साइलेंट किलर हाइपरटेंशन का खतरा बढ़ रहा

( Read 1243 Times)

11 Oct 19
Share |
Print This Page

साइलेंट किलर हाइपरटेंशन का खतरा बढ़ रहा

कार्डियो वैस्कुलर रोग के प्रमुख कारणों में से एक उच्च रक्तचाप देश के शहरी और ग्रामीण दोनों इलाको में तेजी से बढ़ रहा है और चिंताजनक बात यह है कि इससे ग्रस्त 50 प्रतिशत लोगों को इसके बारे में पता ही नहीं होता तथा जिन्हें मालूम भी है उनमें से केवल 50 प्रतिशत ही उसे नियंत्रित करने के प्रति सजग हैं। अधिक आयु के ही नहीं बल्कि कम उम्र के लोग भी इसकी चपेट में हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि इस बीमारी के बढ़ने की गति यही रही तो 2025 में करीब 21 करोड़ लोग इसकी चपेट में होगें। प्रतिष्ठित विज्ञान जनरल लैंसेट में हाल में प्रकाशित शोध में कहा गया है कि भारत में कार्डियो वैस्कुलर रोगों के कारण होने वाली मृत्यु दर अधिक है। मैक्स अस्पताल में कार्डियोलॉजी विभाग के निदेशक एवं इंटरवेन्शनल कार्डियोलाजी के प्रमुख डा. मनोज कुमार ने बताया कि वंशानुगत और कई मामलों में खराब जीवन शैली की वजह से होने वाले उच्च रक्तचाप को हार्ट अटैक के लिए बड़ा रिस्क फैक्टर माना जाता है। इसका किडनी पर भी बुरा असर पड़ता है तथा इससे मस्तिष्काघात का भी खतरा बना रहता है। उच्च रक्तचाप के प्रति सावधानी बरतने के लिए जरुरी है कि 40 साल की उम्र के बाद इसकी नियमित जांच कराई जाए। योग , खान-पान समेत जीवन शैली में कई प्रकार के सुधार करके इसे नियंत्रित किया जा सकता है।


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Health Plus
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like