GMCH STORIES

जिला प्रभारी मंत्री ने ली समीक्षा बैठक

( Read 752 Times)

14 Jan 22
Share |
Print This Page
जिला प्रभारी मंत्री ने ली समीक्षा बैठक

उदयपुर। जिला प्रभारी मंत्री रामलाल जाट ने कहा कि पहला सुख निरोगी काया है और इसी मंत्र के साथ वर्तमान दौर में कोरोना से बचने के लिए सभी को सतर्क व जागरूक रहने की जरूरत है और सम्पूर्ण जिले को इस महामारी से सुरक्षित रखने के लिए जागरूकता के साथ कोविड गाइडलाइन की पालना के लिए आमजन को प्रेरित करना होगा।
यह उद्गार जिला प्रभारी मंत्री एवं प्रदेश के राजस्व मंत्री श्री रामलाल जाट ने गुरुवार को जिला परिषद सभागार में जिला स्तरीय अधिकारियों के साथ आयोजित समीक्षा बैठक के दौरान व्यक्त किये। उन्होंने कहा कि पूर्व में कोरोना से निपटने व बचने के लिए जिले ने बेहतर प्रबंधन करते हुए टीकाकरण में भी उत्कृष्ट कार्य किया और वर्तमान दौर में भी इसे कायम रखने की आवश्यकता है। उन्होंने कोरोना की प्रभावी मॉनिटरिंग के साथ चिकित्सा सुविधाओं के व्यापक इंतजाम के निर्देश दिए। उन्होंने शहर के विभिन्न अस्पतालों को तकनीकी सुविधाओं के साथ दवाइयों आदि के पुख्ता इंतजाम के निर्देश दिए।
जानी चिरंजीवी योजना की प्रगति
प्रभारी मंत्री ने जिले में मुख्यमंत्री चिरंजीवी योजना की प्रगति पर समीक्षा करते हुए हर पात्र व्यक्ति को इस योजना से जोड़ने की बात कही। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने प्रदेशवासियों के सुस्वास्थ्य के लिए एवं जरूरत पड़ने पर विभिन्न बीमारियों में निःशुल्क इलाज मुहैया करवाने के लिए इस योजना को संचालित किया है। उन्होंने इस योजना के प्रभावी क्रियान्वयन के साथ शिविरों का आयोजन करते हुए पात्रजनों को लाभान्वित करने की बात कही।
सिलिकोसिस पीड़ितों को मिले हर संभव सहायता
प्रभारी मंत्री जाट ने कहा कि सिलिकोसिस पीड़ितों को लेकर सरकार संवेदनशील है। पीड़ितों को सरकार की ओर से मिलने वाली सहायता समय पर मिले इसका विशेष ध्यान रखा जाए। उन्होंने प्राप्त आवेदनों के वेरिफिकेशन एवं अन्य प्रक्रियाओं को पूर्ण करते हुए पीड़ितों को प्राथमिकता से राहत प्रदान करने की बात कही।
किसानों को मिले सुविधाएं
मंत्री श्री जाट ने किसानों को प्रोत्साहन प्रदान करने वाली विभिन्न योजनाओं की समीक्षा करते हुए किसानों को जागरूक करते हुए इन योजनाओं का लाभ प्रदान करने की बात कही। इसके साथ ही कृषकों को सरकार की ओर से मिलने वाली सुविधाओं का लाभ देने के निर्देश दिए। उन्होंने किसान मित्र योजना, किसान निर्यात प्रोत्साहन योजना, कृषि प्रसंस्करण, कृषि व्यवसाय, कृषि यंत्र, विभिन्न ऋण सुविधाएं आदि के बारे में किसानों को जानकारी प्रदान करते हुए उन्हें लाभान्वित करने की बात कही।
उन्होंने नये उद्योगों के आवेदन करने वाले आवेदकों को पूर्व स्थापित औद्योगिक क्षेत्रों का अवलोकन करवाने एवं औद्योगिक गतिविधियों से रूबरू कराते हुए उद्योग विकास के लिए सरकार की ओर से मिलने वाली ऋण सुविधा एवं अन्य सहायता के बारे में जानकारी प्रदान करने की बात कही।
