वर्षा जल संरक्षण का अभी से करें प्रचार

( Read 2682 Times)

13 Feb 19
Share |
Print This Page

वर्षा जल संरक्षण का अभी से करें प्रचार

नगर निगम के इंजीनियरिंग विभाग में नशा निवारण एवं जल संरक्षण के अभियान में लगे वरिष्ठ चिकित्सक डॉक्टर पी सी जैन ने अपना प्रेजेंटेशन दिया।

डॉक्टर पी सी जैन ने वर्षा जल संरक्षण की आवश्यकता क्यों और कैसे करें इस पर बोलते हुए कहा कि आने वाले समय में विशेषकर गर्मी में पानी की इस वर्ष बहुत ही कमी होने वाली है अतः अभी से हम घर घर में इस हेतु प्रेरणा देने एवं रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम लगवाने हेतु प्रचार प्रारंभ प्रारंभ करने का आग्रह करे जिसमें घर घर पर पंपलेट वितरण का कार्य करना चाहिए। गिरते जलस्तर एवं दूषित होते हुए भूजल से होने वाली बीमारियां अब बढ़ने वाली है जिनका उन्हें इस कार्यशाला में वर्णन किया। अगर हर भवन की छत पर गिरने वाले वर्षा जल को उस में स्थित ट्यूबवेल या हैंडपंप में सरल विधि से जिसमें देवास वाटर फिल्टर का उपयोग किया जाए तो इसका तुरंत लाभ हर एक को मिलेगा।

उन्होंने हर तरह की हर तकनीक जिससे वॉटर हार्वेस्टिंग किया जा सकता है का वर्णन किया और कहा कि देवास वाटर फिल्टर एक बहुत सस्ती सरल और लो मेंटेनेंस वाली तकनीक है और जिसका लाभ भी तुरंत दिखता है यानी जल स्तर बढ़ता है और जल की गुणवत्ता भी अच्छी हो जाती है जिससे आने वाली बीमारियां नहीं होती है।

नगर निगम द्वारा ₹1000 की राशि इस हेतु देने के लिए धन्यवाद करते हुए उन्होंने कहा किस बात का अभी से प्रचार-प्रसार होता रहना चाहिए ताकि अधिक से अधिक लोग अपने घरों में जो भुजन का दोहन कर रहे हैं वह भूजल दान वर्षा दाल दान करके करने हेतु प्रेरित हो।

उन्होंने अपने द्वारा रिचार्ज किए प्रदेश के पहले हैंड पंप को दर्शाया और सरल विधि से किस तरह से हैंडपंप रिचार्ज किए जा सकते हैं यह भी बताया।

40 साल पुरानी कुई को वापस खोलकर कैसे रिचार्ज किया गया इसका भी वर्णन किया गया। उन्होंने उपस्थित इंजीनियर से आग्रह किया व्वे इस पुनीत कार्य में लगे और जिस तरह से पहले लोग प्याऊ लगाते थे उसी तरह इस भूजल की प्याऊ बनवाने में पूरा सहयोग करें ताकि आने वाली पीढ़ी को पानी की कमी का सामना ना करना पड़े।

Natural water recharge ke liye फुटपाथ पर कोरी जमीन छोड़ना आवश्यक है इस हेतु उन्होंने अमेरिका एक फुटपाथ को दर्शाया जिसमें खुली जमीन जिस प्रकार की है और पक्का फुटपाथ भी है जिससे रेन वाटर हार्वेस्टिंग भी हो रहा है और फुटपाथ का काम भी हो रहा है क्यों नहीं हम जब स्मार्ट सिटी बन रहे हैं तो हम भी ऐसे फुटपाथ बनाकर और उनको प्रेरणा दे और भूजल स्तर ब ढे इस हेतु कार्य करे।

Successful stories of rainwater harvesting की फिल्म दिखा कर उन्होंने बहुत पुराने कुएं जो कि 200 साल पुराना है उन्हें कैसे रिचार्ज किया यह दर्शाया जैसे राणा प्रताप नगर रेलवे स्टेशन शिव मंदिर का कुआं विद्यापीठ डबोक B.Ed कॉलेज का कुआं और कांकरोली हरगुन दास जी की क कुुई एवं कई हैंड पंप कैसे रिचार्ज किए इस फिल्म में दिखाया गया।

अपने मॉडल द्वारा कैसे हैंड पंप या ट्यूबवेल में पानी जाता है दर्शाया था कि सबको सरलता से समझ में आ सके और वह अपने हर ट्यूबवेल हर हैंड पंप को बिना रिचार्ज सिस्टम लगाए ना खोदे ना स्थापित करें।

आयुक्त डा ओ पी बुनकर , अरुण व्यास अतिरिक्त मुख्य अभियंता,मुकेश पुजारी अधीक्षण अभियंता एवम् हंसा माली अध्यक्ष भवन अनुमति समिति को जल संरक्षण पर पुस्तिका भेट की गई।

टी डी ऐस मीटर एवम् वाटर सेवर टेप अटैचमेंट की भी दिखाकर जानकारी दी गई।

धन्यवाद डी टी पी प्रसून चतुर्वेदी ने डा पी सी जैन को ज्ञापित किया।

 


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Udaipur News
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like