BREAKING NEWS

रेलवे के कायाकल्प के लिये सरकार प्रतिबद्ध-जोशी

( Read 1209 Times)

14 Feb 20
Share |
Print This Page
रेलवे के कायाकल्प के लिये सरकार प्रतिबद्ध-जोशी

चित्तौडगढ - केन्द्र सरकार रेलवे के आधारभूत ढाचे सहित यात्री सुविधा, विद्युतिकरण दोहरीकरण तथा रेलवे स्टेशन आधुनिकीकरण के साथ-साथ रेलवे के समग्र कायाकल्प को लेकर कटिबद्ध हैं। उक्त बात सांसद सी.पी.जोशी ने शुक्रवार को रलवे अधिकारियों के समक्ष बातचित के दौरान कहीं। उत्तर पश्चिम रेलवे के महाप्रबन्धक आनन्द प्रकाश एवं मण्डल रेल प्रबन्धक नवीन कुमार ने चित्तौडगढ रेलवे स्टेशन पर विशेष मुलाकात की। मुलाकात के दौरान चित्तौडगढ लोकसभा के उत्तर पश्चिम रेलवे क्षेत्र में चल रहे विकास कार्यो को लेकर अधिकारियों ने सांसद जोशी को अवगत कराया। इस अवसर पर सांसद जोशी ने कहा कि सोनियाना, गंगरार, डेट, घोसुण्डा, नेतावल, पाण्डोली, कपासन, भूपाल-सागर, फतह नगर, मावली जंक्शन, भीमल, खेमली, देबारी आदि स्टेशनों सहित पूरे रेल मार्ग पर चल रहे विकास कार्यो की उचित निगरानी करे, विशेषकर रेलवे स्टेशनों पर होने वाले विकास पर चर्चा की। सांसद जोशी ने इस अवसर पर अधिकारियों को विभिन्न विकास कार्यो के प्रस्तावों से भी अवगत करायाउक्त प्रस्तावों में ग्रा.प. बोयणा तह. मावली, जिला उदयपुर में ट्रेनो के ठहराव हेतु रेलवे स्टेशन की अति आवश्यकता है। जिससे आस - पास के निवासियों को रेलवे की सुलभ यात्रा का लाभ मिल सकेगा। यहां से प्रतिदिन लगभग ४००० लोग उदयपुर, फतहनगर, कपासन व चित्तौडगढ डेली अपडाउन करते हैं। इसलिए ट्रेनो के ठहराव हेतु रेलवे स्टेशन का निर्माण कराया जाये।

