logo

आशचर्य के अजूबे उदयपुर के राजमहल

( Read 8722 Times)

10 Feb, 18 08:59
Share |
Print This Page

आशचर्य के अजूबे उदयपुर के राजमहल
डा. प्रभात कुमार सिंघलराजस्थान धूमने आने वालों को यहाँ के राजमहल आक६ार्ण का बडा केन्द्र है। यू ंतो राजस्थान में अनेक राजमहल है परंतु झीलों की नादी उदयपुर का राजमहल अपनी भव्यता कलात्मकला एवं प्राचीन वस्तुओं के सेंग्रह के लिएविशेषरूप से पहचान बताता है। भव्य राजमहल को अच्छी तरह से देखने के लिए एक दिन भी कम पड जाता है।
उदयपुर के सिटी पैलेस का निर्माण चमकदार शेली में किया गया है और राजस्थान राज्य के सबसे विशाल महलो में से यह एक है। इसका निर्माण ऊँची पहाडी पर किया गया है और साथ ही इसकी निर्माण में राजस्थानी और मुगल वास्तुकला ७ौली का उपयोग किया गया है। यहाँ से हमें शहर का मनमोहक ह८य भी दिखाई देता है। पिछोला सरोवर के साथ -साथ महल के परिसर से दूसरी इतिहासिक इमारतें जैसे जग मंदिर, जगदीश मंदिर,एवं मानसून पैलेस और नीमच माता मंदिर भी नजर आता है।
उदयपुर सिटी पैलेस राजस्थान के वास्तुकला के चमत्कारों में से एक है, पिछोल झील के तट पर शांतिपूर्वक स्थित है। यह राजसी सिटी पैलेस उदयपुर का सबसे ज्यादा दौरा करने वाला पर्यटक आक६ार्ण है और अक्सर राजस्थान में सबसे बडा महल परिसर के रूप में प्रति६ठत है।


टॉवर, गुंबद और मेहराब हैं, जो विरासत स्थल के सौंदर्य को जोडते हैं। पिछला झील के किनारे पर स्थित, शहर के पैलेस वास्तव में आंखों को सकून प्रदान करते हैं। सिटी पैलेस आंगनों, मंडप, छतों , गलियारों ,कमरे और उद्यानों का शानदार नमूना हैं।
सिटी पैलेस में कई दरवाजे हैं जिन्हें’’पोल्स’’ के रूप में जाना जाता है। ’बारू पोल’ (ग्रेट गेट) सिटी पैलेस परिसर का मुख्य द्वार है जो आपको पहले आंगन पर ले जाएगा। ’बारू पोल’ को पार करने पर , आप तीन धनु६ााकार द्वार पर आ जाते हैं, जिसे त्र्पिोलिया कहा जाता है। इन दोनों द्वारों के बीच, आप आठ संगमरमर में हराब या टोरास देखेंगे, जहां किंग्स सने खुद को सोने और चांदी के साथ तौला करते थे। त्र्पिोलया के अलावा, एक ऐसा क्षेत्र् है जहां हाथियों की लडाई होती थी। ’त्र्पिोलिया’ के पार, आप ’हाथी गेट’ या हाथी पोल’ में प्रवेश करेंगे।
सिटी पैलस में 11 शानदार महल हैं, जिन्हें विभिन्न शासकों द्वारा बनाया गया था, फिर भी वे एक दूसरे के समान दिखते हैं। अनूठी पेंटिंग, एंटीक फर्नीचर और उत्कृ६ट गिलास मिरर और सजावटी टाइलों की सरासर झलक के साथ इन महलों का काम, आप किसी आ८चर्य से कम नहीं है। मनक महल (रूबी पैलेस) में क्रिस्टल और चीनी मिट्टी के बरतन के नमूनें हैं। भीम विलास में राधा-कृ६ण की वास्तविक जीवन कथाओं को चित्रित करने वाले लघु चित्रें का शानदार संग्रह दिखाया है।
कृ६ण विलास’ महाराज के शाही जुलूस, त्योहारों और खेलों को चित्र्ति करने वाली लघु चित्रें के उल्लेखनीय अल्बम के लिए जाना जाता है। मोती महल (पर्ल पैलेस) को अपनी भव्य सजावट के लिए मनाया जाता है, जबकि शीश महल (दर्पण का पैलेस) अपने लुभावनी दर्पण काम के लिए जाना जाता है। ’चीनी चित्श्।ला’ अपने चीनी और डच सजावटी टाइलों के लिए प्रसिद्ध है। ’दिलखुश महल’ (पैलेस ऑफ जॉय) भित्ति चित्रें और दिवार चित्रें के लिए जाना जाता है।


बडा महल विदेशी उद्यान महल है जो 90 फुट ऊंची प्राकृतिक रॉक संरचना पर खडा होता है। रंग भवन महल शाही खजाने को शामिल करता था। भगवान कृ६ण, मीरा बाई और शव के मंदिर हैं, जो ’रंग भवन’ के अधिकार में स्थित हैं। ’मोर चौक’ में मोर की असाधारण कांच के मोजेक हैं, जो गर्मी, सर्दियों और मानसून मौसमों को प्रस्तुत करने वाली दीवारों में सेट है। ’लक्ष्मी विलास चौक’ मेवाड चित्रें का एक विश६ट संग्रह के साथ एक आर्ट गैलरी है।
1974 में, सिटी पैलेस और ’जनाना महल’(देवियों चैंबर) का एक हिस्सा एक संग्रहालय में बदल दिया गया है। संग्रहालय जनता के लिए खुला है लक्ष्मी चौक एक सुंदर सफेद मंडप है। सिटी पैलेस में, सबसे मनोरम दृ६ट’अमर विलास’ के टावरों और से देखी जा सकती है, जहां से आप झील पिछोला दृ८य नजर आता है।
अमर विलास’इस महल का सबसे ऊंचा स्थान है और फव्वारे, टावरों और छतों के साथ शानदार लटका हुआ उद्यान है। सिटी पैलेस इस तरह से संरचित है कि यह झील के सभी अपनी बाल्कनी, कपोल और टॉवर से झील का शानदार दृ८य दिखाई देता है। सिटी पैलेस में नाजुक दर्पण कार्य, संगमरमर का काम , भित्ति चित्र्, दीवार चित्र्कारी, चांदी का जडाऊ का काम अद्भुत है।



Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Headlines , Kota News
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like