GMCH STORIES

मोदी ने पूछा बुरे दिन गए या नहीं गए

( Read 22715 Times)

25 May 15
Share |
Print This Page
मोदी ने पूछा बुरे दिन गए या नहीं गए दीनदयाल धाम में अपने भाषण की शुरूआत मोदी ने वहीं से की जहां वह पूर्व की रैलियों में अपनी बात छोड़ चुके हैं। यानि पूर्व की यूपीए सरकार पर तीखे हमलों से। भाषण की शुरूआत में मोदी का जोर अपनी सरकार की उपलब्धियों को गिनाने से ज्यादा पूर्व की यूपीए सरकार की नाकामियों और उनके भ्रष्टाचार पर तंज कसने पर रहा।

कहा कि सालभर पहले चुनाव नहीं हुआ होता तो देश आज और भी गर्त में जा रहा होता। उन्होंने लोगों से सीधे रूबरू होते हुए पूछा की भाईयों मुझे बताइए कि पिछले राज में रोज घोटाले होते थे या नहीं, दिल्‍ली की सरकार रिमोट से चलती थी या नहीं, भ्रष्टाचार में अफसरों और नेताओं को जेल जाना पड़ता ‌था या नहीं।

सालभर पहले कितने बुरे दिन थे, क्या वो बदले या नहीं, अच्छे दिन आए कि नहीं। इसके बाद मोदी ने अपनी सरकार की उपलब्धियों का जिक्र करते हुए कहा कि सालभर में कहीं से कोई घोटाले की खबर तो नहीं आई, कोई भाई-भतीजावाद का मामला तो सामने नहीं आया। आप बताइये कि सालभर में अच्छे दिन आए या नहीं। हां कुछ लोगों के बुरे दिन आए हैं जो भ्रष्टाचार की उम्‍मीद करते थे। मोदी ने कहा कि उनके और भी बुरे दिन आने वाले हैं।

मोदी ने भ्रष्टाचार के मुद्दे को प्रमुखता से उठाते हुए कहा कि हमारी सरकार ने जनधन योजना के जरिए आम जनता के पैसों को खाने वाले बिचौलियों की भूमिका को पूरी तरह खत्म कर दिया। अब सीधा पैसा आम आदमी के खाते में पहुंचेगा। किसानों की मौत पर कहा कि आजादी के 60 साल बाद भी किसान परेशान क्यों है इसका जवाब सबको ढूंढना चाहिए।

यूपीए सरकार पर सवाल उठाते हुए मोदी ने अपने संबोधन में यूपीए को घोटालों की सरकार बताया। उनहोंने कहा कि पिछले एक वर्ष के दौरान भारत की धाक पूरी दुनिया में बढ़ी है। देश में घोटालों की सरकार का खात्मा हुआ है और भ्रष्टाचार में गिरावट आई है। उन्होंने कहा कि पिछले एक वर्ष के शासनकाल में किसी तरह के घोटाले की खबर किसी ने नहीं सुनी होगी। जबकि यूपीए सरकार में यह बेहद आम बात थी। उन्होंने देश की राजनीति में बदलाव लाने के लिए लोगों का शुक्रिया भी अदा किया। उन्होंने कांग्रेस काे परिवारवाद की राजनीति करने वाली पार्टी बताते हुए कहा कि देश की जनता ने भाजपा को पूर्ण बहुमत दिलाकर परिवारवाद की राजनीति को जड़ से उखाड़ फेंका। पीएम ने कहा कि पिछले तीस वर्षों में जितनी बिजली पैदा हुई उतनी एनडीए के एक वर्ष के शासन में पैदा हुई है। सरकार की तिजोरी मे 27 हजार करोड़ रुपये पड़े हुए सड़ रहे थे जिन्हें पिछली सरकार ने खर्च नहीं किया। यह पैसा देश की गरीब जनता का था।

अपने संबोधन में उन्होंन रैली में आए लोगों से पूछा कि भाजपा सरकार के बनने के बाद बुरे दिन गए या नहीं। उन्होंने कहा कि अब जिनके बुरे दिन आए हैं वह चीख रहे हैं और चिल्ला रहे हैं। कांग्रेस पर निशाना साधते हुए मोदी ने कहा कि जिनके बुरे दिन अब आए हैं उनके अच्छे दिन आने की अब कोई गारंटी नहीं है। पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि पहले केंद्र से एक रुपया राज्य तक जाते-जाते कुछ पैसे ही रह जाता था, लेकिन अब ऐसा नहीं है। उन्होंने कहा कि पिछले एक वर्ष में भाजपा की सरकार ने भ्रष्टाचार मुक्त शासन और प्रशासन देश की जनता को दिया है। मोदी ने कहा कि अब दिल्ली के गलियाराें में दलालों के लिए कोई जगह नहीं बची है। अब दिल्ली से चला एक एक पैसा राज्य तक पहुंचता है।

कांग्रेस शासन का जिक्र करते हुए मोदी ने कहा कि पिछले साठ वर्षों में तीन लाख किसानों ने आत्महत्याएं की हैं। अपनी सरकार के कामों का जिक्र करते हुए कहा कि अब सिलेंडर सब्सिडी का पैसा सीधे खाते में पहुंचता है। भ्रष्टाचार के लिए कोई जगह नहीं रही है। मोदी ने कहा कि केंद्र सरकार ने ऐसी व्यवस्था की है जिससे केंद्र से चला पूरा पैसा राज्य तक पूरा पहुंचता है। इस मौके पर उन्होंने केंद्र द्वारा शुरू की गई सोएल हैल्थ कार्ड का भी जिक्र किया। उन्होंने लोगों तक स्वच्छ पानी पहुंचाने का भी वादा वहां मौजूद जनता से किया है।

पीएम के संबोधन से पहले रैली को भाजपा सांसद और बॉलीवुड की अदाकारा हेमा मालिनी ने संबोधित किया। उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि अगले चार वर्षों मथुरा विकास की दौड़ में सबसे आगे होगा। उन्होंने कहा कि हम सभी को मोदी के जीवन से सीख लेनी चाहिए। इस रैली में पहुंचने पर पीएम मोदी का स्वागत 365 कमल के फूलों की माला पहनाकर किया गया। केंद्र सरकार के एक वर्ष पूरा होने के उपलक्ष्य में इस रैली का आयोजन किया गया है। यहां से पीएम कुछ नई योजनाओं की शुरुआत भी कर सकते हैं। केंद्र सरकार के एक वर्ष पूरा होने पर भाजपा ने इसको जनकल्याण पर्व का नाम दिया है। इसकी शुरुआत आज से हो रही है।

रैली में मोदी ने किए कई वादे :-
पांच वर्षों में देश की नदियों को जोड़ने की योजना, उवर्रक के नए कारखाने लगाए जाएंगे, बीस लाख टन यूरिया का उत्पादन करने का वादा, किसानों को सस्ते और अच्छे बीज देने का वादा, सभी कारखानों को समान कीमत पर गैस मुहैया कराने का वादा, उवर्रक की पुरानी मशीनों को बदलने का वादा , चोरी रोकने के लिए उवर्रकों पर नीम कोटिंग करने का वादा, 2022 तक हर गरीब को घर देने का वादा, सभी के लिए घर शिक्षा और शौचाल्य का वादा।
This Article/News is also avaliable in following categories : Headlines
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like