GMCH STORIES

JDRF ने लॉन्च की ग्लोबल टाइप-1 डायबिटीज निर्देशिका (T1D Index)

( Read 1326 Times)

22 Sep 22
Share |
Print This Page
JDRF ने लॉन्च की ग्लोबल टाइप-1 डायबिटीज निर्देशिका (T1D Index)

दिल्ली, JDRF, अग्रणी वैश्विक टाइप 1 डायबिटीज (T1D) अनुसंधान और वकालत संगठन, ने टाइप 1 डायबिटीज निर्देशिका (T1D निर्देशिका) के शुभारंभ की घोषणा की। T1D निरेदेशिका अपनी तरह का पहला डेटा अनुकरणीय टूल है जो दुनिया भर के हर देश में T1D संकट के मानव और सार्वजनिक स्वास्थ्य प्रभाव को मापता है। अब तक, T1D की घटना और प्रभाव के बारे में डेटा में व्यापक अंतराल रहा है। T1D निरेदेशिका का डेटा और गहरी जानकारी का लाभ उठाने से T1D लोगों के जीवन को बदलने में मदद मिल सकती है, जिसमें समय पर निदान, सुलभ देखभाल और वित्त पोषण अनुसंधान सहित प्राप्य देश-दर-देश हस्तक्षेपों की पहचान की जा सकती है जिससे इलाज भी हो सके।

T1D निरेदेशिका और उससे जुड़े शोध सबसे पुराने और सबसे भरोसेमंद मेडिकल जर्नल, द लैंसेट डायबिटीज एंड एंडोक्रिनोलॉजी में प्रकाशित हुए हैं।


T1D एक स्वप्रतिरक्षित समस्या है और दुनिया भर में लगभग 90 लाख लोगों को प्रभावित कर रही, यह सबसे तेजी से बढ़ती जीर्ण स्वास्थ्य समस्याओं में से एक है। पारिवारिक आनुवंशिकता जैसे कुछ कारक जोखिम को बढ़ा सकते हैं, लेकिन यह आहार या जीवन शैली के कारण नहीं होता है। टाइप वन डायबिटीज (T1D) पैंक्रियास का बहुत कम मात्रा में इंसुलिन बनाना या बिल्कुल भी नहीं बनाने के कारण होता है - इसका मतलब है कि मानव शरीर भोजन को ऊर्जा में परिवर्तित नहीं कर सकता है, जिससे दीर्घकालिक दुष्प्रभाव हो सकते है जेसे गुर्दे, आंखों, तंत्रिकाओं, हृदय को नुकसान और यहां तक ​​​​कि समय से पहले मृत्यु भी हो सकती है, वर्तमान में T1D का कोई भी इलाज नहीं है।

" T1D समुदाय के एक सदस्य के रूप में, मुझे पता है कि बहुत से लोग उतने भाग्यशाली नहीं हैं जितना कि मै, जिसके पास एक स्वस्थ और पूर्ण जीवन जीने के लिए आवश्यक संसाधन उपलब्द हैं," JDRF के सीईओ, पीएचडी हारून कोवाल्स्की ने कहा। "यही कारण है कि मुझे बहुत गर्व है कि T1D के वैश्विक प्रभाव को T1D निर्देशिका के माध्यम से समझने में महत्वपूर्ण प्रगति हुई है। हम दुनिया भर में सरकार और सार्वजनिक स्वास्थ्य निर्णय निर्माताओं से ऐसे हस्तक्षेपों की पहचान करने और उन्हें लागू करने के लिए उपकरण का उपयोग करने का आह्वान कर रहे हैं जो T1D के प्रक्षेपवक्र को बदल सकते हैं। ”

JDRF ने T1D निरेदेशिका को विकसित करने के लिए दुनिया भर के प्रमुख भागीदारों और विशेषज्ञों के साथ सहयोग किया, जिसमे उन्होंने 500 से अधिक एंडोक्रिनोलॉजिस्ट और 400 प्रकाशनों के वैश्विक सर्वेक्षण के परिणामों का उपयोग करके विश्व स्तर पर और देश स्तर पर T1D की स्थिति का अनुकरण किया।

