टिड्डी नियंत्रण के सार्थक प्रयास

( Read 2786 Times)

23 May 20
Share |
Print This Page
टिड्डी नियंत्रण के सार्थक प्रयास

जैसलमेर / अन्तर्राष्ट्रीय सीमावर्ती क्षेत्र जैसलमेर जिले में टिड्डी नियंत्रण की दृष्टि से व्यापक प्रयास किए जा रहे हैं। जिला प्रशासन के निर्देशों के अनुरूप टिड्डी नियंत्रण और कृषि विभाग के संयुक्त प्रयासों के साथ ही ग्रामीण किसानों की सहभागिता से टिड्डी नियंत्रण गतिविधियों को सम्बल मिला है।

हाल के वर्षों में पाकिस्तान की ओर से टिड्डी दलों के आगमन का दौर बढ़ा है और इसके चलते अब बीएसएफ एवं जिला प्रशासन के सतर्क सूचना तंत्र की बदौलत टिड्डी नियंत्रण अभियान को अपेक्षाकृत अधिक सफलता प्राप्त हो रही है।

इस वर्ष जैसलमेर जिले में पाक सीमा पार से टिड्डी दलों का आगमन हुआ। सबसे पहले सीमा पर तनोट, बबलियान आदि क्षेत्रों में अप्रेल के दूसरे सप्ताह में हॉपर्स देखे गए जिनका समय रहते नियंत्रण कर लिया गया। लेकिन इसके उपरान्त 30 अप्रेल से आंशिक क्षेत्रों में वयस्क टिड्डी दलों का विभिन्न स्थानों पर छितराई हुई अवस्था में प्रकोप देखा गया जिसका नियंत्रण टिड्डी नियंत्रण विभाग की टीमों ने किया।

टिड्डी नियंत्रण विभाग द्वारा जिले के विभिन्न तहसील क्षेत्रों में कुल 34 स्थानों पर कुल 4 हजार 029 हैक्टेयर क्षेत्र में टिड्डी नियंत्रण का कार्य सफलतापूर्वक किया गया। कई दिनों के बाद शुक्रवार को फिर टिड्डियों के आगमन की सूचना पाने के उपरान्त जैसलमेर जिला मुख्यालय पर पुलिस लाईन तथा समीपवर्ती जेठवाई गांव में 285 हैक्टेयर क्षेत्र में टिड्डी नियंत्रण कार्य को अंजाम दिया गया।

फायर ब्रिगेड़ ने आसान किया टिड्डी नियंत्रण

खास बात यह रही कि जेठवाई क्षेत्र में तीन फायर ब्रिगेड़ का प्रयोग इस कार्य में किया गया। अग्निशमन वाहनों में कीटनाशक रसायन भर इन इनके माध्यम से व्यापक स्तर पर स्प्रे से टिड्डी नियंत्रण का कार्य अधिक आसान रहा। इनके अलावा तीन ट्रैक्टर एवं पाँच टिड्डी नियंत्रण वाहनों से टिड्डी दल का नियंत्रण किया गया।

इन क्षेत्रों में अब तक किया गया नियंत्रण

टिड्डी नियंत्रण विभाग द्वारा जैसलमेर तहसील क्षेत्र में 3 हजार 244 हैक्टेयर, पोकरण तहसील क्षेत्र में 630 हैक्टेयर और फतेहगढ़ तहसील क्षेत्र में 155 हैक्टेयर क्षेत्र में कीटनाशकों का छिड़काव कर टिड्डी नियंत्रण कार्य में सफलता अर्जित की गई। इनमें टिड्डी प्रभावित गांवों में मेहराजोत, पाबुपाडिया, म्याजलार, कुछड़ी, आसुतार, जैसुराणा, जेठवाई,  इन्दिरा गांधी नहर परियोजना क्षेत्र में 137,140,173 आरडी तथा जैसलमेर शहरी क्षेत्र शामिल है जिनमें नियंत्रण कार्य किया गया।