मावली जं. रेलवे स्टेशन अत्यन्त महत्वपुर्ण स्टेशन है। यहॉ पर लगभग सभी यात्री गाडीयों का स्टोपेज है, लेकीन कोच गाईडिंग सिस्टम तथा कोच डिस्प्ले सिस्टम के नही होने के कारण यहॉ पर यात्रीयों को काफी परेशानी का सामना करना पडता है। यहॉ पर महिलाओं तथा वरिष्ठ नागरिकों को अपने कोच की सही स्थिति पता नही चल पाती हैं तथा सभी ट्रेनों का मात्र १ अथवा २ मिनट ही स्टोपेज होने के कारण जल्दबाजी में हमेशा दुर्घटना होने की संभावना बनी रहती है। अतः मावली जं. पर कोच गाइडेंस सिस्टम/कोच डिस्पले सिस्टम को स्थापित करवाने की आवश्यकता है।मावली से नाथद्वारा जाने वाले यात्रियों तथा वाहनों को मावली जं. स्टेशन से घने बाजार के साथ ५-६ किमी की दुरी तक उदयपुर-चित्तौडगढ हाईवे से घुम कर आना पडता है। मावली जं. आने तथा जाने दोनो समय में २ घन्टे का समय व्यर्थ हो जाता है। इस कारण से पुलिया संख्या ५१ से प्लेटफार्म नं १ तक पक्का रास्ता बन जाता हैं तो वाहनों को पुरे बाजार तथा हाईवे से घुम कर नही जाना पडेगा। इससे नाथद्वारा, कांकरोली, राजसमंद की तरफ से स्टेशन को आने वाले वाहन बाजार में गये बिना ही सीधे प्लेटफार्म नं. १ तक पंहुच पायेंगे।कानोड रेलवे स्टेशन का नाम अपग्रेड होने वाले रेलवे स्टेशन की सूची में नही हैं। जबकि कानोड रेलवे स्टेशन से लगभग एक लाख का आबादी क्षेत्र जुडा हुआ है। पूर्व में भी कानोड रेलवे स्टेशन पर क्रासिंग, माल गाडी गोदम व मालगाडी लोडग की सुविधा विद्यमान थी। कानोड रेलवे स्टेशन पर रेलवे की पर्याप्त भूमि की उपलब्धता भी है। इसे भी अपग्रेड कर बडा रेलवे स्टेशन बनाया जाये।ग्राम - बागथल, ग्राम पंचायत - धमानिया, तह.-वल्लभनगर जो की वर्तमान में प्रधानमंत्री ग्राम सडक योजना की एकमात्र सडक से जुडा है लेकिन मावली-बडीसादडी रेलवे आमान परिवर्तन कार्य से इस सडक की वर्तमान फाटक को बन्द किया जा रहा है, चूंकि यह गांव पहले से प्रधानमंत्री ग्राम सडक योजना से जुडा हुआ है तो भविष्य में यहॉ के निवासी कभी भी रोड से नही जुड पायेंगे, अतः आपसे निवेदन है की मावली-बडीसादडी रेलवे लाइन के फाटक संख्या १६ व १७ के मध्य में अन्डरब्रिज की स्वीकृति प्रदान करवायें।बागथल से वल्लभनगर सडक मार्ग पर स्थित ग्राम - धमानिया, पं.स. - भीण्डर के रेल मार्ग L.C. No.16&C तथा L.C. No.17&C के मध्य पर अण्डरपास निर्माण करवाया जाये।  कपासन रेलवे स्टेशन पर निर्माणाधीन ओवरब्रिज का कार्य रूका हुआ जिसे शिघ्रता से पूर्ण कराया जाये। कपासन रेलवे स्टेशन पर स्वीकृत तीसरी रेलवे लाईन का निर्माण आरम्भ करवाया जाये तथा प्लेटफार्म शेड एवं यात्री सुविधाओं का भी निर्माण कराया जाये। कपासन रेलवे स्टेशन पर बन रहे फूट ओवर ब्रिज की लम्बाई बढाकर बुद्धाखेडा ग्रामवासियों के आवागमन हेतु सुविधा उपलब्ध करायी जाये। कपासन स्टेशन से उदयपुर मार्ग की तरफ बने रेलवे अण्डर ब्रिज की क्षतिग्रस्त सडक को ठीक करवाया जाये। स्थानीय प्लेटफॉर्म यात्री ट्रेनों के क्रासिंग के लिए तीसरी लाईन का निर्माण कराया जाये।उदयपुर से कोटा एवं कोटा से उदयपुर के लिये गाडी संख्या ०९६७९-०९६८० आरम्भ की गई। इस गाडी के आरम्भ होने से यात्रियों को उदयपुर से कोटा एवं कोटा से उदयपुर आने एवं जाने के लिये अत्यंत सुलभ साधन उपलब्ध हो पाया। रेलवे द्वारा इस गाडी को ३१ दिसम्बर २०१९ से नहीं चलाया जा रहा हैं। क्षेत्रवासियों एवं यात्रियों की सुविधा को ध्यान में रखते हुये इस गाडी को नियमित संचालित कराया जाय।जयपुर से पुणे वाया चित्तौडगढ ट्रेन आरम्भ की जाये। उदयपुर-हरिद्वार १९६०९/१९६१० ट्रेन को सप्ताह में सातों दिन चलाया जाये। अमृतसर-अजमेर ट्रेन १९६१२ का उदयपुर तक विस्तार किया जाये। मेवाड वागड के लोंगो को उत्तर भारत में जाने के लिये वर्तमान में असुविधा होती है अमृतसर से अजमेर तक चलने वाली ट्रेन का उदयपुर तक विस्तार होने से यात्रियो को लाभ मिलेगा। उदयपुर सिटी-बान्द्रा सपरफास्ट एक्सप्रेस १२९९५-१२९९६ एवं उदयपुर खजुराहो १९६६५-१९६६६ का एवं २२९०१-२२९०२ का कपासन स्टेशन पर ठहराव किया जाये।उदयपुर-जयपुर इंटरसिटी एक्सप्रेस १२९९१-१२९९२ का चन्देरिया स्टेशन पर ठहराव किया जाये।

