GMCH STORIES

गहलोत सरकार के खिलाफ 

( Read 1337 Times)

25 Jan 23
Share |
Print This Page
गहलोत सरकार के खिलाफ 

नई दिल्ली। भाजपा का दूसरी बार राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने के तुरन्त बाद जे पी नड्डा की राजस्थान यात्रा केअपने मायने है। कहने को जेपी नड्डा जयपुर में बीजेपी प्रदेश कार्यसमिति की बैठक को संबोधित करने आए हैलेकिन  असली में उनका मक़सद राजस्थान में दस माह बाद होने वाले विधानसभा चुनाव से पहलें गहलोतसरकार के खिलाफ चुनावी शंखनाद करना है । 

साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की 28 जनवरी को भीलवाड़ा जिले के आसींद में होने वाली रैली  के लिएवातावरण तैयार करना और देवनारायण भगवान के जयंती समारोह के बहाने गहलोत-पायलट ग्रूप के मतभेदोंका लाभ उठा कर गुर्जर वोटों का ध्रुवीकरण करना भी है।हालाँकि इस दौरान वे अपने छोटे बेटे हरीश नड्डा कीशादी की जिम्मेदारी भी पूरी करेंगे।

नड्डा की इस यात्रा ने यह संकेत दे दिया है कि भाजपा का शीर्ष नेतृत्व के निशाने पर अब राजस्थान सबसे ऊपरहै ।

जयपुर में आज कई घटनायें एक साथ हुई। सर्वप्रथम विधानसभा के बजट सत्र के शुभारम्भ पर राज्यपालकलराज मिश्र के अभिभाषण का पेपर लीक मामले को मुद्दा बना भाजपा ने प्रतिपक्ष के नेता गुलाब चन्दकटारिया के नेतृत्व में वेल में जाकर ज़बर्दस्त विरोध किया।परिणाम स्वरूप राज्यपाल अपना भाषण पूत नहीपढ़ पायें।

 

दूसरा जेपी नड्डा के  जयपुर पहुँचने पर बहुत गर्म जोशी से स्वागत हुआ। तीसरा जयपुर के जवाहर सर्किलस्थित एंटरटेनमेंट पैराडाइज (एपी)में में गर्म जोशी भरा भाषण रहा । इस मौके पर पार्टी की राष्ट्रीय उपाध्यक्षएवं राज्य की पूर्व मुख्य मंत्री वसुन्धरा राजे,प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया, राज्य  प्रभारी और राष्ट्रीय महामंत्रीअरुण सिंह, सह प्रभारी विजया राहटकर, संगठन महामंत्री चंद्रशेखर,राज्य विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेतागुलाब चन्द कटारिया, उप नेता राजेंद्र राठौड़ सहित सभी वरिष्ठ नेता मौजूद रहें।

चुनावी साल में हो रही बीजेपी प्रदेश कार्यसमिति की इस बैठक में नड्डा ने राष्ट्रीय कार्यकारिणी में दिए अपनेसम्बोधन की तर्ज पर  ही राजस्थान में बीजेपी की सत्ता वापसी के लिए पार्टी नेताओं को जी जान से जुट जानेकी सीख दी और  इशारा किया कि राजस्थान की जनता ने प्रदेश में बारी बारी से सत्ता बदलने की परम्परा कोक़ायम रखने का फैसला कर लिया हैं।नड्डा के प्रदेश की कांग्रेस सरकार की  कमज़ोरियों को उजागर करते  हुएचुनावी साल की रणनीति तय करने का आह्वान भी किया। साथ ही  केंद्र की मोदी सरकार की जनहित कीयोजनाओं और उपलब्धियों को जनता तक पहुंचाने, पीएम के आह्वान पर घोषित- मिलेट्स ईयर-2023 (मोटाअनाज वर्ष) में राज्य के लोगों में जागरूकता फैलाने, 28 जनवरी को पीएम नरेंद्र मोदी की भीलवाड़ा के आसींदमें रैली और देवनारायण भगवान के जयंती समारोह को बड़े रूप में मनाने सहित बजट सत्र में गहलोत सरकारको घेरने का मंत्र दिया। साथ ही जी -20 समूह में भारत को मिलें नेतृत्व को उभारने की भी अपील की।

 

साथ ही उन्होंने पार्टी पदाधिकारियों के साथ गहलोत सरकार की बजट घोषणाओं के वादे पूरे नहीं होने, पेपरलीक और बेरोजगारी, किसान कर्जमाफी जैसे मुद्दों पर प्रदेश कांग्रेस सरकार को विधानसभा के बजट सत्र केदौरान घेरने, चुनावी साल में पार्टी को मजबूत करने की रणनीति बनाने आदि पर चर्चा की । साथ ही कांग्रेससरकार को  विधानसभा के अंदर और बाहर सड़क पर घेर कांग्रेस के खिलाफ माहौल खड़ा करने तथा प्रदेश केजनहित से जुड़े मुद्दों पर सरकार को घेरने पर भी गहन चर्चा की। इसके अलावा कमजोर बूथों पर पार्टीकार्यकर्ताओं की मजबूत टीम खड़ी करने,  प्रदेश के अलग-अलग जिलों में प्रतिनिधि सम्मेलन करने, जिला स्तरपर धरने-प्रदर्शन करने, नए युवा वोटर्स को पार्टी से जोड़ने, फोटो युक्त बूथ समिति तैयार करने जैसे मुद्दों परचर्चा की गई।

इधर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उनकी सेना के क्षत्रपों शांति धारीवाल डॉ महेश जोशी और प्रताप सिंहखाचरियावास आदि ने भी बीजेपी पर अपने हमले तेज कर पार्टी में नेतृत्व के सवाल को उछालने की रणनीतिअपनाने और प्रदेश सरकार की देश भर में लोकप्रिय हों रहीं पुरानी पेन्शन योजना ओपीएस तथा स्वास्थ्ययोजनाओं के बलबूते पुनः सत्ता में लोटने का रोडमेप  बना लिया है।

—-


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Headlines
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like