सार्थक प्रयासों के साथ पैनी नज़र

टिड्डी नियंत्रण की दृष्टि से जिला प्रशासन द्वारा व्यापक स्तर पर ऎहतियाती उपाय सुनिश्चित किए गए हैं। इसके साथ ही टिड्डी आगमन से संबंधित त्वरित सूचना प्राप्ति के लिए सभी प्रकार के स्रोतों को सक्रिय किया जा चुका है। जिले में ग्रामीणों और किसानों की सहभागिता की वजह से टिड्डी नियंत्रण के प्रयासों को सम्बल प्राप्त हुआ है। जिले के किसानों की भागीदारी के लिए सर्वत्र व्यापक सराहना भी हुई है।

बीएसएफ से लगातार सम्पर्क

सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) से लगातार समन्वय और संचार बना हुआ है ताकि सीमा पार से टिड्डी आगमन की सूचना तत्काल प्राप्त हो सके और नियंत्रण गतिविधियों को मूर्त रूप दिया जा सके। इसके लिए बीएसएफ के साथ जिला प्रशासन, टिड्डी विभाग एवं कृषि विभाग के अधिकारियों की बैठक का आयोजन किया जाकर तत्काल सूचना प्राप्ति की रूपरेखा के अनुरूप कार्य किया जा रहा है। 

जिला स्तर पर टिड्डी नियत्रंण प्रबंधन आदि व्यवस्थाओं के लिए जिला स्तरीय कमेटी का गठन किया जा चुका है। वर्तमान मे जिले मे फसलों की बुवाई नगण्य है इस वजह से अभी तक टिड्डी प्रकोप से फसले प्रभावित नहीं हुई है।

17 वाहनों से टिड्डी नियंत्रण

पूर्व के वर्षों के मुकाबले इस बार टिड्डी नियंत्रण के लिए अपेक्षाकृत अधिक संसाधन विभाग को मुहैया कराए गए हैं।  टिड्डी विभाग को 9 नियत्रंण वाहन उपलब्ध करवाये गये हैं एवं 8 वाहन टिड्डी मण्डल कार्यालय के पास हैं। इस प्रकार कुल 17 वाहनो से नियत्रंण एवं सर्वे का कार्य किया जा रहा है।  जिला स्तर पर नियत्रंण वाहनों/ सर्वे वाहनों एवं टेक्टर माउन्टेड स्प्रेयर के लिए दरों का निर्धारण जिला स्तरीय कमेटी द्वारा कर लिया गया है।

राज्य स्तर से 100 टेक्टर माउन्टेड स्प्रेयर की स्वीकृति प्राप्त हुई है जिसका ग्राम पंचायत स्तर पर चिह्निकरण कर लिया गयाहै ताकि आवश्यकता अनुसार टिड्डी नियत्रंण कार्य में उपयोग लिया जा सके। उपखण्ड स्तर पर उपखण्ड अधिकारी की अध्यक्षता में टिड्डी नियत्रंण प्रबंधन आदि व्यवस्थाओं के लिए कमेटी का गठन किया जा चुका है।

जिला स्तर पर टिड्डी मण्डल कार्यालय, जिला प्रशासन, एवं कृषि विभाग में नियंत्रण कक्ष स्थापित कर दिये गये है । जिले में टिड्डी नियत्रंण के लिए ग्राम सेवा सहकारी समितियों पर रसायनों की उपलब्धता संतोषजनक है।

17 सर्वे दल जुटे हैं इस काम में

 जैसलमेर जिले में कृषि तथा राजस्व विभाग के अधिकारियों के कुल 17 सर्वे दलों का गठन किया गया है जिनके द्वारा क्षेत्र मे 10 वाहनाें से आवश्यकता अनुसार सर्वे एवं टिड्डी नियत्रंण कार्य में सहयोग किया जा रहा है।

अबकि बार ठोस प्रयास

उप निदेशक-कृषि(विस्तार) राधेश्याम नारवाल के अनुसार इस बार जिला कलक्टर नमित मेहता के निर्देशों के अनुसार जिले भर में टिड्डी नियंत्रण के लिए व्यापक स्तर पर ऎहतियाती उपाय सुनिश्चित किए गए हैं और सीमा पार से टिड्डी आगमन पर पैनी नज़र बनी हुई है।

 


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Jaislmer news
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like