logo

पुलिस भर्ती में पहली बार ऐसी सख्ती जो आज तक नही देखी होगी किसी ने

( Read 34170 Times)

14 Jul 18
Share |
Print This Page

पुलिस भर्ती में पहली बार ऐसी सख्ती जो आज तक नही देखी होगी किसी ने   के डी अब्बासी/कोटा शनिवार और रविवार को कोटा में होने वाली पुलिस कांस्टेबिल भर्ती में में शहर पुलिस अधीक्षक अंशुमान भोमिया ने इस बार पुलिस के ऐसे इंतजाम और पुलिस की ऐसी पैनी निगाहे की भर्ती में नकल कराने वाले दूर दूर तक नजर नही आयेगे ।पहली बार बिना नकल वाली परीक्षा होगी इसमें जिला कलक्टर गौरव गोयल की बहुत बड़ी भूमिका हे। शहर पुलिस अधीक्षक अंशुमान भोमिया के निर्देश पर पुलीस ने शुक्रवार को ही सेंटर संचालको को शाम को ही पुलिस अधीक्षक दफ्तर के नजदीक नाश मुक्ति केंद्र में सब को बुलाया और समझा दिया की नकल किसी भी कीमत पर नही होनी चाहिये और पुलिस को भी निर्देश दिए नकल किसी भी कीमत पर नही हो। नकल नही हो इसके पक्के इंतजामात कर दिए । पुलीस को और सेंटर संचालको और एग्जाम के पेपर पहुंचाने वालो को शनिवार को सवेरे साढे चार बजे पुलिस लाईन नशा मुक्ति केन्द्र् में पहुंचने के निर्देश दिए यह सब बात पुलिस ने गोपनीय रखी हे। पुलिस अधीक्षक अंशुमान भोमिया ने पुलिस को इस मामले में सख्ती बरतने के निर्देश दिए हे । पुलिस भी एग्जाम सेंटरो से हिलेगी भी नही। में इंटरनेट सेवाओं को बंद रखने को लेकर पुलिस महकमा खुद स्पष्ट नहीं है। पूर्व में कहा गया था कि परीक्षा केन्द्र के पांच किलोमीटर के दायरे में इंटरनेट सेवाओं को बंद रखा जाएगा। चूंकि कांस्टेबल परीक्षा प्रातः 10 से 12 और फिर सायं 3 से 5 बजे के बीच होनी है। इसलिए माना जा रहा था कि दोनों दिन दिनभर इंटरनेट सेवाएं प्रभावित रहेंगी। जिससे बैंकों और अन्य सरकारी कार्यालयों का काम काज भी ठप रहेगा। यहां तक कि आम व्यक्ति के मोबाइल भी नहीं चल पाएंगे। लेकिन वहीं 13 जुलाई को परीक्षा तैयारियों को लेकर आला अधिकारियों ने कहा कि अब इंटरनेट सेवाओं को बंद करने का निर्णय संबंधित पुलिस अधीक्षकों के विवेक पर छोड़ दिया है। अब पुलिस अधीक्षक ही स्थानीय परिस्थितियों को देखते हुए ही इंटरनेट को बंद करने का निर्णय लेंगे। अधिकारियों का कहना रहा कि जरुरत पड़ने पर उन्हीं इलाकों में नेट सेवाएं बंद की जाएंगी जहां परीक्षा केन्द्र हैं। यानि इंटरनेट सेवाएं राजस्थान भर में बंद नहीं रहेगी।

कोचिंग सेंटरों पर निगरानी :- कांस्टेबल भर्ती परीक्षा को देखते हुए प्रदेश भर के कोचिंग सेंटरों पर विशेष निगरानी रखी गई है। संदेह वाले कोचिंग सेंटरों पर तो पुलिस कर्मियों को भी तैनात किया गया है।पुलिस को ऐसी शिकायतें मिल रही हैं कि कोचिंग सेंटरों में फर्जी अभ्यर्थी तैयार किए जा रहे हैं। इस आशंका को देखते हुए ही परीक्षा केन्द्रों पर भी सुरक्षा के कड़े उपाय किए गए हैं। अभ्यर्थियों से पहले ही कहा गया है कि वे जेब वाले परिधान पहन कर नहीं आए। यहां तक कि महिला अभ्यर्थियों की चप्पल भी परीक्षा केन्द्र के बाहर ही खुलवा ली जाएगी। यानि जो नियम यूपीएससी के हैं उन सभी का पालन कांस्टेबल की लिखित परीक्षा में होगा। संबंधित शिक्षण संस्थान के कर्मचारियों पर भी विशेष निगरानी रखी जा रही है। हालांकि पुलिस ने ड्यूटी देने वाले शिक्षा कर्मियों के नाम पते टेलीफोन नम्बर आदि नोट किए हैं। इस कार्यवाही का कुछ संस्थाओं के प्रबंधकों ने विरोध भी किया। खास कर महिला शिक्षा कर्मी के घर का पता और मोबाइल नम्बर लेने पर ऐतराज जताया गया। लेकिन पुलिस अधिकारियों ने भरोसा दिलाया कि सभी सूचनाएं गुप्त रखी जाएंगी। अलबत्ता पुलिस के अधिकारियों को यह पता ही चल गया है कि किस परीक्षा केन्द्र पर कौन सा शिक्षा कर्मी ड्यूटी दे रहा है।

15 लाख देंगे परीक्षा :- 13 हजार कांस्टेबल भर्ती परीक्षा के लिए 15 लाख से भी ज्यादा अभ्यर्थियों को सूचना भेजी गई है। हालांकि अनेक अभ्यर्थियों की शिकायत है कि वेबसाइट से प्रवेश पत्र डाउनलोड नहीं हो रहा है।
Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Headlines , Kota News
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like