Pressnote.in

दक्षिणी राजस्थान में एओर्टिक एन्यूरिज्म का सर्वप्रथम सफल उपचार

( Read 18954 Times)

11 Feb, 17 10:19
Share |
Print This Page
दक्षिणी राजस्थान में एओर्टिक एन्यूरिज्म का सर्वप्रथम सफल उपचार गीतांजली मेडिकल कॉलेज एवं हॉस्पिटल, उदयपुर बना जटिल एओर्टिक एन्यूरिज्म जैसी बिमारियों के इलाज का केंद्र। हाल ही में दो ऐसे मामलों का सफल इलाज संभव हुआ। यह दोनों ही ऑपरेशन दक्षिणी राजस्थान में प्रथम बार उदयपुर के गीतांजली हॉस्पिटल में सफल हुए है।
गीतांजली कार्डियक सेंटर के कार्डियो थोरेसिक एवं वेसक्यूलर सर्जन डॉ संजय गांधी, न्यूरो वेसक्यूलर इंटरवेन्शनल रेडियोलोजिस्ट डॉ सीताराम बारठ एवं कार्डियोलोजिस्ट डॉ रमेश पटेल ने ५८ वर्षीय महिला के मुख्य धमनी में एन्यूरिज्म (धमनी की दीवार में अत्यधिक वृद्धि) का सफल ऑपरेशन कर स्वस्थ किया। इस सफल ऑपरेशन में उनकी टीम में कार्डियो थोरेसिक एवं वेसक्यूलर सर्जन डॉ रीनस डेमल, कार्डियोलोजिस्ट डॉ सीपी पुरोहित एवं डॉ हरीश सनाढ्य, कार्डियक एनेस्थेटिस्ट डॉ अंकुर गांधी, डॉ कल्पेश मिस्त्री, डॉ मनमोहन जिंदल एवं डॉ धर्मचंद शामिल थे।
डॉ गांधी ने बताया कि संतोष देवी (उम्र ५८ वर्ष) काफी लम्बे समय से उच्च रक्तचाप की बिमारी से पीडत थी। तेज सिर दर्द, कमर दर्द एवं नाक में से खून बहने की वजह से गीतांजली हॉस्पिटल में भर्ती हुई। सीटी एंजियोग्राफी की जांच से पता चला कि रोगी के सीने के डिसेंडिंग एओर्टा में विच्छेदन है एवं एन्यूरिज्म का माप ६५ मिमि है जो आमतौर पर २ से २.५ मिमि होती है। यह एन्यूरिज्म कभी भी फट सकता था जिससे आंतरिक रक्तस्त्राव हो कर रोगी की अचानक मृत्यु हो सकती थी। परिवारजनों से रोगी की बिमारी के बारे में विचार-विमर्श करने के बाद, सभी ने दिल्ली व जयपुर के हॉस्पिटल में ना जाकर गीतांजली में ही सर्जरी कराने का निर्णय लिया। इस बिमारी के उपचार के दो विकल्प थे, पहला हाइब्रिड एंडो वेसक्यूलर और दूसरा ओपन सर्जरी। यह दोनों ही विकल्पों से इलाज गीतांजली में मौजूद सभी सुविधाओं हेतु संभव था। क्योंकि ओपन सर्जरी में जोखिम भी ज्यादा था इसलिए हाइब्रिड एंडो वेसक्यूलर प्रक्रिया से इलाज किया गया। इस प्रक्रिया में जांघ की धमनी को खोलकर एक बहुत बडे एओर्टिक स्टेंट को विच्छेदित एन्यूरिज्म तक ले जाया गया और एन्यूरिज्म को मुख्य धमनी से सफलतापूर्वक हटाया गया जिसमें ३ घंटें का समय लगा। रोगी अब पूरी तरह स्वस्थ है और निकट भविष्य में भी उसे कोई परेशानी नहीं होगी।
इसी तरह के दूसरे मामले में डॉ संजय गांधी ने ५५ वर्षीय प्रभु लाल पुरोहित के एओर्टा में फट चुके एन्यूरिज्म को ठीक कर सफल ऑपरेशन किया। इस ऑपरेशन में उनकी टीम में कार्डियो थोरेसिक एवं वेसक्यूलर सर्जन डॉ रीनस डेमल, कार्डियक एनेस्थेटिस्ट डॉ अंकुर गांधी, डॉ कल्पेश मिस्त्री, डॉ मनमोहन जिंदल एवं डॉ धर्मचंद, और नेफ्रोलोजिस्ट डॉ गुलशन मुखिया एवं डॉ संदीप मोरखंडीकर शामिल थे।
