GMCH STORIES

*रक्तदान महादान है,इससे बड़ा कोई पुण्य नही हो सकता :डॉ हर्ष वर्धन*

( Read 1817 Times)

22 Nov 20
Share |
Print This Page
*रक्तदान महादान है,इससे बड़ा कोई पुण्य नही हो सकता :डॉ हर्ष वर्धन*

नई दिल्ली।केन्द्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मन्त्री डॉ हर्ष वर्धन ने लोगों का आह्वान किया है कि वे  रक्तदान के लिए स्वेच्छा से आगे आए।शनिवार को नई दिल्ली में इण्डियन रेडक्रोस सोसाइटी और दिल्ली भाजपा युवा मोर्चा द्वारा आयोजित रक्तदान शिविर का उद्घाटन कर रहे थे। उन्होंने कहा कि रक्तदान महादान है और इससे बड़ा कोई पुण्य नही हो सकता । रक्तदान से पीड़ित लोगों का जीवन बचाया जा सकता है। रक्तदान करने वाले को कोई कमजोरी नही होती बल्कि वैज्ञानिक दृष्टि से लाभ ही होता है। उन्होंने कहा कि 16 से 65 वर्ष की उम्र तक का व्यक्ति हर 3 महीने बाद रक्तदान कर सकता है। कोरोना काल में रक्त दान का महत्व और बढ़ गया है। इस संकटकाल में भाजपा के कार्यकर्ताओं ने स्वैच्छिक रक्तदान कर साबित कर दिया कि वे जनसेवा के प्रति कटिबद्ध हैं। इस रक्तदान शिविर का शुभारंभ कर मैं स्वयं को सौभाग्यशाली मानता हूं। दो दिन पहले सूचना मिली कि इंडीयन  रेड क्रॉस को रक्त की ज़रूरत है और 48 घंटे के अंदर भाजपा युवा मोर्चा के कार्यकर्ताओं ने यहां स्वैच्छिक रक्तदान कर साबित कर दिया कि वे जनसेवा को लेकर कटिबद्ध हैं।इतने कार्यकर्ता पहुंचे की जगह कम पड़ गई ।

उन्होंने कहा कि देश में स्वैच्छिक रक्तदान का आंदोलन जितना गहरा होगा, सुरक्षित रक्त की कमी से होने वाली परेशानियां उतनी कम होंगी।

इस मौके पर दिल्ली भाजपा अध्यक्ष आदेश गुप्ता भी मौजूद थे


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Health Plus
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like