GMCH STORIES

GMCH :मस्तिष्क में टी.बी के कारण हुए लकवे का हुआ सफल इलाज

( Read 6435 Times)

07 Feb 24
Share |
Print This Page
GMCH :मस्तिष्क में टी.बी के कारण हुए लकवे का हुआ सफल इलाज

गीतांजली मेडिकल कॉलेज एवं हॉस्पिटल उदयपुर में आने वाले रोगियों को मल्टी डिसिप्लिनरी दृष्टिकोण द्वारा इलाज किया जाता है| अभी हाल ही में बांसवाड़ा निवासी 30 वर्षीय रोगी को स्वस्थ जीवन प्रदान किया गया| इस सफल उपचार को न्यूरोलॉजी विभाग के एचओडी के निरीक्षण में करने वाली टीम में न्यूरोलॉजिस्ट डॉ निशांत अश्वनी,डॉ ध्रुव वाजा, डॉ कल्पेश, ईएनटी विभाग,आईसीयू स्टाफ शामिल है|

 


विस्तृत जानकारी:

बांसवाड़ा के रहने वाले 30 वर्षीय रोगी गत एक माह से सिर में दर्द, बुखार, कान से पानी आना, उल्टी और खून युक्त बलगम वाली खांसी से परेशान था| रोगी ने बताया पहले वह अहमदाबाद के निजी हॉस्पिटल में अपना इलाज करवा चुका है, पर किसी तरह का स्वास्थ्य लाभ नहीं मिल पाया| रोगी को गीतांजली हॉस्पिटल में आया तो पता चला कि रोगी का बांया कान बहता था और साथ की कान के परदे में छेद भी था| मास्टोडाइटिस था जिसमें कान के पीछे की हड्डी में इंफेक्शन हो गया था| रोगी का एम.आर.आई किया गया और रीड की हड्डी में सूई डालकर पानी बाहर निकला गया, रोगी के मस्तिष्क में टीबी का पता चला| टीबी के कारण दिमाग में लकवे के भी लक्षण आ गये थे|

गीतांजली हॉस्पिटल के न्यूरोलॉजी व ईएनटी विभाग के विशेषज्ञों द्वारा रोगी को आईसीयू में लेकर इलाज शुरू किया गया व अथक प्रयासों से रोगी का सफलतापूर्वक इलाज किया|

डॉ निशांत अश्विनी ने बताया कि रोगी के इलाज को लगभग दो माह हो चुके हैं एवं रोगी एकदम स्वस्थ है और अपनी दिनचर्या भलीभांति निभा रहा है|

गीतांजली हॉस्पिटल एक टर्शरी केयर मल्टी सुपरस्पेशलिटी हॉस्पिटल है यहाँ के न्यूरोसाइंसेज विभाग में सभी एडवांस तकनीके व संसाधन उपलब्ध हैं जिससे जटिल से जटिल समस्याओं का निवारण निरंतर रूप से किया जा रहा है।

 


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : GMCH
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like