logo

उधोगों में ८५ प्रतिशत स्थानीय युवाओं को रोजगार देने का कानून बनाने की मांग

( Read 6263 Times)

29 Jul, 18 10:59
Share |
Print This Page

उधोगों में ८५ प्रतिशत स्थानीय युवाओं को रोजगार देने का कानून बनाने की मांग दिल्ली - यूथ मूवमेंट ने देश के कानून, न्याय और सूचना प्रोधोगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद से राजस्थान के उधोगों में गुजरात सहित अन्य राज्यों की तरह ८५ प्रतिशत स्थानीय युवाओं को रोजगार देने का कानून बनाने की मांग की है। इसी के साथ मंगलवार को यूथ मूवमेंट के प्रतिनिधि मंडल ने दिल्ली में चित्तौडगढ सांसद सी.पी.जोशी को प्रधानमंत्री के नाम ज्ञापन देकर हिन्दुस्तान जिंक चन्देरिया और अन्य उधोगों म गुजरात और अन्य राज्यों के पेटर्न पर स्थानीय युवाओं को रोजगार दिलवाने,प्रदूषण की उच्च स्तरीय जांच और किसानों की अन्य मांग को लेकर ज्ञापन देकर लोकसभा में मामला उठाने की मांग की है।

यूथ मूवमेंट के संस्थापक शाश्वत सक्सेना ने बताया कि सोमवार को दिल्ली में यूथ मूवमेंट के संरक्षक अनिल सक्सेना ने प्रतिनिधि मंडल सहित देश के कानून,न्याय और सूचना प्रोधोगिकी मंत्री रविशकंर प्रसाद से मदर टेरेसा कि्रसेन्ट पर स्थित उनके आवास म मिलकर राजस्थान के उधोगों में ८५ प्रतिशत स्थानीय युवाओं को रोजगार देने का कानून बनाने की मांग की।
शाश्वत सक्सेना ने बताया कि मंगलवार को दिल्ली में चित्तौडगढ सांसद सी.पी.जोशी को उनके दिल्ली फिरोजशाह रोड के आवास पर संरक्षक अनिल सक्सेना के नेतृत्व में प्रतिनिधिमंडल ने प्रधानमंत्री के नाम ज्ञापन सोंपा और इस मामले को लोकसभा में उठाने की मांग की ।
प्रधानमंत्री के नाम दिये ज्ञापन में मांग की गई कि गुजरात और अन्य राज्यों की तरह ही हिन्दुस्तान जिंक सहित राजस्थान के सभी कारखानों में ८५ प्रतिशत राजस्थानी युवाओं को रोजगार दिलवाया जाए और उनमें से ८५ प्रतिशत जिले के युवाओं को रोजगार देने के लिए पाबन्द करें । साथ ही प्रत्येक तीन माह में जिंक प्रबंधन और अन्य कारखाने रोजगार कार्यालय और जिला कलक्टर को इस बाबत् रिपोर्ट पेश करे । इसके साथ ही कारखानों के द्वारा दिए जा रहे रोजगार के आंकडो की पुष्टि का सत्यापन जिला रोजगार कार्यालय करें ।
हिन्दुस्तान जिंक के द्वारा वेस्टेज लेड और अन्य पदार्थो का ढेर लगाया जा रहा है जो हवा के माध्यम से क्षेत्र में फैल रहा है और वातावरण को जहरीला बना रहा है,उसे रोका जाए। इसके साथ ही प्रभावित क्षेत्र की हवा, पानी और मिटटी की उच्च स्तरीय जांच कराई जाए और प्रभावित क्षेत्रों में सी.एस.आर. के विशेष कार्य कराए जाए ।
जिंक प्लांट के आस-पास लोडिंग-अनलोडिंग गाडयों का जमावडा रहता है और इससे आवागमन में परेशानी होती है और कई बार दुर्घटना भी होती है। इस समस्या से निजात दिलाई जाए ।
जिंक के द्वारा स्थानीय लोगों को जोर -जबरदस्ती कर सेवानिवृत्ति या वी.आर.एस. दिया गया है और कई स्थानीय युवाओं को नौकरी छोडने पर बाध्य कर दिया है। इस तरह की जोर जबरदस्ती सेवानिवृत्ति नही दी जाए । जिन लोगो को जबरदस्ती नौकरी से निकाल दिया है और वे वापस नौकरी पर आना चाहतें है उन्हे फिर से नौकरी पर रखा जाए और ५ साल से कार्यरत स्थानीय ठेकेदारकर्मियों को स्थायी किया जाए।
घोसुन्डा बांध के पानी पर प्राकृतिक सिद्वान्त,विधि नियम और नेसर्गिक अधिकार के अनुसार स्थानीय लोगों और किसानों का हक है इसलिए इस बांध पर हिन्दुस्तान जिंक के नियंत्रण को समाप्त कर पूर्व में किये गये सभी समझोतो को समाप्त किया जाए ।
दिल्ली में ज्ञापन दते समय यूथ मूवमेंट के संरक्षक अनिल सक्सेना के साथ महिपाल सिंह , ओम जैन , रवि कल, भाग्येश जैन, दीपक जायसवाल, भैरू जटिया, राजु अग्रवाल , लव लबाना आदि मौजूद रहे । संरक्षक अनिल सक्सेना ने दिल्ली में देश के कानून , न्याय और सूचना प्रोधोगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद को विजय स्तम्भ भैंट किया ।
शाश्वत सक्सेना ने बताया कि यूथ मूवमेंट के सरंक्षक अनिल सक्सेना ने दिल्ली में भाजपा के वरिष्ठ नेता राज्यसभा सांसद आर.के.सिन्हा और राजस्थान से राज्यसभा सांसद नारायण लाल पंचारिया को भी स्थानीय युवाओं को रोजगार देने और अन्य समस्याओं से अवगत कराकर राज्यसभा में मामला उठाने की मांग की । सोमवार को दिल्ली राजस्थान हाउस में कांग्रेस नेता बेंगू के पूर्व विधायक और राजस्थान के पूर्व संसदीय सचिव राजेन्द्र सिंह बिधूडी ने भी यूथ मूवमेंट की मुहिम की प्रशंसा करते हुए साथ देने का वादा किया ।

Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Headlines , Education , Sponsored Stories
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like