डॉ गांधी ने बताया कि प्रभु लाल पुरोहित (उम्र ५५ वर्ष) पेट में दर्द एवं कब्ज की शिकायत से गीतांजली हॉस्पिटल में भर्ती हुआ था। सोनोग्राफी की जांच से पता चला कि एन्यूरिज्म से आंतरिक रक्तस्त्राव शुरु हो गया है। इस कारण रोगी को पिशाब की समस्या होने लगी और गुर्दे ने भी ठीक से काम करना बंद कर दिया था। दो साल पूर्व ही एक निजी हॉस्पिटल में रोगी को एन्यूरिज्म की बिमारी का पता चल चुका था परन्तु उसका इलाज दवाइयों से ही किया गया। किन्तु अब रोग गंभीर हो गया था और आपातकालीन स्थिति में रोगी को भर्ती कराया गया। सीटी स्केन की जांच के बाद डॉ गुलशन मुखिया एवं डॉ संदीप मोरखंडीकर ने रोगी का डायलिसिस किया और कार्डियक सर्जन द्वारा तुरंत सर्जरी की गई। रोगी के गंभीर रोग के कारण उसका हाइब्रिड एंडो वेसक्यूलर प्रक्रिया द्वारा इलाज संभव नहीं था जिस कारण उसकी ओपन सर्जरी की गई जिसमें ७ घ्ंाटें का समय लगा। इस ओपन सर्जरी में पेट को खोला गया और एन्यूरिज्म को मुख्य धमनी से सफलतापूर्वक हटाया गया। एन्यूरिज्म से रक्तस्त्राव को बायपास मशीन पर संचालित किया गया और एओर्टा को ठीक कर पैरों की दोनो तरफ से पेट को बंद किया गया। इसके पश्चात् रोगी को गहन चिकित्सा ईकाई में भर्ती रखा। रोगी अब पूर्णताः स्वस्थ है और दुबारा उसे डायलिसिस कराने की जरुरत नहीं पडी।
डॉ गांधी ने यह भी बताया कि कुल एक लाख लोगों में किसी ४-५ व्यक्तियों को ही यह बिमारी होती है। साथ ही कहा कि हाइब्रिड एंडो वेसक्यूलर प्रक्रिया से इलाज की सफलता दर ९०-९५ प्रतिशत है वही फट चुके एन्यूरिज्म की ओपन सर्जरी की सफलता दर ५० प्रतिशत है। यह इलाज कि सुविधा राजस्थान में उदयपुर के अलावा जयपुर में उपलब्ध है। ऐसे रोगियों के इलाज के लिए यह आवश्यक होता है कि उन्हें और कोई भी घातक बिमारी न हो जैसे कैंसर, हृदय की बिमारी, लिवर व किडनी का समुचित कार्य आदि। एवं हॉस्पिटल में सुसज्जित कार्डियक ऑपरेशन थियेटर, कार्डियोलोजिस्ट और कार्डियक सर्जन, न्यूरो एवं वेसक्यूलर इंटरवेन्शनल रेडियोलोजिस्ट, कार्डियक एनेस्थेटिस्ट, नेफ्रोलोजिस्ट, गहन चिकित्सा ईकाई, कैथ लेब और सभी तरह कि शल्य सुविधाएं का उपलब्ध होना आवश्यक है।
क्या होती है एंडो वेसक्यूलर तथा ओपन सर्जरी प्रक्रिया?
एंडो वेसक्यूलर सर्जरी एक नई एवं कम आक्रामक सर्जरी है जिससे एन्यूरिज्म, सूजन या गुब्बारे रुपी रक्त वाहिनियां जो रक्त वाहिकाओं को प्रभावित करती है का उपचार इस प्रक्रिया द्वारा संभव है। इस सर्जरी में शरीर की बडी नाडी को खोलकर एक बडा स्टेंट डाला जाता है जिससे एन्यूरिज्म या सूजन को हटाया जाता है। ओपन सर्जरी में शरीर को खोलकर एन्यूरिज्म को कृत्रिम पाइप के साथ रिपेयर किया जाता है।


Source :

यह खबर निम???न श???रेणियों पर भी है: Health Plus
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like


Loading...

Group Edior : Mr. Virendra Shrivastava
For any queries please mail us at : newsdesk.pr@gmail.com For any content related issue or query email us at newsdesk.pr@gmail.com, CopyRight © All Right Reserved. Pressnote.in