GMCH STORIES

नंदघर सर्वश्रेष्ठ सीएसआर अवार्ड से सम्मानित

( Read 2125 Times)

01 Apr 21
Share |
Print This Page
नंदघर सर्वश्रेष्ठ सीएसआर अवार्ड से सम्मानित


 

अनिल अग्रवाल फाउंडेशन की पहल नंद घर, को राजस्थान सरकार द्वारा ’इंदिरा महिला शक्ति प्रोत्साहन योजना सम्मान योजना’ के तहत सर्वश्रेष्ठ सीएसआर से सम्मानित किया गया है।यह पुरस्कार मुख्य कार्यकारी अधिकारी जिला परिषद्, जोधपुर इंदरजीत यादव द्वारा दिया गया।

महिला एवं बाल विकास विभाग जोधपुर ने समुदाय विकास में योगदान के लिए नंद घर के सराहनीय योगदान हेतु यह पुरस्कार प्रदान किया। यह पुरस्कार नंद घर द्वारा राजस्थान के परिदृश्य में जिला स्तर पर बच्चों, महिलाओं और समुदाय के विकास और उत्थान के लिए किये गये कार्यो को दर्षाता है।

जोधपुर जिले में २०० आंगनवाडी केंद्रों और राजस्थान में १२ जिलों में ११८५ आंगनवाडी केंद्रों को नन्द घरों परिवर्तित किया गया है, जो बच्चों और महिलाओं को उनके समग्र विकास और सुविधाएं प्रदान करते हैं। नंद घर परियोजना की षुरूआत वर्श २०१५ में वेदान्ता के अध्यक्ष अनिल अग्रवाल के ड्रीम प्रोजेक्ट के रूप में हुई थी। मॉडल आंगनवाडयों का एक नेटवर्क, नंद घर ई-लर्निंग, बाला डिजाइन और स्मार्ट किट के माध्यम से प्री-स्कूल शिक्षा प्रदान करता है।

शिक्षा के साथ-साथ बच्चों को उनके विकास के लिए पौष्टिक भोजन और स्वास्थ्य सुविधाएं भी प्रदान की जाती हैं। नंद घर का उद्देश्य ग्रामीण महिलाओं के बीच कौशल और उद्यमिता को भी मजबूत करना है। केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के सहयोग से १३.७ लाख आंगनवाडयों में ८.५ करोड बच्चों और २ करोड महिलाओं के जीवन को बदलने के लक्ष्य के साथ नंद घर परियोजना की शुरुआत की गई।

२३०० से अधिक केंद्रों के साथ, नंद घर परियोजना अब ११ राज्यों राजस्थान, उत्तर प्रदेश, ओडिशा, झारखंड, छत्तीसगढ, कर्नाटक, पंजाब, असम, हिमांचल प्रदेश, गुजरात और मध्य प्रदेश में संचालित है। परियोजना का लक्ष्य ४० लाख समुदाय के सदस्यों के लाभान्वित करना है, वहीं लगभग २ लाख बच्चों और १.८ लाख महिलाओं को वार्षिक आधार पर लाभ पहुंचाना है।

२४ घण्टों बिजली के लिए नंद घरों में नंद घरों पर सौर ऊर्जा, वाटर प्यूरीफायर, स्वच्छ शौचालय और स्मार्ट टेलीविजन सेट के साथ स्थानीय समुदायों के लिए एक मॉडल संसाधन केंद्र स्थापित किया गया है। प्री-स्कूल शिक्षा ३-६ वर्ष की आयु के बच्चों को प्रदान की जाती है। बच्चों, गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए पौष्टिक भोजन और टेक-होम राशन प्रदान किया जाता है। प्राथमिक स्वास्थ्य सेवाएं मोबाइल स्वास्थ्य वैन और टेलीमेडिसिन सुविधाओं के माध्यम से प्रदान की जाती हैं और महिलाओं को स्किलिंग, क्रेडिट लिंकेज और उद्यम विकास के माध्यम से सशक्त किया जाता है।

 


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Headlines , Zinc News
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like