ये निरेदेशिका "लापता लोगों" को उजागर करके T1D के मानवीय भार को विशिष्ट रूप से प्रकाशित करता है, “जो कि उन लोगों की संख्या है जो शायद आज भी जीवित होंगे यदि वे T1D के दुष्प्रभाव के कारण जल्दी नहीं मरे और "अपने स्वस्थ वर्ष खोने पर ", यह T1D जीवन से अस्वस्थ रहने, विकलांगता या प्रारम्भिक मृत्यु से लुप्त हुए समय का प्रतिनिधित्व करता है।

T1D निरेदेशिका के अनुकरण से पता चलता है कि 2022 तक विश्व स्तर पर 38 लाख 60 हजार से अधिक “लोग लापता” है और यदि 10 वर्ष की आयु में T1D का निदान हुआ तो उस व्यक्ति ने औसतन 32 “स्वस्थ वर्ष खो दिए” है।

T1D का उन लोगो पर मानवीय, भावनात्मक और आर्थिक बोझ का गहरा प्रभाव पड़ता है जो इसके साथ अपना जीवन यापन करते है – और यह व्यापकता बढ़ रही है। T1D निरेदेशिका के अनुकरण से चार प्रमुख हस्तक्षेपों की पहचान हुई है जो T1D के लिए वर्तमान प्रक्षेपवक्र और दुनिया भर के लोगों पर इसके प्रभाव को बदल सकते हैं:-

समय पर निदान: T1D का सटीक निदान करने के लिए चिकित्सा पेशेवरों के लिए बेहतर शिक्षा और प्रशिक्षण को सक्षम करना। यदि 2023 से वैश्विक आबादी के पास समय पर निदान की सही सुविधायें उपलब्ध हो, तो 2040 में 6,68,000 और ज्यादा लोग जीवित रह सकते हैं।

इंसुलिन और स्ट्रिप्स: इंसुलिन और रक्त ग्लूकोज जांच स्ट्रिप्स के लिए बाधा-मुक्त पहुंच बनाना। यदि 2023 से वैश्विक आबादी के पास इंसुलिन और शुगर जांच की स्ट्रिप्स की उपलब्धता होती है, और स्थिति को स्वयं प्रबंधित करने के लिए डायबिटीज शिक्षा है, तो 2040 में 19 लाख 80 हजार से और ज्यादा लोग जीवित रह सकते हैं।

पंप और सी.जी.एम: यह सुनिश्चित करना कि T1D के साथ रहने वाले प्रत्येक व्यक्ति के पास ऐसी तकनीक की पहुँच आसानी से हो जो ग्लूकोज स्तर की निगरानी करने में और इंसुलिन देने में स्वचालित हो। यदि T1D वाले सभी लोगों के पास 2023 से यह तकनीक उपलब्ध हो तो 2040 में 6,73,000 और लोग जीवित रह सकते हैं

रोकथाम और इलाज: उभरती रोकथाम, उपचार और इलाज में आगे निवेश और अनुसंधान के लिए वजह बनाना। अगर हम इसका इलाज ढूंढ लेते हैं तो 2040 में 8,90,000 और लोग जीवित रह सकते हैं।

एक बार वैश्विक और देश स्तर पर हस्तक्षेपों की पहचान हो जाने के बाद, T1D निरेदेशिका उपयोगकर्ताओं को अपने नेटवर्क और स्थानीय निर्णय निर्माताओं के साथ डेटा और निष्कर्षों को साझा करके और अपने समुदायों में अन्य T1D अधिवक्ताओं के साथ जुड़कर कार्रवाई करने के लिए उनकी हिम्मत बढाती है।

इसके अतिरिक्त, T1D निरेदेशिका विश्व स्तर पर T1D के बोझ के बारे में महत्वपूर्ण आँकड़ों पर प्रकाश डालता है, जिसमें शामिल हैं:

2000 के बाद से, T1D का प्रसार वैश्विक जनसंख्या वृद्धि की दर से चार गुना बढ़ गया है।

