GMCH STORIES

हेण्ड इन हेण्ड इंडिया समूह ने ग्रामीण महिलाएं की बदली दशा व दिशा

( Read 2721 Times)

12 Jun 24
Share |
Print This Page

हेण्ड इन हेण्ड इंडिया समूह ने ग्रामीण महिलाएं की बदली दशा व दिशा


घूंघट की ओट से बाहर निकल ग्रामीण महिलायें कर रही अपना व्यवसाय
उदयपुर। हेण्ड इन हेण्ड इंडिया समूह ने विगत 5 वर्षो में राइज़ अप वूमन राजस्थान-लर्निंग इवेन्ट नामक प्रोजेक्ट के तहत उदयपुर, सिराही, जोधपुर व गोगुन्दा की 60 ग्राम पंचायातों की 10 हजार से अधिक महिलाओं के साथ काम कर न केवल उनकी दशा व दिशा बदली वरन् महिलाआंे को घूंघट की ओट से बाहर निकाल उनके व्यवसाय को स्थानीय स्तर से लेकर देश के विभिन्न हिस्सों में पंहुचानें में सहायता की।
हेण्ड इन हेण्ड इंडिया के 5 वें स्थापना समारोह के अवसर पर ओरियन्टल पैलेस रिसोर्ट में आयोजित एक समारोह में उपरोक्त जानकारी दी गई। कार्यक्रम में उदयपुर, सिरोही व गोगुन्दा क्षेत्र की 300 से अधिक महिलायें मौजूद थी। इस अवसर पर आयोजित कार्यशाला में बोलते हुए हेण्ड इन हेण्ड इंडिया की अध्यक्ष मधु सरण ने बताया कि संस्था ने इन 5 वर्षो के दौरान ग्रामीण महिलाओं के साथ काम करते हुए उन्हें इतना मजबूत बना दिया कि आज वे आपस में समूह बनाकर पैसा एकत्रित कर एक दूसरे को ऋ़ण देकर व्यवसाय को आगे बढ़़ानें में आपसी सहयोग कर रही है। कुछ महिलायें इतना आगे बढ़ गयी है कि वे देश भर में अपने इंस्टाग्राम अकाउन्ट से अपना व्यवसाय संचालित कर रही है। उन्हें आगे बढ़ने में शुरूआती दौर में काफी परेशानियंा आयी लेकिन बाद में घर से सहयोग मिल जाने पर वे आज अपने अपने क्षेत्र की प्रभावित महिलायें बन गयी है।
प्रबन्ध न्यासी एन.कृष्णन ने कहा कि संस्था का मुख्यालय चैन्नई है और वह स्वीडन के सहयोग से इस प्रोजेक्ट के तहत ग्रामीण महिलाओें की आर्थिक स्थिति को सुधारने, उन्हें हर क्षेत्र में सशक्त बनानें का कार्य कर रही है। संस्था के सीओओ राधा कृष्णन कोंडा ने कहा कि अब भारत की तस्वीर बदल रही है और उस बदलती तस्वीर मेंसबसे अधिक योगदान ग्रामीण महिलाओं का होगा।
संस्थान की नॉर्थ इंडिया की मुख्य महाप्रबन्धक प्रियंका डाले ने बताया कि इस प्रोेजेक्ट के बाद संस्था अपने दूसरे प्रोजेक्ट एमपावर हर पर कार्य कर इस क्षेत्र में आगे बढ़़ेगी। इस अवसर पर उन्होंने विगत 5 वर्षो के दौरान महिलाओं के साथ किये गये कार्य को पावर पॉइन्ट प्रजेन्टेशन एवं एक शॅार्ट फिल्म के जरिये बताया। वहंा पर लोग काम की तलाश में पलायन कर रहे थे,ऐसे में सस्था ने पलायन रोक कर महिलाओं को मजबूत बनाने का कार्य किया। जिसमें काफी हद तक सफलता मिली।
समारोह में स्वीडन की लिण्डा,श्रेया मुखर्जी,जोसफ मोजेस,श्रेनिक छाबड़ा, मुख्य अतिथि रोटरी ब्क्लब उदयुपर के अध्यक्ष गिरीश मेहता, पूर्व प्रान्तपाल निर्मल सिंघवी ने भी समारोह को ंसबोध्ाित किय। इन सभी अतिथियों का स्वागत राजस्थान राज्य के प्रोगाम मेनेजर राजीव पुरोहित ने किया और अंत में आभार ज्ञापित किया। अतिथियों ने संस्था द्वारा महिलाओं की उपलब्धियों पर प्रकाशित तीन पुस्तकों का विमोचन किया। समारोह में भाविनी शर्मा,शैलेष,शिवानी,प्र्रकाश, राकेश,डॉ. भटनागर,शरद माथुर,साक्षी,डॉ. हर्षा,शशि सुधीर सहित अनेक गणमान्य नागरिक मौजूद थे। कार्यक्रम में इन क्षेत्रों से आयी कुछ महिलाओं ने अपनी स्फालता की कहानी को बताया। कार्यक्रम में 5 हजार सीड बॉल का भी वितरण किया गया।


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Headlines , Education News
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like