ब्रह्मांड की संरचना पुस्तक का हुआ विमोचन

( Read 11684 Times)

04 Apr 19
Share |
Print This Page

(विवेक मित्तल)

ब्रह्मांड की संरचना पुस्तक का हुआ विमोचन

बीकानेर । रमेश चंद्र शर्मा द्वारा संकलित पुस्तक ब्रह्मांड की संरचना का विमोचन श्री लालेश्वर महादेव मंदिर, शिवमठ, शिवबाड़ी के अधिष्ठाता स्वामी संवित  सोमगिरिजी महाराज द्वारा किया गया। श्री शर्मा ने बताया कि ब्रह्मांड के विषय को अध्यात्म से जोड़कर सूक्ष्मता से समझाया है। इसमें ब्रह्म, गुरु, धर्म, कर्म योनि एवं वेद आदि के आदि के बारे में जानकारी दी गई है इसके साथ ही साथ गुरु पूजन, शांति मंत्र, स्मरणीय स्तोत्र, चार्ट, साधना सूत्र,  श्रीशनि स्तोत्रम् भी प्रकाशित किए गए हैं। 

इस अवसर पर स्वामी जी ने कहा कि एक अखंड चैतन्य से यह खंड-खंड सृष्टि में अलग-अलग असंख्य जीव कैसे उत्पन्न हुए हैं? एक महामौन कैसे असंख्य राग-रागिनियों में झंकृत हुआ? एक आनंद घन में सुख-पिपाशा कैसे जगी? एक दिव्यलोक में से तमस के साए कैसे पसरने लगे? अमृत-अकाल-अभय के रहते हुए मृत्यु भय कैसे आया? सृष्टि के आरपार क्या है? सृष्टि क्या है? सृष्टि कर्ता कौन है?  सृष्टि कैसे, किसने, कब बनी? मैं कौन हूं, कहां से, कब से हूं? इन सभी जिज्ञासाओं को तृप्त करने के लिए देशिक सप्तभुवनों की यात्रा करवाते हुए वे ब्रह्मा के मानस पुत्रों के जन्म और लीलाओं का रहस्य समझाते हुए साधक को अपने अंदर के बंद द्वार को खोलने की कुंजी प्रदान करते हैं। अद्वैत-दर्शन ही वेद का सार है, जो कि उपनिषदों में घनीभूत होकर अभिव्यक्त हुआ है और जो पुराणों में, स्मृतियों में, रामायण-महाभारत में, व संतों की वाणी में अनंत रूपों में झंकृत है, अलंकृत है। इसको हमें पहचानने की, जानने की, समझने आवश्यकता है। यह पुस्तक निश्चित रूप से साधकों के लिए उपयोगी सिद्ध होगी। 

इस अवसर पर स्वामी समानंदगिरी जी महाराज, डॉ शशि गुप्ता, मंजू लता शर्मा, राजकुमार कौशिक, रमेश जोशी, भवानी शंकर व्यास, हरिओम पुंज, विनोद शर्मा सहित अनेक साधकगण उपस्थित थे ।


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Bikaner News
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like