GMCH STORIES

भारतीय ज्ञान परम्परा और राष्ट्रीय शिक्षा नीति, 2020 विषय पर बीएन शिक्षा संकाय में राष्ट्रीय संगोष्ठी का समापन 

( Read 2708 Times)

26 May 24
Share |
Print This Page

भारतीय ज्ञान परम्परा और राष्ट्रीय शिक्षा नीति, 2020 विषय पर बीएन शिक्षा संकाय में राष्ट्रीय संगोष्ठी का समापन 

उदयपुर  भूपाल नोबल्स विश्वविद्यालय के शिक्षा संकाय के तत्वाधान में 23 तथा 24 मई, 2024 को दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन किया गया। संगोष्ठी के उद्घाटन सत्र के मुख्य अतिथि प्रसिद्ध शिक्षाविद प्रो परमेन्द्र कुमार दशोरा, कुलपति, मंगलायतन विश्वविद्यालय, अलीगढ़ तथा अध्यक्षता विद्या प्रचारिणी सभा के मंत्री प्रो महेन्द्र सिंह राठौड़ तथा विशिष्ठ अतिथि शक्ति सिंह कारोही थे। संगोष्ठी की निदेशक प्रो शशि चित्तौड़ा ने बताया कि यह संगोष्ठी हाइब्रिड मोड माध्यम से आयोजित की गई । यह संगोष्ठी राष्ट्रीय शिक्षा नीति, 2020 के परिप्रेक्ष्य में काफी महत्वपूर्ण स्थान रखती है। इसमें उदयपुर एवं बाहर से विभिन्न शिक्षाविद, विचारक, शोधार्थी एवं संकाय सदस्यों ने भाग लेकर अपने विचारों का आदान - प्रदान किया। दो दिवसीय संगोष्ठी में 07 तकनीकी सत्र आयोजित किए गए जिनमें ऑनलाइन तथा ऑफलाइन दोनो माध्यम से कुल 101 शोध पत्रों का वाचन एवं प्रस्तुतिकरण किया गया। संगोष्ठी की अध्यक्षता करते हुए प्रो महेन्द्र सिंह राठौड़ ने समृद्ध भारतीय संस्कृति एवं ज्ञान परम्परा पर प्रकाश डालते हुए कहा कि हमें अपनी मूल ज्ञान परम्परा को कभी नहीं भूलना चाहिए जिसने हमेशा से सम्पूर्ण विश्व को एक नई राह प्रदान की है। विभिन्न तकनीकी सत्रों में विविध क्षेत्रों से आए हुए प्रसिद्ध शिक्षाविदों एवं शोधार्थियों ने भारतीय ज्ञान परम्परा पर प्रकाश डाला। संगोष्ठी के समापन सत्र की अध्यक्षता कर्नल प्रो शिव सिंह सारंगदेवोत, मुख्य अतिथि प्रो एन.एस.राठौड़ तथा विशिष्ठ अतिथि प्रो कैलाश चन्द्र सोडानी थे। मुख्य अतिथि प्रो एन.एस.राठौड़ ने बताया कि हमें आधुनिकता के साथ परम्परा को साथ में लेकर चलना चाहिए ताकि हमारी पुरातन संस्कृति के महत्व को नई पीढ़ी जान सके। विशिष्ठ अतिथि प्रो कैलाश चन्द्र सोडानी ने अपने उद्बोधन में शिक्षा के महत्व पर चर्चा की। उन्होंने कहा कि आज हमें नई तकनीकी एवं विकास के दौर में हमारी प्राचीन समृद्ध विरासत को नहीं भूलना चाहिए। कर्नल प्रो शिव सिंह सारंगदेवोत ने अपने अध्यक्षीय उद्बोधन में सभी का आह्वान करते हुए कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति का मुख्य लक्ष्य हमारी समृद्ध विरासत को बढ़ावा देना है जिसे आज की पीढ़ी आधुनिकता के दौर में लगभग भुला चुकी है । इसी विरासत को सहेजने में राष्ट्रीय शिक्षा नीति, 2020 की महत्वपूर्ण भूमिका है। दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी के सफलतम आयोजन के लिए भूपाल नोबल्स संस्थान के प्रबन्ध निदेशक मोहब्बत सिंह राठौड़ तथा कार्यकारिणी के सभी माननीय सदस्यों ने शुभकामनाएं प्रेषित की हैं।

 


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Education News , Bhupal Nobles University
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like