BREAKING NEWS

हिन्दुस्तान जिंक देबारी स्मेल्टर किसान मेले का आयोजन

( Read 1714 Times)

07 Jan 20
Share |
Print This Page
हिन्दुस्तान जिंक देबारी स्मेल्टर किसान मेले का आयोजन

हिन्दुस्तान जिंक देबारी स्मेल्टर द्वारा ग्रामीण विकास र्कायक्रम के अंतर्गत संचालित समाधान परियोजना के तहत मावली तहसील की मेडता ग्रामपंचायत के गोडवा में किसान मेले का आयोजन किया गया, जिसमें महिला किसानों सहित ६०० किसानों ने भाग लिया। जिंक स्मेल्टर देबारी के डायरेक्टर अनिल त्रिपाठी ने किसानों से हिन्दुस्तान जिंक और बायफ संस्था द्वारा आसपास के गांवो की जीवनषैली को गुणवत्तापूर्ण बनाने वाली सभी परियोजना के स्वंयसेवी संस्थाओं स्माईल फाउण्डेशन,कोस्वी,मंजरी फाउण्डेशन, खुषी परियोजना एंव किसान समुदाय का संगम स्थापित कर किये जा रहे कार्यो की जानकारी दी तथा उनके कार्यो की सराहना की। उन्होंने कहा कि किसानों को खेतु व पषुपालन में आय बढाने के लिए नवीन तकनीक का प्रयोग करना चाहिए। कार्यक्रम में राजस्थान कृशि विष्वविद्यालय के इंद्रजीत माथुर ने किसानों से कहा कि वे खेती को व्यवसाय के रूप में करें, जिसके लिए सब्जीयों और फलदार खेती करें। उन्होंने सम्मनवित खेती के महत्व व इस खेती द्वारा किसानों की आय में बढोतरी करने के उपाय बताये तथा कृषि विष्वविद्यालय उदयपुर द्वारा किसानों हेतु चलाये जा रही परियोजना के बारे में जानकारी दी। कपिल देव ने कहा कि किसान अधिक से अधिक लाभ उठाएं। कार्यक्रम में बायफ के डॉ. संतोष बंसल ने पषुपालन गतिवियों के बारे में जानकारी दी तथा बायफ द्वारा प्रयोग किऐ जा रहे सोर्टेस सीमेन के महत्व पर प्रकाष डाला। बायफ के नरेष कुमार ने समाधान योजना के तहत् चलाए जा रहे कार्यक्रमों की जानकारी दी। इस अवसर पर देबारी स्मेल्टर से नंदकुमार, भास्करन सेतुपथी, मदन यादव, साधना वर्मा, प्रफुल्ल मालवीय, गौरव षर्मा, राकेष रोहिला, आरएल षर्मा उपस्थ्ति थे। किसान मेले में हिन्दुस्तान जिंक की सखी परीयोजना, खुषी परियोजना, कोस्वी, स्माइल फाउण्डेशन, कृषि विभाग, तथा समाधान परियोजना की स्टॉल लगाई गई। किसान मेले में महिला और पुरुष किसानों व पशुपालकों के लिए विभिन्न प्रकार के खेलों के स्टॉल का आयोजन किया गया जिसमें रिंग फेंक, तीरंदाजी, बोल निशाने पर इत्यादि खेलों का आयोजन किया गया जिसमें सभी ने बढ चढकर हिस्सा लिया एवं जीतने वाले लाभार्थियों को खेती-बाडी में काम आने वाले आदान जैसे बीज खाद के पैकेट, चारे बीज की कटिंग इत्यादि प्रकार के पारितोषिक प्रदान किए गए! मेले में भाग लेने वाले सभी किसानों को लकी ड्राॅ कूपन भी दिए गए जिसमें से तीन विजेताओं को लकी ड्राॅ जीतने पर पुरस्कार प्रदान किए गए समाधान परियोजना राजस्थान के ५ जिलों के १७४ गांवों में कृषि एवं पशुपालन को बढावा देने के उद्देश्य से ३०,००० से अधिक परिवारों के साथ संचालित की जा रही है। परियोजना का मुख्य उद्देश्य कृषि एवं पशुपालन के क्षेत्र में ग्रामीण परिवारों की आजीविका वर्धन करना एवं उनमें कौशल विकास बढाकर नई-नई तकनीकों का कृषि के क्षेत्र में प्रयोग करके उत्पादन एवं आमदनी को बढाना है।


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Headlines , Zinc News
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like