हमें कोरोना के साथ जीने की आदत डालनी होगी - प्रो. सारंगदेवोत

( Read 3147 Times)

17 May 20
Share |
Print This Page
हमें कोरोना के साथ जीने की आदत डालनी होगी - प्रो. सारंगदेवोत

उदयपुर जनार्दनराय नागर राजस्थान विद्यापीठ डिम्ड टू बी विवि के संघटक होम्योपेथी चिकित्सालय महाविद्यालय की ओर से शनिवार को विवि प्रशासनिक भवन में कोविट 19 - इसके कारण व होम्यौपेथी उपचार पर एक दिवसीय नेशनल वेबीनार का उद्घाटन करते हुए कुलपति प्रो. एस.एस. सारंगदेवोत ने कहा कि कोरोना एक वैश्विक महामारी है और 200 से अधिक देश इससे ग्रसित है।  तमाम शोध कोरोना काल में हमें यह संकेत दे रहे है कि हमें इसके साथ जीने की आदत डालनी होगी। यह सीखना होगा होगा कि हम विज्ञान, तकनीक आदि का उपयोंग कर किस प्रकार वर्तमान परिस्थितियों के अनुकूल खुद को ढाल कर आगे बढ सकते है। होम्यापेथी का इतिहास देखते है तो ऐसी बहुत सी बिमारिया है जहा एलोपेथी से होम्योपेथी कारगर सिद्व हुई है।  उन्होने कहा कि होम्योपेथी की आर्सेनिक एल्ब 30 दवा का सेवन करने से व्यक्ति में ह्यूमिनिट क्षमता बढती है जिससे बिमारियो केा रोका जा सकता है। उन्होने कहा कि होम्योपेथी विभाग द्वारा पिछले एक माह से पूरे शहर ही नही राजसमंद जिले में भी 35 हजार से अधिक फाईल्स का वितरण किया जा चुका है। वेबीनार के स्पीकर  डाॅ. एमबी शर्मा, प्राचार्य डाॅ. अमिया गोस्वामी ने प्रतिभागियों को सम्बोधित किया, कोर्डिनेटर डाॅ. लीली जैन, डाॅ. चन्द्रेश छतवानी, डाॅ. तरूण श्रीमाली, डाॅ. नवीन विश्नोई ने किया। वेबीनार में 250 प्रतिभागियों ने भाग लिया।


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Udaipur News , Sponsored Stories
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like