कोटा पकड़ेगा विकास की रफ्तार ,बदलेगी कोटा की सूरत

( Read 1505 Times)

09 Sep 19
Share |
Print This Page
कोटा पकड़ेगा विकास की रफ्तार ,बदलेगी कोटा की सूरत
कोटा(डॉ. प्रभात कुमार सिंघल) |   वह दिन अब दूर नहीं जब कोटा का विकास तेज रफ्तार पकड़ेगा। यह संभव होगा यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल के कोटा की सूरत बदलने के संकल्प से। जब उनसे इस विषय पर चर्चा की तो उनका कहना था हमारा प्रयास है कि विकास की राशि जनहित एवं जनसुविधा विकास के कामों में खर्च हो। नागरिकों को ज्यादा से ज्यादा मूलभूत सुविधाएं मिले। शहर सूंदर बने।
   नए प्रोजेक्ट्स की जानकारी देते हुए उन्होंने बताया कि हमने जो प्रोजेक्ट्स बनाये हैं उनसे यातायात सुगम होगा, पीने के पानी की सुविधा बढ़ेगी, लोगों को रहने को आवास मिलेंगे,शहर का सौन्दरकरण हो कर पर्यटन विकास को बढ़ावा मिलेगा।
     धारीवाल ने ने शनिवार की शाम यूआईटी ऑडिटोरियम मेंचम्बल के किनारे रिवर फ्रंट के विकास , आईएल टाउनशिप में ऑक्सिज़ोन विकसित करने एवं शहर को पशुओं से मुक्त कराने के लिए पशुपालन एवं डेयरी ज़ोन  की तीन बड़ी योजनाओं का प्रजेंटेशन प्रबुद्ध नागरिकों के साथ देखा। धरीवाल ने बताया कि इन प्रोजेक्ट्स पर 1200 करोड़ रुपये खर्च होंगे।
      चम्बल नदी के किनारे बैराज से लेकर नयापुरा पुलिया तक रिवर फ्रंट योजना में  करीब 6 किलोमीटर में हेरिटेज लुक के साथ मुगल गार्डन की तर्ज पर खूबसूरत पर्यटक स्थल बनाया जाएगा। इस के बीच के नालो को डायवर्ट कर अलग से सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट बना कर उस मे डाला जाएगा। यह फ्रंट गोमती एवं सावरमती नदियों के फ्रंट से अधिक आकर्षक होगा। इस पर करीब 500 करोड़ रुपये खर्च होंगे।
         आईएल कॉलोनी में करीब 100 करोड़ रुपये से ऑक्सिज़ोन विकसित किया जाएगा।इसमें 10 हज़ार पेड़ लगाए जाएंगे,पक्षियों के लिए स्थान संरक्षित होंगे, जलाशय,हेल्थ ज़ोन,आर्ट हिल जैसी संरचनाएं बनाई जाएंगी जो पर्यटकों को लुभायेगा।
          धारीवाल ने बताया कि शहर को मवेशियों की समस्या एवं इनके कारण होने वाली दुर्घटनाओं को रोकने के लिए पुनिया,देवरी एवं धर्मपुरा में न्यास की जमीन पर करीब 100 हेक्टेयर भूमि पर पशुपालक एवं डेयरी ज़ोन बनाया जाएगा , इस योजना का नाम देव नारायण पशु पालन योजना होगा। इसमें पशुपालकों के लिए आवास,पशु बाड़े, स्वास्थ केंद्र,स्कूल,पशु चिकित्सालय सहित अन्य आवश्यक सुविधाएं विकसित की जाएंगी।आवास के लिए पशुपालकों को प्रधान मंत्री आवास योजना में अनुदान भी दिया जाएगा।यहां दूध मंडी भी होगी।
           अन्य प्रोजेक्ट्स  की जानकारी देते हुए धरीवाल ने बताया कि दशहरा मैदान का दूसरे फैज एवं केशोपुरा एलिवेटिड रोड़ के अधूरे कार्यो को तेजी से पूरा कराया जाएगा। नए प्रोजेक्ट्स में सब्जीमंडी से बजाजखाना तक नई रोड बनाई जाएगी एवं पूर्व में रामपुरा तक निकली लिंक  भूमि अवाप्त कर सड़क के अधिक चौड़ा किया जाएगा एवं हिन्दू धर्मशाला को आधुनिक रूप प्रदान किया जाएगा। जयपुर गोल्डन के पास ट्रांसपोर्ट की जमीन पर पार्किंग बनेंगे।
           यातायात की दृस्टि से झालवाड़ रोड पर कोचिंग क्षेत्र में एवं अनन्तपुर में फ्लाईओवर बनेंगे। एरोड्रम ,अंटाघर एवं विवेकानंद चौराहों को नया रूप दे कर आवागमन के लिए सुगम बनाया जाएगा। अंटाघर चौराहे व एरोड्रम सर्किल पर अंडर पास बनेंगे।तीनों चौराहों का कार्य स्मार्ट सिटी योजना में कराया जाएगा एवं इन कार्यो का विस्तृत योजना प्रारूप( डीपीआर) बनाने का काम शुरू कर दिया गया है। 
           उन्होंने केशोपुरा फ्लाईओवर का निरीक्षण कर इस का एलिवेशन सही करने का निर्णय लिया जिस से इसकी लंबाई 70 मीटर और बढ़ जाएगी।कोटड़ी से उम्मेदगंज तक नई रोड़ बनाने का फैसला भी किया गया है। 

Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Kota News
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like