GMCH STORIES

द्रौपदी मुर्मू देश की पहली महिला आदिवासी और दूसरी महिला राष्ट्रपति बनेगी

( Read 1024 Times)

22 Jun 22
Share |
Print This Page

-गोपेंद्र नाथ भट्ट

द्रौपदी मुर्मू देश की पहली महिला आदिवासी और दूसरी महिला राष्ट्रपति बनेगी

जैसा अनुमान लगाया जा रहा था कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी देश के सर्वोच्च संविधानिक पद राष्ट्रपति के लिएएक अप्रत्याशित नाम को देश के आगे लायेंगे और मंगलवार शाम होते होते एनडीए उम्मीदवार के रूप में द्रौपदी मुर्मू  का नाम सार्वजनिक रूप से उजागर हो गया। इससे पहलें मंगलवार को अपरांह 19 विपक्षी दलों ने भी पूर्व केन्द्रीय वित्त मन्त्री यशवन्त सिन्हा को अपना संयुक्त उम्मीदवार बनाया है।इस कारण सर्व सम्मति से राष्ट्रपति चुनने की सम्भावनाएँ क्षीर्ण हो गई।

हाँ ! देश को आजादी के बाद अब पहली आदिवासी महिला राष्ट्रपति मिलने वाली है। ख़ासियत यह है किझारखण्ड की पूर्व राज्यपाल और उड़ीसा के एक आदिवासी समुदाय की द्रौपदी मुर्मू देश की दूसरी महिला राष्ट्रपति भी बनेगी।इससे पूर्व यूपीए के शासन काल में राजस्थान की राज्यपाल प्रतिभा देवीसिंह पाटिल ने राजस्थान के ही भेरोंसिंह शेखावत को जोकि तब उप राष्ट्रपति थे को पराजित कर देश की पहली महिला राष्ट्रपति बनी थी।

द्रौपदी मुर्मू के राष्ट्रपति बनने पर  आजादी के बाद किसी पहली बार  किसी आदिवासी महिला को यह सम्मान मिलेगा। इस प्रकार यह एक नया इतिहास बनने वाला है।

राष्ट्रपति चुनाव में बीजेपी की अगुवाई वाले एनडीए गठबंधन के उम्मीदवार के नाम पर मंथन के लिए मंगलवार शाम को नई दिल्ली में भाजपा पार्टी मुख्यालय पर  पार्टी की सर्वोच्च नीति निर्धारक संस्था, संसदीय बोर्ड कीबैठक हुई। बैठक के बाद पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने ऐलान किया कि झारखंड की पूर्व गवर्नर द्रौपदी मुर्मू एनडीए की ओर से राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार होंगी। नड्डा ने बताया कि संसदीय बोर्ड की बैठक में करीब 20 नामों पर चर्चा हुई और आदिवासी महिला नेता मुर्मू पर मुहर लगी। इस बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा अध्यक्ष जे पी नड्डा, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गड़करी और मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सहित संसदीय बोर्ड के अन्य सदस्य भी मौजूद थे।

देश के नए 16वें राष्ट्रपति का चुनाव 18 जुलाई को होना है।वोटों की गिनती 21 जुलाई को होगी। भारतीय निर्वाचन आयोग ने इसकी अधिसूचना जारी कर दी है।साथ ही नामांकन की प्रक्रिया भी शुरू हो चुकी है. राष्ट्रपति चुनाव के लिए नामांकन की अंतिम तिथि 29 जून है।

इधर नई दिल्ली में विपक्ष की बैठक में एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने कहा कि हम 27 जून को सुबह 11.30 बजे राष्ट्रपति चुनाव के लिए यशवन्त सिन्हा का नामांकन दाखिल करने जा रहे है। वैसे राष्ट्रपति चुनाव में संख्या बल को देखें तों इस आधार पर भाजपा नीत एनडीए मजबूत स्थिति में है, इसलिए द्रौपदी मुर्मू  की विजय में कोई सन्देह नहीं लगता।


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Headlines ,
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like