Pressnote.in

समाचार आरंभ से अब तक

( Read 3837 Times)

15 Mar, 17 07:28
Share |
Print This Page

समाचार आरंभ से अब तक डा0 प्रभात कुमार सिंघल.लेखक एवं पत्रकार,समाचार पत्रें का आधुनिक स्वरूप व्यक्ति की सामाजिक आवश्कताओं, उपलब्धियों मध्यवर्गीय संभावनाओं, लोकतांत्र्कि इच्छाओं, व्यक्ति स्वातंव्य और व्यावसायिक मानदंडो के विकास का प्रतिफल है। सामाजिक प्राणी बनने के साथ ही मनु६य के लिए संचार ने एक आधारभूत आवश्कता का रूप ले लिया था। आरंभ में सूचना संचार के निमित्त व्यक्ति ही ’समाचारपत्र् का काम करता था, लेकिन जल्दी ही आवश्कता ने आविष्कार को जन्म दे दिया और ईसा पूर्व 59 में रोम में ’एक्सा दिउरना’(रोज की घटनाएं) नाम के इश्तहार का रोजाना प्रकाशन किया जाने लगा। रोम के तत्कालीन शासक जूलियस सीजर का आदेश था कि यह इश्तहार शहर के सभी हिस्सों में उपलब्ध कराया जाना चाहिए। मुदि्रत समाचारपत्र् का पहली बार जिक्र सन् 748 ईसवी में मिलता है, जब चीन में लकडी से बने उलटे अक्षरों पर स्याही लगाकर उनसे कागज पर छापने का काम किया गया। चीन की इस उपलब्धि का कारण था कागज की खोज। चीन में होती नाम के हान वंश के सम्राट के शासन काल में कागज बनाने के प्रयोगों में सफलता मिलने लगी थी। यह ईसा पूर्व तीसरी शताब्दी की बात है। ये प्रयोग सम्राट होती के एक प्रमुख दरबारी त्साई लुन द्वारा किए गए थे। इसी के साथ चीन में छोटे पैमाने पर कागज के निर्माण की सफल शुरूआत हो चुकी थी। हालांकि इतिहासकारों के अनुसार इससे पहलें मिस्त्र ओर यूनान में कागज बनाने के प्रयोग किए जा चुके थे। मिस्त्रवासियों ने र्सिपरस पेपीरस’ नामक पेड के तने को नील नदी के दलदल में नरम करके या गलाकर उससे कागज बनाने के प्रयोग किए थे। पेपीरस से ही पेपर अर्थात कागज शब्द अस्तित्व में आया। संभवतः यह वही समय था, जब भारत में लिखने के उ*े८य से भोज तथा कुछ दूसरे वृक्षों के पत्तों को काम में लाया जाता था।



इन आरंभिक प्रयासों और सफलताओं के बावजूद विधिवत मुदि्रत समाचारपत्र् तभी अस्तित्व में आए, जब 1447 में जर्मनी के स्वर्णकार जोहान गुटनबर्ग ने प्रिटिंग प्रेस का आविष्कार करने में सफलता प्राप्त कर ली। गुटेनबर्ग ने धातु के अक्षरों को उलटी आकृति में ढालकर मशीन द्वारा मुद्रण का और इस प्रकार ज्ञान के प्रचार-प्रसार के एक नए युग का सूत्र्पात किया। इस आविष्कार के दो व६ार् के भीतर ही 42 पंक्तियों वाली बाइबिल सफलतापूर्वक छापी गई, जिसकी संख्या बहुत थोडे समय में कई लाख तक पहुंच गई।
जल्दी ही इस क्रांति ने मुद्रण उघोग के द्वार खोल दिए और समाचार पत्र्/पत्र्किाएं तथा पुस्तकों के एक नए संसार की रचना होने लगी। बढते व्यापार और कारोबार के साथ तालमेल बैठाते हुए समाचारपत्रें में वाणिज्य और व्यवसाय से संबधित समाचारों को अधिकाधिक स्थान दिया जाने लगा। इसी दौरान फ्रांस में डाक व्यवस्था की शुरूआत और इंग्लैंड में कागज मिल की स्थापना हुई। 1609 में जर्मनी में ‘अविसा रिलेशन ऑर्डर जीतुंग’ नाम से यूरोप के पहले नियमित समाचारपत्र् का प्रकाशन भी आरंभ हुआ, लेकिन 1665 में प्रकाशत ‘लंदन गजट’ को ही पहला वास्तविक समाचारपत्र् माना गया। इसमें पहली बार डबल कॉलम में समाचार छापने का प्रयोग किया गया। यह पत्र् आज भी निकलता है।

