एयरबस ने भारत में विमान मेंटीनेंस इंजीनियरिंग में प्रशिक्षण सुविधाएं बढ़ाने के लिए किया जीएमआर के साथ करार

( Read 1314 Times)

03 Aug 22
Share |
Print This Page

एयरबस ने भारत में विमान मेंटीनेंस इंजीनियरिंग में प्रशिक्षण सुविधाएं बढ़ाने के लिए किया जीएमआर के साथ करार

नई दिल्‍ली : एयरबस ने भारत में युवा एविएशन इंजीनियरों को विमानों के रखरखाव का प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए देश के विमानन क्षेत्र में आधारभूत संरचना का विकास करने में अग्रणी जीएमआर के साथ एक समझौते पर हस्‍ताक्षर किए हैं।

जीएमआर हैदराबाद स्थित जीएमआर स्‍कूल ऑफ एविएशन में युवा प्रशिक्षुओं के लिए एकीकृत एयरक्राफ्ट मेंटीनेंस इंजीनियर (एएमई) लाइसेंसिंग प्रोग्राम शुरू करेगा। इस कार्यक्रम की अवधि चार वर्ष होगी, जिसमें दो वर्ष कक्षा में प्रशिक्षण दिलाया जाएगा और अगले दो वर्ष मेंटीनेंस, रिपेयर तथा ओवरहॉल (एमआरओ) ट्रेनिंग जीएमआर ऐरो टैक्निक, हैदराबाद में दिलायी जायेगी, तथा इसके बाद एयरक्राफ्ट टाइप ट्रेनिंग की व्‍यवस्‍था भी की जाएगी।

एयरबस और जीएमआर के बीच इस समझौते के तहत्, एयरबस प्रशिक्षुओं के लिए आवश्‍यक सॉफ्टवेयर तथा कोर्सवेयर का प्रबंध करेगी जिसमें प्रशिक्षु हैंडबुक, परीक्षा डेटाबेस के अलावा एयरबस के स्वनिर्धारित बुनियादी प्रशिक्षण मॉड्यूल को ऑनलाइन ग्रहण करने की सुविधा शामिल है। साथ ही पाठ्यक्रमों के लिए आवश्‍यक तकनीकी प्रशिक्षण सामग्री के तौर पर एयरबस कॉम्‍पेटेंस ट्रेनिंग (एसीटी) फॉर एकेडमी मीडिया पैकेज को भी उपलब्‍ध कराया जायेगा । एयरबस इसके अलावा जीएमआर के इंस्‍ट्रक्‍टर्स को प्रशिक्षण दिलाने के साथ-साथ प्रशिक्षण केंद्र का भी मूल्‍यांकन करेगी।

श्री रेमी मैय्या, अध्‍यक्ष एवं प्रबंध निदेशक, एयरबस इंडिया एवं दक्षिण एशिया ने कहा, ''जीएमआर के साथ हमारी भागीदारी वास्‍तव में, घरेलू विमानन उद्योग में भविष्‍य में पैदा होने वाली भारी मांग के मद्देनज़र देश में एमआरओ क्षमताओं को अधिक मजबूत बनाने की पहल का एक हिस्‍सा है। एयरबस आगे भी भारत के विस्‍तृत एरोस्‍पेस इकोसिस्‍टम के विकास के लिए अपना योगदान जारी रखेगी जिसमें इसकी बढ़ती औद्योगिक गतिविधियों के जरिए निर्माण एवं सेवा क्षमताओं को बेहतर बनाना शामिल है।''

इस भागीदारी के बारे में श्री अशोक गोपीनाथ, मुख्‍य कार्यकारी अधिकारी, जीएमआर एरो टैक्निक ने कहा, ''विमानन क्षेत्र तेज़ी से उभर रहा है और 2030 तक भारत दुनिया में सबसे बड़े विमानन बाज़ार के तौर पर अपनी साख बनाने के लिए तैयार है। हवाई यातायात के बढ़ने से देश के वाणिज्यिक विमानन बेड़े में काफ़ी विस्तार हो रहा है। इस बढ़ती मांग को पूरा करने तथा उद्योग को सहयोग देने के लिए, कुशल पेशेवरों की आवश्यक्ता है। जीएमआर स्‍कूल ऑफ एविएशन देश में विमानन क्षेत्र के लिए अभियांत्रिकी एवं अनुरक्षण समाधान प्रदान करने वाली प्रतिभाओं को तैयार करने में सहायक होगा। हमें अपने इस प्रयास में सहभागी के रूप में एयरबस के साथ आने की प्रसन्नता है और विश्वास है कि इससे हमारे ‘मिशन स्किल इंडिया’ प्रयासों में और तेज़ी आएगी।''

जीएमआर एरो टैक्निक भारत की सबसे बड़ी एकीकृत विश्‍वस्‍तरीय तृतीय-पक्ष एमआरओ (मेंटीनेंस, रिपेयर एवं ओवरहॉल) सुविधा है जिसका संचालन जीएमआर हैदराबाद अंतरराष्‍ट्रीय हवाईअड्डे से किया जाता है। इसने एशिया में विमानों के रखरखाव तथा सेवा के मामले में यह बड़ा कदम उठाया है।

इस वर्ष शुरू हो रहा यह कार्यक्रम उन सभी उम्‍मीदवारों के लिए खुला है जो प्रमुख विषयों के रूप में भौतिकी और गणित के साथ हायर सेकंडरी सर्टिफिकेट (12वीं) परीक्षा उत्‍तीर्ण कर चुके हैं। एयरबस ग्‍लोबल मार्केट फोरकास्‍ट 2022 के अनुसार, भारत में अगले 20 वर्षों के दौरान करीब 45,000 नए विमान टेक्नीशियनों की आवश्‍यकता होगी। 


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Business News , ,
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like