GMCH STORIES

तीन दिवसीय कूडो अन्तर्राष्ट्रीय प्रशिक्षण शिविर सम्पन्न

( Read 1616 Times)

09 Jul 24
Share |
Print This Page

तीन दिवसीय कूडो अन्तर्राष्ट्रीय प्रशिक्षण शिविर सम्पन्न

उदयपुर, कूड़ो इंटरनेशनल फेडरेशन ऑफ इंडिया’ के निर्देशन एवं एस.आर.ए.ए..एम.ए. , कूडो राजस्थान की मेजबानी में चल रहे तीन दिवसीय कूड़ो के अंतर्राष्ट्रीय प्रशिक्षण शिविर का समापन आज ’राजस्थान की पहली अन्तरराष्ट्रीय मानक फाइटिंग रिंग सेंसाई कॉम्बैट  एरीना’ पर भारत के मुख्य कूड़ो कोच हांशी मेहुल वोरा (8 डिग्री ब्लेक बेल्ट)’ के मुख्य आतिथ्य एवं ’राष्ट्रपति अवार्ड से सम्मानित अन्तर्राष्ट्रीय मार्शल आर्ट प्रशिक्षक शिहान् राजकुमार मेनारिया’ की अध्यक्षता में ’आरीगातो गोजायमास’ एवं बान्जाए के उद्घोष’ के साथ संपन्न हुआ।
समारोह के विशिष्ठ अतिथि ’ज़ी माउण्ट लिट्रा स्कूल के निदेशक अरुण माण्डोत एवं भ्रष्टाचार निरोधक विभाग उदयपुर के ’वरिष्ठ अधिकारी हरीश चुंडावत,’़13 बार ग्रीनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड धारी कूड़ो इन्डिया के सचिव रेन्शी विस्पी खराडी’ उपस्थित थे।
 शिविर निदेशक  एवं  ’अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ी रेन्शी विपाश मेनारिया’ ने बताया कि उदयपुर मुख्यालय पर ’40 से अधिक स्कूलों’ एवं ’पांच विश्वविद्यालयों’ के ’चयनित 100’ से अधिक कूडो खिलाड़ियों ने संपूर्ण प्रशिक्षण सत्र में भाग लिया तथा ’4000 से अधिक महिला पुरुष और लड़के लड़कियों’ ने अलग-अलग सेमिनार सत्रों में कूडो मार्शल आर्ट की ’उपयोगिता एवं आत्म रक्षा के प्रारंभिक अभ्यास’ कीए एवं इसके आवश्यक प्रशिक्षण  की उपयोगिता को स्वीकार किया।
रेन्शी मेनारिया ने बताया कि प्रशिक्षण शिविर के अंतिम तीन क्षेत्रों में ’इप्पोन, निहोन एवं सनबोन’ कुमिते (फाइटिंग) का सघन एवं लगातार अभ्यास किया गया। जमीनी फाइटिंग में ’सानकाकू-जिमे,’  ’हिजागातामे’, ’फुल गार्ड टू फुल माउट’ ’हिजागातामे’  इत्यादि ’दम गोंटू’ तकनीकों सहित ’घात एवं प्रतिघात’ के कई दांव पेचों का प्रशिक्षण हुआ। आज संपूर्णता में कूड़ो की अन्तर्निहित कलाओं ’कराते, जूडो, जुजुत्सु, मुआएथाई , थाई बॉक्सिंग,’ ’ब्राज़ीलियन जुजुत्सु’ एवं इजराइल की मिलीट्री आर्ट ’क्रवमघा’ जैसी कलाओं के आक्रमण तकनीक एवं बचाव तकनीक का प्रशिक्षण व अभ्यास संपूर्ण किया।
शिविर के ’मुख्य आमंत्रित अंतर्राष्ट्रीय प्रशिक्षक सेंसेई टेरागुची नोरिहिडे’ ने चौंपियनशिप में फाइट करने की कई कांबिनेशन टेक्निक्स के साथ-साथ ज़रूरी सावधानियों और सम्भावित गलतियों पर भी प्रकाश डाला।
सम्मान् समारोह  में ’सेंसेई नोरीहीडे , हांशी मेहुल वोरा शिहान् राजकुमार मेनारिया, रेंशी विस्पी खराडी’ एवं विशिष्ट अतिथि  निदेशक ज़ी माउंट लिट्रा स्कूल उदयपुर श्री अरुण मुणोत’ ने ’शिविरार्थी खिलाड़ियों को प्रमाण पत्र प्रदान कर उनका उत्साह वर्धन किया.’
समापन समारोह को संबोधित करते हुए ’भारत कूड़ो के मुख्य कोच हान्शी मेहुल वोरा’ ने कहा कि इस प्रशिक्षण का उद्देश्य खिलाड़ियों की योग्यता को. अंतरराष्ट्रीय स्तर तक लाने का प्रयास था यह प्रयास लगातार जारी रहेगा मगर अब परिवार जनों जिला एवं राज्य के प्रशिक्षकों के साथ ही स्वयं खिलाड़ियों की जिम्मेदारी है कि वह अपना अभ्यास जारी रखें. उन्होंने विश्वास जाता है कि नवंबर माह की राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में इसका सकारात्मक प्रभाव देश देखने को मिलेगा।
 विशिष्ट अतिथि अरुण माण्डोत’ ने खिलाड़ियों को इस अंतरराष्ट्रीय प्रशिक्षण की बधाई देते हुए कहा कि शिहान् राजकुमार मेनारिया के प्रयास और कड़ी मेहनत का में कई वर्षों से साक्षी हूं और हम कूड़ो को अपने स्कूल सिलेबस में आवश्यक रूप से शामिल करने का प्रयास करेंगे ।
विशिष्ट अतिथि’ भ्रष्टाचार निरोधक विभाग उदयपुर के वरिष्ठ अधिकारी हरीश चुंडावत ने कहा कि कूडो और एस.आर.ए. संस्था से में कई वर्षों से जुड़ा हुआ हूं और साक्षी हूं कि ’यह एकमात्र ऐसी संस्था है जो अंतरराष्ट्रीय मानको पर मार्शल आर्ट्स का प्रशिक्षण देती है’ और भारत को कई अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी दिए हैं।
ग्रिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड धारी एवं ’कूडो इंडिया के महासचिव विस्पी खराड़ी’ ने खिलाड़ियों को ट्रेनिंग के साथ-साथ अपने खान-पान और पौष्टिक आहार के संतुलन का ध्यान भी रखना होगा अन्यथा कड़ी मेहनत का नकारात्मक असर भी हो सकता है उन्होंने प्रशिक्षण सेमिनार की शानदार सफलता के लिए सभी को बधाई दी।
अंत में एस. आर. ए. एम. एम. ए. के संस्थापक निदेशक एवं राजस्थान के मुख्य कूडो प्रशिक्षक शिहान् राजकुमार मेनारिया ने शिविरार्थियों, अभिभावकों एवं सभी अतिथियों का ’आभार एवं धन्यवाद’ ज्ञापित किया।


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Sports News
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like