खेरवाडा की जमीन पर किए गए अतिक्रमण को हटाने की मांग की

( Read 666 Times)

26 Aug 19
Share |
Print This Page

खेरवाडा की जमीन पर किए गए अतिक्रमण को हटाने की मांग की

खेरवाडा  | विद्यार्थी संघर्श समिति खेरवाडा के प्रतिनिधि मण्डल ने क्षेत्रिय विधायक दयाराम परमार को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सोंप कर ऋषभदेव पंचायत समिति में सभी संकाय के साथ राजकीय महाविद्यालय खोलने, राजकीय महाविद्यालय खेरवाडा में एमएससी संकाय के साथ स्नातकोत्तर की सभी विषयों की कक्षाएं शुरू करने व पर्याप्त शैक्षिक स्टाफ उपलब्ध कराने, खेरवाडा महाविद्यालय के नवनिर्मित छात्रावास में प्रवेश दिलाने, खेल मैदान को विकसित कर सभी खेलों के लिए खेल सामग्री उपलब्ध कराने के साथ ही राजकीय महाविद्यालय खेरवाडा तथा कन्या महाविद्यालय खेरवाडा में शुल्क जमा करा चुके समस्त विधार्थियों को हर हाल में प्रवेश दिये जाने, सत्र समाप्ति से पूर्व सभी छात्र-छात्राओं को ग्रह किराया, छात्रवृत्ति देने व बुक बैंक से पुस्तकें उपलब्ध कराने, दौनों महाविद्यालयों में कैंटीन की व्यवस्था करवाने तथा राजकीय कन्या महाविद्यालय खेरवाडा की जमीन पर किए गए अतिक्रमण को हटाने की मांग की गई।

  संघर्श समिति के सयोजक प्रवीण अहारी ने बताया कि जनजाति क्षेत्र में ज्यादातर मजदूर और किसान निवास करते है जिनकी आर्थिक स्थिति बहुत ही दयनीय है। तहसील ऋशभदेव मुख्यालय पर राजकीय महाविधालय नहीं होने की वजह से विधार्थियों को डुंगरपुर, उदयपुर, सलुम्बर, सराडा, खेरवाडा, बासवाडा सहित अन्य महाविधालयों में प्रवेष लेने के लिए भटकना पडता है। राजकीय महाविद्यालय में प्रवेष नहीं मिलने के कारण विधार्थियों को निजी महाविद्यालयों में प्रवेष लेने के लिए मजबूर होना पडता है। उन्होंने बताया कि यह गरीब विधार्थियों की क्षमता से बाहर होता है और परिजनों को कर्ज लेकर भारी फीस जमा कराने को मजबूर होना पडता है।

राजकीय महाविद्यालय के रणजीत खराडी ने बताया कि महंगाई के अनुसार छात्रवृति नही बढती है और कई बार पुरा सत्र बीत जाने के बाद भी नही मिलती है। उन्होने बताया कि राजकीय कन्या महाविधालय खेरवाडा में ३५० से अधिक बालिकाओं ने फीस जमा करा दी है पर अब सीटे नही होने का बहाना बनाकर फीस लौटाने की कोषिष की जा रही है जिसका विरोध किया जाएगा।

  संघर्श समिति की प्रिया सोलविया ने बताया कि कुछ राजनैतिक पार्टियों के नेता अपने स्वार्थ के लिए विद्यार्थियों को जाति, धर्म, गोत्र में बांटने की कोषिष कर रहे है। जो विधार्थियों की एकता को तोडने का शडयंत्र है जिसे बर्दाष्त नही किया जायेगा। विद्यार्थी संघर्श समिति के मनोहर ने खेरवाडा में चलायी जा रही मुहीम का समर्थन किया और चेतावनी दी कि जल्दी ही यह मांगे पुरी नही की जाती है तो विधार्थियों को आन्दोलन का रास्ता अख्तियार करना पडेगा जिसकी जिम्मेदारी प्रषासन की रहेगी।

  ज्ञापन देने में रणजीत खराडी, जितेन्द्र कुमार बोडात, प्रकाषचन्द्र, रविन्द्रकुमार मीणा के साथ ही अनेकं विधार्थी मोजुद थे।

 


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Dungarpur News
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like