BREAKING NEWS

सामूहिक भागीदारी से विद्वापीठ को अग्रणी बनाने का संकल्प

( Read 1146 Times)

12 Jan 20
Share |
Print This Page
सामूहिक भागीदारी से विद्वापीठ को अग्रणी बनाने का संकल्प

उदयपुर जनार्दन राय नागर राजस्थान विद्यापीठ डीम्ड टू बी वि.वि. का 33वा स्थापना दिवस रविवार को प्रताप नगर स्थित परिसर में संस्थाक मनीषी पंडित जनार्दनराय नागर की प्रतिमा पर पुष्पांजली अर्पित कर धूमधाम से मनाया गया । विशेषाधिकारी डॉ. हेमशंकर दाध्ीाच ने बताया कि आयोजित समारोह में कुलपति प्रो. एस.एस. सारंगदेवोत ने कहा कि राष्ट्र की शैक्षिक सामाजिक सास्कृतिक चेतना में विद्यापीठ अपनी भूमिका को निरंतर सक्रिय बनाये हुए है, सामने आने वाली चुनौतियों का सामना करना हम अपनी मजबूती से अपना कदम आगे बढा रहे है आज का दिन हमारे लिए अपने सामाजिक दायित्वों को पूर्ण परिभाषित करने का है जिन मूल्यों और उद्ेश्यों के लिए विद्यापीठ जैसी संस्थाओं का निर्माण हुआ है। उच्च शिक्षा में गुणवत्ता पर बोलते हुए कहा कि लोकतंत्रात्मक प्रणालियों को सशक्त बनाने के लिए शिक्षा ही विकल्प है। गुणवत्ता सबसे महत्वपूर्ण होती है संस्थान को ब्राण्ड बनाने में इसी गुणवत्ता युक्त शिक्षा का योगदान होता है इसी से संस्थान की पहचान होती है। वर्तमान समय में हम तकनीक को नकार नहीं सकते हैं तकनीक ऐसी चीज है जिससे यदि आप रोजाना अपडेट नहीें रहेंगे तो आप पीछे रह जाऐंगे।उन्होंने कहा कि प्रोफेसर 50 प्रतिशत टीचिंग लर्निंग एवं 50 प्रतिशत रिसर्च पर फोकस करें तथा ज्यादा से ज्यादा क्वालिटी एजुकेशन व शोध वर्क को महत्व दें। कुल प्रमुख भंवरलाल गुर्जर ने कहा कि स्थापना दिवस हमारे लिए आत्म चिंतन का अवसर है यह दिवस बीते दिनों में किए गए कार्यो के मूल्यांकन और दायित्वों का बोध एक साथ कराने का हैें क्यों कि अच्छे समाज को बनाने की जिम्मेदारी शिक्षा की है। विद्यापीठ समग्र ग्रामीण समुदाय के उत्थान के लिए कार्य कर रही है। जो कि संस्थापक जन्नु भाई का सपना था। उन्होंने कहा कि विद्यापीठ की नई पीढी को संकल्प के साथ ग्रामीण क्षेत्रों में सामुदायिक शिक्षा का कार्य करना है। प्रो. जी.एम. मेहता, प्राचार्य प्रो. सुमन पामेचा, प्रो. मंजू माण्डोत, विशेषाधिकारी डॉ. हेमशंकर दाधिच प्रो. शशि चित्तोड़ा, डॉ. अमिया गोस्वामी, डॉ. शेलेन्द्र मेहता, डॉ. धीरज जोशी, डॉ. हेमेन्द्र चौधरी,, डिप्टी रजिस्ट्रार रियाज हुसैन, डॉ. धमेन्द्र राजौरा, डॉ बलिदान जैन, प्रो. जीवनसिंह खरकवाल ने भी अपने विचार व्यक्त किये। समारोह में डॉ. युवराजसिंह राठौड़, प्रो. एल.आर.पटेल, डॉ. दिलीप सिंह चौहान, डॉ. मनीष श्रीमाली, डॉ. कुलशेखर व्यास, डॉ. हीना खान डॉ. सुनिता मूर्डिया, डॉ. अमी राठौड़, डॉ. रचना राठौड़, प्रो मलय पानेरी, डॉ अपर्णा श्रीवास्तव, डॉ. गौरव गर्ग, डॉ. दिनेश श्रीमाली, सहित सभी विभागों के विभागाध्यक्ष, डीन व डायरेक्टर सहित आदि तमाम कार्यकर्ता उपस्थित थे।


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Udaipur News , JRNU-News , Education
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like