logo

आपात स्थिति से निपटने हेतु हुई मॉकड्रील

( Read 2057 Times)

15 Apr 19
Share |
Print This Page
आपात स्थिति से निपटने हेतु हुई मॉकड्रील

चित्तौडगढ  ।  मॉक डील के अन्तर्गत हिन्दुस्तान जिंक के चन्देरिया लेड जिंक स्मेल्टर में शनिवार को प्रातः११.०५ बजे प्रोपेन स्टोरेज एरिया में गैस लिकेज की सूचना दी गई जिस पर जिंक प्रशासन एवं जिला प्रशासन ने तुरन्त हरकत में आकर बचाव एवं स्थिति पर काबू पाने की उपयुक्त तथा त्वरित कार्यवाही शुरू की।

भारत सरकार के नेशनल डिजास्टर मेनेजमेंट ऑथरिटी के तहत् हिन्दुस्तान जिंक की ईकाई चन्देरिया लेड जिंक स्मेल्टर में प्रोपन स्टोरेज एरिया में ऑफसाईट इमरजेंसी रेस्पोन्स ड्रील किया गया। ११ः०७ बजे सबसे पहले प्रोपेन एरिया में लिकेज की सूचना पर जिंक प्रशासन की फायर ब्रिगेड एवं एम्बूलेंस के साथ रेस्क्यू टीम ने मौके पर पहुंच तुरन्त बचाव एवं नियंत्रण की कार्रवाई शुरू कर दी। घटना की जानकारी मिलते ही पायरों यूनिट हेड कमोद सिंह ने घटना स्थल पर पहुंच कर स्थिति का जायजा लिया एवं तुरंत लोकेशन हेड को सहायता से लिए सूचित किया। चंदेरिया लेड जिंक स्मेल्टर के लोकेशन हेड पंकज कुमार शर्मा द्वारा जिला कलक्टर एवं पुलिस अधीक्षक को घटना की सूचना देने के साथ ही नजदीक के काखानों बिरला सिमेन्ट वक्र्स, आईओसीएल जालमपुरा, वंडर सीमेंट से मदद मांगी गई। इसी बीच मॉकड्रील के तहत् लीकेज पर काबू पाने के लिए कारखानें में उपलब्ध साधनों स्प्रींकलर सिस्टम, सिस्टम, फायर ब्रीगेड, फायर हाईड्रेन्ट मोनिटर से पानी का क्लाउड बनाकर प्रोपेन को फैलने से रोकने का प्रयास किया गया। बाहरी सहायता मिलने से पूर्व ही जिंक प्रशासन द्वारा स्थिति पर काबू पा लिया गया। इस बीच सबसे पहले चंदेरिया थाना अधिकारी अनिल जोशी, बिरला सिमेन्ट, नगर परिशद की फायर ब्रिगेड, पुलिस जाब्ता, वंडर सीमेंट से फायर ब्रिगेड, यूआईटी एम्बुलेंस मय दल के मौके पर पहुंचे। जिला कलेक्टर शिवांगी स्वर्णकार एवं पुलिस अधीक्षक अनिल कयाल के निर्देश पर पुलिस उपअधीक्षक विपीन शर्मा, उपपुलिस अधीक्षक गंगरार अशोक बटोलिया, चित्तौडगढ तहसीलदार अशोक कुमार शाह, गंगरार तहसीलदार ओम सिंह, ने पहुंच कर मौके की स्थिति एवं तैयारियों का जायजा लिया। हिन्दुस्तान जिंक के सेफ्टी हेड आदित्य सिंह ने अधिकारियों को सारे घटनाक्रम की विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने बताया कि मॉक ड्रील में लीकेज से दो व्यक्तियों के बेहोश होने के प्रदर्शन पर उन्हें चंदेरिया लेड जिंक स्मेल्टर के चिकित्सालय में पहुंचाया गया जहां से उन्हें जिला चिकित्सालय रेफर कर उपचार के लिये भेज दिया गया।

मौके पर मौजूद अधिकारियों ने मॉक ड्रील को सराहनीय एंव सफल बताते हुए कहा कि किसी भी आपदा की स्थिति में उद्योग तत्परता से प्रबंधन एंव बचाव राहत के कार्य करने हेतु निर्देशित किया। मॉक ड्रील के दौरान आईओसीएल के सेफ्टी ऑफिसर टीसी मीणा, चंदेरिया स्मेल्टर के उच्च अधिकारी उपस्थित रह।

 

 


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Zinc News
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like