समाचारपत्रें के बुनियादी विकास और वैज्ञानिक दृ६टकोण के साथ प्रकाशन की नींव 17वीं शताब्दी में पडी। इस काल में जर्मनी के अलावा फ्रांस, बेल्जियम और इंग्लैड में भी नियमित पत्रें का प्रकाशन होने लगा। इस शताब्दी के उत्तरार्द्ध के अखबारों की मुदि्रत सामग्री में भी पाठकीय रूचि के अनुरूप परिवर्तन होने लगा। अब स्थानीय मु*ों को और अधिक प्रमुखता दी जाने लगी। हालांकि अभी ज्यादातर अखबारों के लिए सेंसरशप जैसी स्थितियां बरकरार थीं। स्वीडन दुनिया का पहला ऐसा देश था, जिससे 1766 में प्रेस की स्वतंत्र्ता की रक्षा के उ*े८य से कानून बनाया।

इसी समय भारत में भी पत्र्कारिता की नींव पडी। 29 जनवरी 1780 में एक धनी अंग्रेज यात्री जेम्स ऑगस्टस हिकी ने ‘बंगाल गजट’ के नाम से देश का पहला समाचारपत्र् प्रकाशत किया। हिकी ने अंग्रेज शासकों के कारनामों की ऐसी पोल खोली कि उसे झूठे मामलों में जेल की यात्र भी करनी पडी, लेकिन उसने पत्र्कारिता की आजादी के लिए संघ६ार् किया और जुर्माना भी भरा। हिकी ने ‘बंगाल गजट’ के बाद एक ‘अन्य अग्रेज विलियम ड्यून ने ‘बंगाल जनरल’ के नाम से 1785 में एक और पत्र् निकाला। 1785 में ही मद्रास से एक अन्य अंंग्रेज वॉयड ने ‘मद्रास क्रूरियर’ शुरू किया। 1789 में मुंबई से ’बॉम्बे हेराल्ड’ नाम से पहला पत्र् निकला। मुंबई से ही 1790 में ’बॉम्बे कूरियर’ और बॉम्बे गजट’ का प्रकाशन शुरू हुआ।