जिला प्रभारी मंत्री ने जिले में जनराहत के विभिन्न पोर्टल एवं हेल्पलाइन नंबर, जनसुनवाई व सतर्कता समिति में दर्ज प्रकरणों की समीक्षा करते हुए परिवादियों को त्वरित राहत प्रदान करने के निर्देश दिए। उन्होंने जन आधार की प्रगति पर समीक्षा करते हुए वंचित लोगों को शीघ्र लाभान्वित करने की बात कही। उन्होंने लोगों को मूलभूत सुविधाओं से जुड़ी समस्याओं के त्वरित निस्तारण पर जोर दिया। बिजली, पानी, सड़क जैसे प्रकरणों को शीघ्र निस्तारित कर राहत प्रदान करने के निर्देश दिए।
प्रभारी मंत्री ने महात्मा गांधी अंग्रेजी माध्यम विद्यालयों में शैक्षिक विकास की योजनाओं के प्रभावी क्रियान्वयन के साथ नवाचारों को बढ़ावा देने की बात कही। उन्होंने बालकों के सर्वांगीण विकास के लिए प्रभावी प्रयास करते हुए विभिन्न शैक्षिक योजनाओं से इन्हे जोड़ने के निर्देश दिए। उन्होंने बालिका शिक्षा को प्रोत्साहित करने के लिए सरकार की ओर से संचालित विभिन्न योजनाओं का व्यापक प्रचार-प्रसार करने की बात कही।
प्रभारी मंत्री ने कहा कि क्षेत्र में ट्रांसफॉर्मर जलने व चोरी होने की एफआईआर तत्काल दर्ज करवाई जाए और इसमें पुलिस विभाग का सहयोग प्रदान करते हुए तत्काल रिपोर्ट दर्ज करें जिससे प्रार्थी को नियमानुसार सहायता या ट्रांसफार्मर उपलब्ध हो सके।
उन्होंने जिले में जल जीवन मिशन की प्रगति की समीक्षा करते हुए निर्धारित लक्ष्यों को तय समयावधि में प्राप्त करने के निर्देश दिए।
प्रभारी मंत्री ने आमजन की सुविधार्थ सामुदायिक भवन, श्मशान व कब्रिस्तान के लिए स्थान चिन्हित करने के संबंध में चर्चा की। इस पर यूआईटी सचिव अरुण हसीजा ने बताया कि शहरों में 19 स्थानों पर इन सुविधाओं के लिए जगह चिन्हित कर ली गई है।
जिला कलक्टर चेतन देवड़ा ने जिले के समेकित विकास के बारे में जानकारी प्रदान करते हुए कोरोना से निपटने के लिए किये गये प्रबंधन के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार के निर्देशानुसार कोविड गाइडलाइन व प्रोटोकॉल की सख्ती से पालन करवाया जा रहा है। जिला कलक्टर ने सभी विभागीय अधिकारियों को प्रभारी मंत्री द्वारा प्रदत्त निर्देशानुसार कार्य करते हुए समय समय पर प्रगति रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश दिए। बैठक में विभिन्न विभागों के अधिकारियों ने संबंधित विभागीय योजनाओं, गतिविधियों एवं जारी कार्यों की प्रगति के बारे में अवगत कराया। आभार एडीएम ओपी बुनकर ने जताया।
समीक्षा बैठक में जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी मयंक मनीष, स्मार्ट सिटी सीईओ नीलाभ सक्सेना, यूआईटी सचिव अरुण कुमार हसीजा, एडीएम सिटी अशोक कुमार, एडीएम प्रशासन ओ.पी.बुनकर सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित रहे।


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Udaipur News ,
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like