दृष्टिहीन बच्चों को हमारे समाज में समान अवसर मिलें- सुनील दुग्गल

( Read 1434 Times)

13 Nov 19
Share |
Print This Page
दृष्टिहीन बच्चों को हमारे समाज में समान अवसर मिलें- सुनील दुग्गल

अपने सपनों की उडान को पूरा करते हुए भगवान सिंह समाजसेवी बन कर समाज के कंधे से कंधा मिला लोगों की समस्याओं को दूर करना चाहता है तो  प्रियंका अध्यापिका बन कर अपनी ही तरह समाज को अच्छे शिक्षक देना चाहती है, सचिन एक कार्पोरेट वकील बन कर अपने लक्ष्य को पाना चाहता है तो प्रफुल्ल हिन्दी साहित्य में गहरी रूचि रख कर एक अच्छा प्रोफेसर बनना चाहता है। ये सब होनहार छात्र उदयपुर के राजकीय प्रज्ञा चक्षु उच्चमाध्यमिक अंध विद्यालय में अध्ययनरत है।  इन सभी का उत्साह दूगुना हो गया जब इन्हें जानकारी मिली की बाल दिवस के मौके पर इनसे मिलने के लिए हिन्दुस्तान जिंक के मुख्य कार्यकारी अधिकारी आने वाले है।

बालदिवस के मौके पर सभी बच्चों से अनौपचारिक तौर पर मिलने और इनके उत्साह वर्धन के लिए पहुंचे हिन्दुस्तान जिंक के मुख्य कार्यकारी अधिकारी सुनील दुग्गल ने विद्यालय के १०४ बच्चों के साथ समय बिता कर उनकी दैनिक दिनचर्या से लेकर उनके भविष्य के सपनों पर चर्चा की । सभी बच्चों ने खुले मन से अपने भविष्य के सपनों को साझा किया और बताया कि वें किस तरह समाज के लिए कुछ कर गुजरने का हौंसला रखते है । बच्चों के साथ बातचीत में दुग्गल ने कहा कि हमें इन बच्चों को हमारे समाज में समान अवसर देने और इनकी योग्यता के अनुसार प्रतिभा निखारने के अवसर देने होगें ताकि इनके सपनों को पूरा करने में हम हर संभव योगदान कर सकें। उन्होंने विद्यालय की प्रधानाध्यापिका डॉ आभा शर्मा और अन्य स्टाफ से चर्चा कर विद्यालय की गतिविधियों के बारें में जानकारी ली एवं बच्चों के अध्ययनरत विषय, भविष्य की योजनाओं, पारिवारिक स्थिति और लक्ष्य को हांसिल करने में आने वाली परेशानियों के बारे में अवगत हो कर यथासंभव मदद की बात कही। उन्होंने कहा कि हिन्दुस्तान जिंक द्वारा जीवन तरंग जिंक के संग कार्यक्रम के तहत् विद्यालय को जो भी सहयोग कर रहा है उसके अतिरिक्त भी यदि किसी भी बच्चें को उसकी शिक्षा और खास तौर पर बारहवीं कक्षा उत्तिर्ण करने के पश्चात् उनके आगे के अध्ययन एवं किसी प्रशिक्षण के लिए हर प्रकार की संभव मदद की जाएगी।

बच्चों ने इस अवसर पर अपने मन की बात को साझा करते हुए अपने भविष्य की योजनाओं और लक्ष्य को हांसिल करने के संकल्प को दोहराया। इस मौके पर विद्यार्थियों ने गीत, भजन और संगीत की प्रस्तुति दी। इस दौरान विद्यालय स्टाफ उपस्थित था।

उल्लेखनीय है कि हिन्दुस्तान जिंक द्वारा विगत दो वर्षो से तकनीकी ज्ञान को बढाने के लिए जीवन तरंग जिंक के संग कार्यक्रम के तहत् प्रशिक्षक एवं एंड्रायड फोन प्रदान कर दृष्टिहीन बच्चों के अध्ययन के लिए फोन पर ऑडियों के माध्यम से किताबे पढने की सुविधा दे रहा है। इस तकनीक से न केवल ये बच्चें १२वीं कक्षा तक का अध्ययन सुलभ तरिके से कर पा रहे है वरन यह शिक्षा उनके आगे के भविष्य के लिए भी लाभदायक होगी।

 


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Zinc News
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like