गंगरार के निकट भीलवाडा-चित्तौडगढ रेल लाईन पर एल.सी. संख्या ७९ पर यातायात का अत्यन्त दबाव रहता है। इस रूट पर ट्रेनों की अधिक आवाजाही के कारण फाटक अधिकतर समय बन्द रहती है जिसके कारण से लोगों को अत्याधिक परेशानी का सामना करना पडता है।अतः इस संबध में मेरा आपसे निवेदन हैं की क्षेत्रवासियों की समस्या को ध्यान में रखते हुये एल.सी. संख्या ७९ पर रेलवे अण्डरपास का निर्माण करावें।मावली से बडीसादडी रेलवे लाईन से गुजर रहे बडवाई से डूगला सडक मार्ग पर LC NO. ६२ पर रेलवे द्वारा निर्मित रेलवे अण्डर पास में पानी भरा रहने के कारण ग्रामीणों एवं यात्रियों को आने-जाने में काफी परेशानियों का सामना करना पड रहा हैं। इस रेलवे अण्डर पास से मात्र २५ फिट की दुरी पर बडवाई का पक्षी विहार तलाब है जिसका लेवल इस अण्डर पास से काफी ऊंचा है जिसकी वजह से तलाब के पानी से हो रहे रिसाव के कारण उक्त  अण्डर पास में पानी भरा रहता हैं। पानी भरे रहने के कारण मरीजों और विद्यार्थियों को भारी असुविधा हो रही हैं साथ ही यात्रियों एवं ग्रामीणों को आवाजाही में समस्या का सामना करना पड रहा हैं। उक्त अण्डर पास के पास ही छोटा अण्डर पास का निर्माण करवाया जाये। मावली से बडीसादडी रेलवे लाईन पर स्थित भीण्डर रेलवे स्टेशन पर निर्मित अण्डर पास में हमेशा पानी भरा रहना से यहाँ रेलवे ओवर ब्रिज का निर्माण कराया जाये जिससे यात्रियों, ग्रामीणों एवं विशेषकर विद्यार्थियों को विद्यालय जाने में हो रही असुविधा का स्थायी समाधान हो सकेगा एवं LC NO. ५५ पर भीण्डर से धारता जाने वाले मुख्य मार्ग पर गांव मदनपुरा व धारता के मध्य निर्माणधीन अण्डर पास में पानी भरने के कारण ग्रामीणों एवं यात्रियों को आने-जाने में काफी परेशानियों का सामना करना पड रहा हैं। उक्त अण्डर पास के पास ही छोटा अण्डर पास का निर्माण करवाया जाये। LC NO. ६२ (गांव बडवाई), LC NO.७१ (गांव करसीयो का खेडा), LC NO.७४ (गांव सारंगपुरा) पर निर्मित अण्डरब्रिज में भरे हुये पानी की निकासी का स्थायी समाधान एवं पानी नहीं भरे ऐसी व्यवस्था की जाये। मावली-बडीसादडी रेलवे लाईन फाटक संख्या ४१ से स्थानीय निवासियों एवं किसानों के खेत पर जाने का आम रास्ता हैं। इस फाटक से आवाजाही का सबसे प्रमुख मार्ग जाता हैं। अतः उक्त फाटक संख्या ४१ पर अण्डर पास का निर्माण कराया जाये अथवा इस फाटक के मार्ग को निकट स्थित फाटक संख्या ४० से जोडा जाये जिससे स्थानीय निवासियों एवं किसानों को आवाजाही में हो रही असुविधा का स्थायी समाधान हो सकेगा।मावली-बडीसादडी रेलवे लाईन पर LC NO. ५८ के पास राजस्व रिकार्ड में दर्ज मार्ग डाबियों का खेडा-जंवतरा मार्ग पर स्थित हैं, यह जंवतरा जाने एवं गांव डाबियों का खेडा से भीण्डर-कानोड जाने का प्रमुखतम मार्ग हैं। इस सडक मार्ग पर रेलवे लाईन निर्माण से ग्रामीणों और यात्रियों के आवाजाही का मार्ग बाधित हो रहा हैं, विशेषकर विद्यार्थियों को काफी समस्या का सामना करना पड रहा हैं। अतः मावली-बडीसादडी रेलवे लाईन पर डाबियों का खेडा-जंवतरा मार्ग के निकट आवाजाही हेतु अण्डर पास का निर्माण करावें।  कपासन के निकट स्थित रेलवे लाईन पर स्थित LC NO. ३३, ३४, ३९, ४१ पर निर्मित अण्डरब्रिज से आवागमन में यात्रियों एवं ग्रामीणों को असुविधा का सामना करना पड रहा हैं, LC NOण् ३३, ३९, ४१  में वर्षाकाल में स्थायी रूप से पानी भरा रहता है तथा पर इसका स्थायी समाधान किया जाये। LC NO. ३९ पर अण्डरपास निर्माण हेतु स्टे लगा हुआ हैं जिसका समाधान कराया जाये, साथ ही LC NO. ३४ को रेलवे द्वारा बन्द कर दिया गया हैं उसे चालु कराया जाये।उक्त विभिन्न प्रस्तावों को लेकर अधिकारियों को कहा कि इस सभी कार्यो को लेकर विभाग शीघ्र विचार करे एवं रेलवे के सर्वागिण विकास में यह प्रस्ताव भी सम्मिलित हो।

 


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Headlines
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like