राष्ट्रीय महत्व का कार्य है आर्थिक गणना -जिला कलक्टर 

( Read 713 Times)

12 Oct 19
Share |
Print This Page
राष्ट्रीय महत्व का कार्य है आर्थिक गणना -जिला कलक्टर 

बूंदी/ सातवीं आर्थिक गणना 2019 में आर्थिक गतिविधियों में संलिप्त औद्योगिक ईकाइयों की गणना के साथ-साथ उद्यम की स्थिति, संकार्य, प्रकृति, स्वामित्व, वित्त प्रबंधन एवं रोजगार इत्यादि से संबधित सूचना संकलित की जाएगी। 

इस गणना में पारिवारिक उद्यमों सहित उद्यम , जो गैर फाॅर्म कृशि तथा कृषि क्षैत्र में वस्तुओं व सेवाओं के उत्पादन या वितरण से संबधित है, की गणना की जा रही है। गणना कार्य शुभारम्भ जिले में 19सितंबर से ही हो चुका है इस कार्य हेतु सी एस सी अर्थात ई - गर्वनर सर्विस इण्डिया लिमिटेड जो एक स्पेशल प्रपोज विहिकल है।, कि सहायता ली गई है। बून्दी जिले मे सी एस सी ने इस हेतु महेश सोनी एवं दिनेश नामा को जिला कार्यक्रम प्रबंधक एवं निरंजन यादव को कार्यक्रम समन्वयक नियुक्त किया है इनके द्वारा 1300 प्रगणक एवं 225 गणना सुपरवाईजर आॅन लाईन परीक्षा आयोजित कर नियुक्त किया है 

जिला कलक्टर रुक्मणि रियार ने निर्देश दिए हैं कि आर्थिक गणना राष्ट्रीय महत्व का कार्य है। इसलिए प्रगणक को सही सूचना देना हम सभी का कर्तव्य है। प्रगणक भी इसे संजीदगी से पूरा करें। उन्हांेने निर्देश दिए कि अधीनस्थ स्टाॅफ, पटवारी, ग्राम विकास अधिकारी ,आशा सुपरवाइजर ,आशा सहयोंिगनी ,आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, ए.एन.एम, कृषि विभाग के कृषि पर्यवक्षक, विद्यालय की प्रार्थना सभा में उपस्थित अध्यापकगण एवं विद्यार्थी, क्षेत्र में कार्यरत श्रम एवं ट्रेड यूनियन आदि सी.एस.सी द्वारा नियुिक्त सुपरवाईजरों एवं प्रगणकों को 7वीं आर्थिक गणना 2019 के कार्य प्रयोनार्थ सूचना संकलन में सहयोग करें। 

उन्होंने निर्देश दिए हैं कि अधिकारी क्षेत्र भ्रमण के दौरान संबधित गांव,ढाणी वार्ड के लोगों को आर्थिक गणना के संबन्ध में व्यापक रूप से जानकारी दें, ताकि प्रगणकों को सूचना एकत्र करने मे असुविधा नही हो।


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Kota News
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like