प्रिटिंग प्रेस का आविष्कार करने में सफलता प्राप्त कर ली। गुटेनबर्ग ने धातु के अक्षरों को उलटी आकृति में ढालकर मशाीन द्वारा मुद्रण का और इस प्रकार ज्ञान के प्रचार-प्रसार के एक नए युग का सूत्र्पात किया। इस आविष्कार के दो व६ार् के भीतर ही 42 पंक्तियों वाली बाइबिल सफलतापूर्वक छापी गई, जिसकी संख्या बहुत थोडे समय में कई लाख तक पहुंच गई। जल्दी ही इस क्रांति में मुद्रण उधोग के द्वारा खोल दिए और समाचार-पत्र्/पत्र्किाएं तथा पुस्तकों के एक नए संसार की रचना होने लगी। बढते व्यापार और कारोबार के साथ तालमेल बैठाते हुए समाचारपत्रें वाणिज्य और व्यवसाय से संबंधित समाचारों को अधिकाधिक स्थान दिया जाने लगा। इसी दौरान फ्रांस में डाक व्यवस्था की शुरूआत और इग्लैण्ड में कागज मिल की स्थापना हुई। 1609 में जर्मनी में ‘अविसा रिलेशन ऑर्डर जीतुंग’ नाम से यूरोप के पहले नियमित समाचार पत्र् का प्रकाशन भी आरंम्भ हुआ, लेकिन 1665 में प्रकाशत ‘लंदन गजट’ को ही पहला वास्तविक समाचारापत्र् माना गया। इसमें पहली बार डबल कॉलममें समाचार छापनेका प्रयोग किया गया। यह पत्र् आज भी निकलता हैं।
समाचारपत्रें के बुनियादी विकास और वैज्ञानिक दृ६टकोण के साथ प्रकाशन की नींव 17 वीं शताब्दी में पडी। इस काल में जर्मनी के अलावा फ्रांस, बेल्जियम और इंग्लैण्ड में भी नियमित पत्रें का प्रकाशन होने लगा। इस शताब्दी के उत्तरार्द्ध के अखबारों की मुदि्रत सामग्री में भी पाठकीय रूचि के अनुरूप परिवर्तन होने लगा। अब स्थानीय मुद्दों को और अधिक प्रमुखता दी जाने लगी। हालांकि अभी ज्यादातर अखबारों के लिए सेंसरशप जैसी स्थितियां बरकरार थीं। स्वीडन दुनिया का पहला ऐसा देश था, जिसने 1766 में प्रेस की स्वतंत्र्ता की रक्षा के उद्देश में कनून बनाया।
इसी समय भारत में भी पत्र्कारिता की नींव पडी। 29 जनवरी 1780 में एक धनी अंग्रेज यात्री जेम्स ऑगस्ट हिकी ने ‘बंगाल गजट’ के नाम से देश का पहला समाचारपत्र् प्रकाशत किया। हिकी ने अंग्रेज शासकों के कारनामों की ऐसी पोल खोली कि उसे झूठे मामलों में जेल की यात्र भी करनी पडी, लेकिन उसने पत्र्कारिता की आजादी के लिए संघ६ार् किया और जुर्माना भी भरा। हिकी के ‘बंगाल गजट’ के बाद एक अन्य अंग्रेज बिलियम ड्यून ने ‘बंगाल जनरल’ के नाम से 1785 में एक और पत्र् निकाला। 1785 में ही मद्रास से एक अन्य अग्रेंज वॉयड ने ‘मद्रास कूरियर’ शुरू किया। 1789 में मुंबई से ‘बॉम्बे हेराल्ड’ नाम से पहला पत्र् निकला। मुंबई से ही 1790 में ‘बाम्बे कूरियर’ और बॉम्बे गजट’ का प्रकाशन शुरू हुआ।
1844 में टेलीग्राफी क आविष्कार ने समाचारपत्रें की दुनिया का नक्शा ही बदल दिया। इससे मिनटों में सूचना संप्रे६ाण की सुविधा हासिल हो गई और यथार्थपरक रिपोर्टिंग तथा समय रहते सूचना संप्रे६ाण संभव हो सका। इस मध्य औधोगिक क्रांति ने भी समाज में अनेक परिर्वतनों के द्वारा खोले और समाचारपत्र् भी उसके प्रभाव से आछूते नहीं रहे। उनकी संख्या और पाठको की तादाद दोनों में भारी वृद्धि हुई। 1850 के आंकडों के मुताबिक उस समय प्रकाशत होने वाले पत्रें की कुल संख्या 2526 थी।
इसी बीच अखबार के लिए एक अलग किस्म के कागज के आविष्कार में सफलता हाथ लगी। 1838 में हैलीफैक्स के चार्ल्स फेनरटी की न्यूजपिंे्रट बनाने में कामयाबी मिली। चार्ल्स साधारण कागज बनाने के लिए रद्दी और चीथडों की मात्र का सही अनुपात बैठाने की कोशश कर रहा था कि अकस्मात लकडी की लुगदी से कागज की ऐसी किस्म बनाने में सफलता मिल गई, जो अखबार छापने के लिए बहुत उपयोगी था। हालांकि चार्ल्स ने इसका पेटेंट कराने की व्यावसायिक सूझबूझ नहीं दिखाई और इस खोज को कुछ दूसरे लोगों ने अपने नाम लिखा लिया।
