झालावाड़ में क्षेत्रीय मीडिया सम्मेलन वार्तालाप

( Read 1735 Times)

06 Dec 19
Share |
Print This Page
झालावाड़ में क्षेत्रीय मीडिया सम्मेलन वार्तालाप

 कोटा (डॉ. प्रभात कुमार सिंघल) |  पत्र सूचना कार्यालय, जयपुर की ओर से गुरूवार को झालावाड़ में क्षेत्रीय मीडिया सम्मेलन वार्तालाप का आयोजन मानसिंह पैलेस में किया गया। इसका उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्रों में कार्यरत पत्रकारों को केंद्र और राज्य सरकार की कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी देना था। साथ ही इन योजनाओं की सफलता में मीडिया की भूमिका को भी इस कार्यशाला में रेखांकित किया गया। 
कार्यशाला का उद्घाटन खानपुर के विधायक नरेन्द्र नागर द्वारा किया गया। कार्यशाला को संबोधित करते हुए नागर ने कहा कि कल्याणकारी योजनाओं की सफलता में मीडिया का अहम योगदान है। उन्होंने मीडिया से आग्रह किया कि वे इन योजनाओं को और अधिक बेहतर बनाने में सरकार का सहयोग करें ताकि अधिक से अधिक वंचित एवं पात्र व्यक्तियों को लाभान्वित किया जा सके। उन्होंने कहा कि मीडिया को हमेशा सीखने और जानने के अवसरों का लाभ उठाना चाहिये। सोशल मीडिया के बढ़ते प्रभाव की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा की आज गाँव तक सोशल मीडिया के विभिन्न माध्यमों का प्रसार हुआ है। उन्होंने कहा कि मीडिया लोकतंत्र का चौथा स्तंभ है इसलिए इसे अपनी इस भूमिका को जिम्मेदारीपूर्वक निभाना चाहिए।
उद्घाटन सत्र में पत्र सूचना कार्यालय जयपुर की अपर महानिदेशक डॉ प्रज्ञा पालीवाल गौड़ ने पत्र सूचना कार्यालय की गतिविधियों के बारे में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि वार्तालाप का उद्देश्य मीडिया कर्मियों के साथ दो तरफा संवाद स्थापित करना है, ताकि सरकारी योजनाओं की जानकारी आम लोगों तक प्रभावशाली ढंग से पहुंचायी जा सके।
कार्यशाला का पहला तकनीकी सत्र राष्ट्रीय पोषण मिशन पर आयोजित किया गया। इसमें झालावाड़ जिले की स्वस्थ भारत प्रेरक रिदम माथुर ने बताया कि पोषण मिशन के तहत नाटेपन और कम वजन में 2 प्रतिशत कमी लाने तथा किशोरियों और महिलाओं की रक्तअल्पता में 3 प्रतिशत कमी लाने का लक्ष्य है। उन्होंने कहा कि इस योजना की सफलता में जन आंदोलन की महत्वपूर्ण भूमिका है। मिशन की झालावाड़ में प्रगति के बारे में बताते हुए उन्होंने बताया कि जिले 21 में से 13 मॉड्यूल तैयार हो गए हैं। 
इसी सत्र में महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के उपलक्ष्य में गांधी दर्शन एवं पत्रकारिता पर एक विशेष सत्र् रखा गया, जिसके मुख्य वक्ता जयपुर के वरिष्ठ पत्रकार राजेन्द्र बोडा ने कहा कि पत्रकारों को हमेशा जिज्ञासु होना चाहिए। साथ ही दूसरों की सुनने की क्षमता भी उनमें होनी चाहिए। उन्होंने पत्रकारों से आग्रह किया कि वे किसी भी स्थिति में अपना धैर्य ना खोये। साथ ही वे गांधी के सिद्धान्तों को मजबूती के साथ अपने जीवन में उतारें। 
इसी इसी सत्र में पत्र सूचना कार्यालय जयपुर के निदेशक प्रेम प्रकाश भारती ने केंद्र सरकार की छह महीने की उपलब्धियों के बारे में जानकारी दी। कार्यशाला के एक अन्य तकनीकी सत्र में दैनिक भास्कर के ब्यूरो प्रमुख इमरान खान ने सरकारी योजनाओं के क्रियान्वयन में प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया की भूमिका पर अपने विचार व्यक्त किए। इसी सत्र में राजस्थान पत्रिका के वरिष्ठ संवाददाता हैं नलिन लुहाडिया ने कहा कि सरकारी योजनाओं की सफलता में मीडिया अहम भूमिका निभा सकता है। इसके लिये मीडिया और जिला प्रशासन के बीच बेह्तर समन्वय होना जरूरी है। कार्यशाला के अंत में एक फीडबैक सत्र आयोजित किया गया जिसमें पत्रकारों की सुरक्षा, उनके कल्याण, अधिस्वीकरण तथा आवागमन की समस्या को लेकर सुझाव दिए गए हैं।


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Kota News
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like