2040 तक T1D लोगो की अपेक्षित संख्या 1 करोड़ 74 लाख 30 हजार हो जाएगी।

वर्ष 2040 तक "लापता लोगों" की संख्या 68 लाख 50 हजार होने का अनुमान है।

T1D निरेदेशिका डेटा अनुकरण वर्तमान में उपलब्ध सबसे अच्छा अनुमान है जो वास्तविक दुनिया के डेटा के मुकाबले संस्करण 1.0 से +/- 6 प्रतिशत तक परीक्षण के साथ उपलब्ध है। यह प्रमुख मौजूदा अनुमानों में एक महत्वपूर्ण सुधार है जो मोजुदा डेटा के मुकाबले +/- 35 प्रतिशत तक ही परीक्षण करते हैं। यह JDRF, लाइफ फॉर ए चाइल्ड, इंटरनेशनल सोसाइटी फॉर पीडियाट्रिक एंड एडोलसेंट डायबिटीज (ISPAD), इंटरनेशनल डायबिटीज फेडरेशन (IDF), और बियॉन्ड टाइप 1 द्वारा एक सहयोगात्मक विकास है। T1D निरेदेशिका को कॉर्पोरेट प्रायोजक के संस्थापक व् एबॉट के समर्थन के साथ-साथ , लिली, वर्टेक्स फार्मास्युटिकल्स और द लियोना एम. और हैरी बी. हेम्सले चैरिटेबल ट्रस्ट का अतिरिक्त समर्थन समर्थित है। भविष्य विज्ञप्ति में, निरेदेशिका का विस्तार होगा जिसमे, T1D का प्रभाव आर्थिक लागत पर , मानसिक स्वास्थ्य और जीवन की गुणवत्ता पर पड़ेगा। डेटा को क्षेत्रीय और जनसांख्यिकीय स्तरों पर भी विभाजित किया जाएगा।

आप T1D निर्देशिका के विषय में ओर अधिक जानने के लिए यहाँ क्लिक करें here.

 

JDRF के विषय में-

JDRF का मिशन T1D और इसके दुष्प्रभावओं को ठीक करने, रोकने और इलाज करने के लिए जीवन बदलने वाली सफलताओं में तेजी लाना है। इसे पूरा करने के लिए, JDRF ने अपनी स्थापना के बाद से अनुसंधान निधि में ₹199,900,750,000.00/- से अधिक रूपये का निवेश किया है। यह अपने स्थानीय समुदायों से जुड़ने वाले लोगों के जमीनी मॉडल पर बनाया गया एक संगठन है, जो दक्षता और व्यापक धन उगाहने वाले प्रभाव के लिए क्षेत्रीय रूप से सहयोग करता है, और संसाधनों, जुनून और ऊर्जा को संग्रह करने के लिए एक राष्ट्रीय मंच पर एकजुट होता है। यह T1D लोगों के लिए नवीन उपचारों की एक संयोजक रेखा विकसित करने और वितरित करने के लिए शैक्षणिक संस्थानों, नीति निर्माताओं और कॉर्पोरेट व् उद्योग भागीदारों के साथ सहयोग करता है। संयुक्त राज्य भर में JDRF के कर्मचारी और स्वयंसेवक और पाँच अंतर्राष्ट्रीय सहयोगी वकालत, सामुदायिक सहभागिता और T1D मुक्त संसार की दूरदर्शिता के लिए समर्पित हैं। अधिक जानकारी के लिए, कृपया jdrf.org पर जाएं या ट्विटर (@JDRF), फेसबुक (@myjdrf), और इंस्टाग्राम (@jdrfhq) पर फॉलो करें।

टाइप वन डायबिटीज (T1D) के विषय में-

T1D एक स्वप्रतिरक्षित स्थिति है जो अग्न्याशय के बहुत कम मात्रा में इंसुलिन या बिल्कुल भी नहीं बनाने के कारण होती है, जिससे दीर्घकालिक दुष्प्रभाव होते हैं जिसमें रक्त शर्करा का स्तर कम या ज्यादा होना, गुर्दे, आंखों, नसों और हृदय को नुकसान; और इलाज न मिलने पर मौत होना शामिल हो सकता हैं। यह सबसे तेजी से बढ़ने वाली जीर्ण स्वास्थ्य समस्याओं में से एक है। बहुत से लोग मानते हैं कि T1D केवल बचपन और प्रारंभिक यौवन अवस्था में ही घटित होती है, लेकिन वयस्कता में इसका घटना बढ़ रहा है, और यह कुल T1D निदानों में लगभग 50% हिस्सा है। शुरुआत अचानक होती है और इसे रोकने के लिए अभी तक कुछ भी नहीं किया जा सका है - यह आहार या जीवन शैली से संबंधित नहीं है। हालांकि इसके कारणों को अभी तक पूरी तरह से समझा नहीं जा सका है, वैज्ञानिकों का मानना ​​है कि इसमें आनुवंशिक कारक और पर्यावरणीय कारण दोनों शामिल हैं। वर्तमान में T1D का कोई भी इलाज नहीं है।


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Headlines , Business News , ,
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like