माँ अम्बे के पी संघवी राजकीय विधि महाविद्यालय सिरोही के परिसर में लगाये ४५१ पौंधे

( Read 594 Times)

05 Aug 22
Share |
Print This Page

माँ अम्बे के पी संघवी राजकीय विधि महाविद्यालय सिरोही के परिसर में लगाये ४५१ पौंधे

सिरोही। आजादी के अमृत महोत्सव में माँ अम्बे के पी संघवी राजकीय विधि महाविद्यालय सिरोही के निर्माणधीन भवन परिसर में आज गुरूवार को जिला कलक्टर डॉ भंवरलाल ने नीम का एक पौंधा लगाकर पौंधारोपण की शुरूआत की। के पी संघवी चेरिटेबल ट्रस्ट पावापुरी की ओर से बागवान हीराभाई पटेल की देखरेख में परिसर में विभिन्न प्रजातियों के ४५१ पौंधे लगाए गए। इस अवसर पर नगर परिषद् के सभापति महेन्द्र मेवाडा, कॉलेज प्राचार्य डॉ विजय कुमार व कॉलेज के स्टूडेंट्स ने भी पौंघे लगाए। कलक्टर ने लगाए गए पौंधारोपण व उनकी व्यवस्थाओं को देखा व कहा कि के पी संघवी परिवार एंव ट्रस्ट का पर्यावरण के प्रति जो अद्भत लगाव है उसके कारण ही पावापुरी तीर्थ व जीव मैत्रीधाम के बाद रेवदर कॉलेज व अब यह लॉ कॉलेज भी आने वाले वर्षो में हरियाली की एक मिशाल बनेगा। उन्होंने भवन का अवलोकन करते हुए कहा कि अब दिसम्बर में लॉ कॉलेज के लिए नया भवन स्टूडेंट्स को उपलब्ध हो सकेगा। सभापति महेन्द्र मेवाडा ने बिगडते पर्यावरण को देखते हुऐ कहा कि हर व्यक्ति को पौधारोपण को अपने जीवन का अंग बनाना होगा। उन्होने कहा कि संघवी परिवार केवल पौंधारोपण नही करता बल्कि उस पौंधे की तब तक देखभाल करता है जब तक वो पेड नही बन जाता हैं। पावापुरी ट्रस्ट के मेनेजिंग ट्रस्टी महावीर जैन ने पौंधारोपण व कॉलेज भवन व एप्रोच रोड की कलक्टर को पुरी जानकारी दी। प्रबंधक सुरेन्द्र जैन व कॉलेज प्राचार्य डॉ विजय कुमार ने गुलदस्ता देकर कलक्टर व सभापति का स्वागत किया। ट्रस्ट ने कॉलेज में तारबंदी करवाकर यह पौधारोपण करवाया हैं। राज्य सरकार ने कॉलेज के लिए कुल ३५ बीघा भूमि आंवटित की है जिस पर के पी संघवी चेरिटेबल ट्रस्ट ५ करोड की लागत से भवन बनाकर सरकार को सुपुर्द करेगा। इससे पूर्व ट्रस्ट ने रेवदर में भी डिग्री कॉलेज भवन बनाकर ससरकार को सौंपा जिसमें इस वर्ष कला-वाणिज्य व विज्ञान विषय में ९०० से अधिक स्टूडेंट्स शिक्षा ग्रहण करेंगे। रेवदर कॉलेज मे भी ट्रस्ट ने एक हजार से अधिक पौंधे लगाये जो आज पेड के रूप मे कॉलेज की सुन्दरता को बढा रहे हैं।


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Rajasthan , ,
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like