हुए विकास और दीर्घकालिक मूल्य प्रदान करना है। सस्टेनेबल डेवलपमेंट एजेंडा को ४ स्तंभों, जिम्मेदार स्टीवर्डशिप, बिल्डिंग स्ट्रांग रिलेशनशिप, ऐडिंग और शेयरिंग वैल्यू, और स्ट्रैटेजिक कम्युनिकेशंस - जो यूएनजीसी के १० सिद्धांतों, यूनाइटेड नेशन के एसडीजी और अंतर्राष्ट्रीय वित्त निगम (आईएफसी), आईसीएमएम एवं ओईसीडी द्वारा निर्धारित मानकों के अनुरूप विकसित किए गए हैं।

About Vedanta Limited

Vedanta Limited, a subsidiary of Vedanta Resources Limited, is one of the world’s leading Oil & Gas and Metals company with significant operations in Oil & Gas, Zinc, Lead, Silver, Copper, Iron Ore, Steel, and Aluminium & Power across India, South Africa, Namibia, and Australia. For two decades, Vedanta has been contributing significantly to nation building. Governance and sustainable development are at the core of Vedanta's strategy, with a strong focus on health, safety, and environment. Giving back is in the DNA of Vedanta, which is focused on enhancing the lives of local communities. Under the aegis of Vedanta Cares, the flagship social impact program, Nand Ghars have been set up as model anganwadis focused on eradicating child malnutrition, providing education, healthcare, and empowering women with skill development. The company has been featured in Dow Jones Sustainability Index, and was conferred CII-ITC Sustainability Award, the FICCI CSR Award, Dun & Bradstreet Awards in Metals & Mining, and certified as a Great Place to Work. Vedanta Limited is listed on the Bombay Stock Exchange and the National Stock Exchange in India and has ADRs listed on the New York Stock Exchange.


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Headlines , Zinc News
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like