GMCH STORIES

सरकारी एवं गैर सरकारी संस्थाओं को मिलकर करना होगा प्रयास - जूली

( Read 4361 Times)

20 Nov 20
Share |
Print This Page
सरकारी एवं गैर सरकारी संस्थाओं को मिलकर करना होगा प्रयास - जूली

उदयपुर । बालश्रम, तस्करी एवं बाल दुव्र्यवहार मुक्त राजस्थान की स्थापना के लिए राजस्थान सरकार द्वारा हर संभव प्रयास किया जा रहा है। बालश्रम मुक्त समाज एवं बाल अधिकारों के संरक्षण के लिए सामुहिक एवं सतत् प्रयास की नितान्त आवश्यकता है। जल्द ही उदयपुर सम्भाग के जनजाति अंचल में जाकर बालश्रम विषय पर समुदाय से सीधा संवाद भी करुंगा। उक्त विचार श्रम राज्य मंत्री, राजस्थान सरकार टीकाराम जूली ने गायत्री सेवा संस्थान, उदयपुर द्वारा 14 नवम्बर से 20 नवम्बर, 2020 तक आयोजित बाल अधिकार सप्ताह के तहत अन्तर्राष्ट्रीय बाल अधिकार दिवस की पूर्व संध्या पर आयोजित आॅनलाईन ई-बालसभा को मुख्य अतिथि के रुप में संबोधित करते हुए व्यक्त किए।
कार्यक्रम की अध्यक्षता राजस्थान राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग, राजस्थान सरकार की अध्यक्ष संगीता बेनिवाल ने करते हुए गायत्री सेवा संस्थान द्वारा बाल अधिकारों के संरक्षण हेतु किए जा रहे प्रयासों की सराहना करते हुए बाल अधिकारों के हनन की सूचना मिलने पर आयोग को तुरन्त सूचित करने का आह्वान किया। बेनिवाल ने बताया कि आयोग को किसी भी ब्लाॅक या गाँव से शिकायत मिलने पर हम सदैव तुरन्त कार्यवाही हेतु तत्पर रहते है। बच्चों की सहायता के लिए निःशुल्क चाइल्ड हेल्प लाईन 1098 का भी संचालन किया जा रहा है।
कार्यक्रम में राजस्थान बाल आयोग के सदस्य एवं बाल अधिकार विशेषज्ञ डाॅ. शैलेन्द्र पण्ड्या ने बाल अधिकारों की जानकारी देते हुए, केन्द्र एवं राज्य सरकार द्वारा संचालित सामाजिक सुरक्षा योजनाओं से सभी को अवगत करवाया।
ई-बाल सभा में राजस्थान बाल आयोग की सदस्य वन्दना व्यास ने सुपोषण वाटिका की जानकारी देते हुए स्वयं सेवी संस्थाओं से कुपोषण मुक्त समाज हेतु आगे आकर सहयोग की अपील की।
कार्यक्रम में विषय विशेषज्ञ के तौर पर प्रोफेसर डाॅ. महावीर जैन, विरेन लोबो, आई.आई.एफ.एल. फाउण्डेशन की निदेशक मधु जैन ने भी विचार रखे।
यह पहला अवसर था जब उदयपुर सम्भाग के छः जिलों से बच्चे आॅनलाईन मंच का उपयोग करते हुए स्थानीय मुद्दे राजस्थान सरकार के सामने रखने जा रहे थे।
‘‘ई-बालसभा - एक पहल’’
    गायत्री सेवा संस्थान की संयुक्त निदेशिक अदिति उपाध्याय ने जानकारी देते हुए बताया कि प्रति वर्ष संस्थान द्वारा 14 नवम्बर (बाल दिवस) से 20 नवम्बर (अन्तर्राष्ट्रीय बाल अधिकार दिवस) तक ‘‘बाल अधिकार सप्ताह’’ मनाया जाता है। इस वर्ष कोरोना महामारी के चलते वृहद् स्तर पर बाल सभा का आयोजन आॅनलाईन वेबिनार के माध्यम से किया गया। कार्यक्रम में अतिथियों एवं मुख्य वक्ताओं के अतिरिक्त, उदयपुर सम्भाग के समस्त छः जिलों के सहायक निदेशक बाल अधिकारिता विभाग, श्रम विभाग, बाल कल्याण समिति, स्थानीय स्वयं सेवी संस्थाओं सहित 100 से अधिक बच्चे सम्मिलित हुए।
‘‘बच्चो ने उठाया गांवों में शिक्षा का मुद्दा’’
    उदयपुर जिले के सलुम्बर एवं सराड़ा पंचायत में संचालित बाल संसद के प्रतिनिधि के तौर पर अनिता मीणा ने बताया कि हमारे गांव और यहां के बच्चों के पास न मोबाईल है न लेपटाॅप हम आॅनलाईन शिक्षा कैसे प्राप्त करेंगे। वही प्रतापगढ़ जिले के पीपलखुंट पंचायत समिति के बच्चों ने बालश्रम रोकने एवं परिवार को रोजगार दिलवाने की बात रखी।
    ई-बालसभा का संचालन एवं धन्यवाद समन्वयक नितिन पालीवाल एवं सुनिल दुबे ने किया।


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Udaipur News
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like