19 वीं सदी के ही तीसरे दशक में हिंदी की यशस्वी और संस्कारवान पत्र्कारिता की आधारशला रखी गई। 30 मई 1826 को युगलकिशोर शुल्क ने साप्ताहिक पत्र् ‘उदंत मार्तंड’ शुरू किया। यह पत्र् समाचार चयन, भा६ाा और सामाजिक सरोकारों की दृ६ट से परंपरा और नए आदशोर्ं का वाहक बना। लगभग इसी समय महान सुधारवादी नेता राजा राममोहन राय भा६ााई पत्र्कारिता के लिए उर्वर जमीन तैयार कर रहे थे। उन्होंने बंगला के साथ-साथ अग्रेंजी में भी पत्रें का प्रकाशन किया।
19 वीं सदी के इसी दशक में ऐसे भारी-भरकम प्रिटिंग प्रेस बनाए जा सके, जो एक घण्टे में 10 हजार मुकम्मल अखबार छापने की क्षमता रखते थे। इन्ही दिनों फोटोग्राफी की तकनीक भी ईजाद की गई। उसका इस्तेमाल करते हुए पहली बार कई स्थानों से सचित्र् साप्ताहिक समाचापत्र् निकाले जाने लगे। 19 वीं शताब्दी के मध्य तक समाचारपत्रें ने समाज में अपना विश६ट और महत्वपूर्ण स्थान बना लिया। वे सूचनाओं को ग्रहण करने और उनका प्रसारित करने का मुख्य माध्यम बन गए।
1890 से 1920 के बीच के तीन दशकों के समाचारपत्र् उघोग का स्वर्णिम काल कहा जा सकता हैं। इस दौरान विलियम रेनडॉल्फ हर्स्ट, जोसेफ पुलित्जर और लॉर्ड नॉर्थक्लिफ के प्रकाशन साम्राज्य स्थापित हुए। इतना महत्व और वि८वसनीयता हासिल करने के बाद आंदोलन और क्रांति के संवाहक की भूमिका भी समाचारपत्र् निभाने लगे। इसका एक उल्लेखनीय उदाहरण 1900 में लेनिन द्वारा प्रकाशत ‘इस्क्रा’ (चिनगारी) हैं। इसी प्रकार 21 जून 1925 को वियतनाम में ‘थान नियन’ माक्र्सवाद के प्रचार के उद्देश से निकाला गया।
1920 में रेडियों के प्रादुर्भाव ने समाचारपत्रें को समाज में सूचना के प्रमुख वाहक की अपनी भूमिका पर गंभीरता से पुनर्विचार करने के लिए विवश कर दिया। रेडियों के रूप में सूचना के रास्ते और सर्वसुलभ साधन के बाद इस चर्चा ने जोर पकडा लिया कि यह नई सुविधा समाचारपत्र् उघोग को धराशायी कर देगी। इस चुनौती का सामना करने के लिए अखबारों ने अपने रूप-रंग और सामग्री में परिवर्तन लाते हुए स्वयं को अधिक पठनीय, ज्यादा विचारपूर्ण और ज्यादा खोजपूर्ण सामग्री के साथ प्रस्तुत किया। समाचारपत्र् अभी इस चुनौती से निपट ही पाए थे कि उससे भी ज्यादा ताकतवर और प्रभावशाली माध्यम के रूप में टेलीविजन ने और अधिक गंभीर चुनौती पेश कर दी। 1940 से 1990 के बीच अकेले अमेरिका में प्रति 2 व्यक्ति के मध्य एक समाचारपत्र् का औसत घटकर प्रति 3 व्यक्ति के मध्य एक पत्र् रह गया। प्रसार संख्या में इस गंभीर गिरावट के बावजूद टेलीविजन इतना माद्दा नहीं दिखा पाया कि वह अखबारों के एकदम गई-गुजरी हैसियत का बना दे।
तकनीकि के विस्तार और विकास के साथ-साथ समाचापत्रें ने भी अपने रूप-रंग को सुंदर, आक६ार्क और दशर्नीय बनाने में कोई कसर नहीं छोडी, लेकिन अब फिर एक नई चुनौती मुदि्रत मीडिया के सामने आ खडी हुई है-पिछली शताब्दी के अंतिम दशक में यह चुनौती इंटरनेट ने पेश की हैं। इससे पहले कभी भी सूचनाओं का ऐसा महासागर एक साथ इतने लोगों को उपलब्ध नहीं था। फिर भी यह मानना गलत होगा कि इंटरनेट ने समाचारपत्रें की प्रासंगिकता समाप्त कर दी है। अपनी लोकप्रियता, आसान पहुंच, सशक्त रिपोर्टिंग और घटनाओं के सामयिक तथा सटीक वि८ले६ाण के कारण आज भी समाचारपत्र् व्यक्ति के जीवन को बहुत गहराई से प्रभावित करने में सक्षम हैं। एक अनुमान के अनुसार हर दिन लगभग एक अरब व्यक्ति कम से कम एक अखबार अव८य पढते हैं। इसके बावजूद यह देखना रोचक होगा कि प्रिंट मीडिया इंटरनेट की इस निरंतर प्रखर होती चुनौती का सामना कैसे करता है।



Source :

यह खबर निम???न श???रेणियों पर भी है: Udaipur News , Editors Choice
Your Comments ! Share Your Openion

Group Edior : Mr. Virendra Shrivastava
For any queries please mail us at : newsdesk.pr@gmail.com For any content related issue or query email us at newsdesk.pr@gmail.com, CopyRight © All Right Reserved. Pressnote.in