GMCH STORIES

गंभीर कैरोटिड ब्लोआउट सिंड्रोम से पीड़ित मरीज को मिला नया जीवन

( Read 6631 Times)

21 Jul 22
Share |
Print This Page

गंभीर कैरोटिड ब्लोआउट सिंड्रोम से पीड़ित मरीज को मिला नया जीवन

उदयपुर : उदयपुर के पारस अस्पताल की न्यूरो टीम ने एक और सफलता हासिल की है। सीनियर कंसल्टेंट न्यूरोलॉजी एंड इंटरवेंशनल न्यूरोलॉजी डॉ. तरूण माथुर ने हाल ही में 45 वर्षीय मरीज़ का गंभीर कैरोटिड ब्लोआउट सिंड्रोम का सफल इलाज किया है। कैंसर मैनेजमेंट एंड रिसर्च जनरल में प्रकाशित रिसर्च के मुताबिक, दुनिया भर में कैरोटिड ब्लोआउट सिंड्रोम के 3 से 4 प्रतिशत मामले ही सामने आए हैं।

डॉ. तरूण माथुर ने बताया कि, " कैरोटिड ब्लोआउट सिंड्रोम एक गंभीर बीमारी है जो कि अधिकतर ऐसे मरीजों में देखी जाती हैं जिन्होंने सिर और गर्दन के कैंसर से पीड़ित होने की वजह से किसी प्रकार की सर्जरी या रेडियोथैरेपी ट्रीटमेंट लिया हो। इस जानलेवा बीमारी में कैंसर के इलाज के दौरान गर्दन की मुख्य आर्टरी कैरोटिड आर्टरी की बाहरी सतह को नुकसान पहुंचता है जिससे कभी भी रक्त स्राव होने की संभावना बढ़ जाती है और यह मरीज की जान के लिए भी खतरनाक हो सकती है।"

" इसका इलाज एंडोवस्कुलर तकनीक है जिसे कैरोटीड स्टैंटिंग कहा जाता हैं, इसमें ग्राफ्टेड स्टैंट का उपयोग किया जाता है जो कि करॉटिड आर्टरी से होने वाले रक्त स्राव को रोक देता है।" डॉ माथुर ने बताया

डॉ. तरूण माथुर, सीनियर कंसल्टेंट न्यूरोलॉजी एंड इंटरवेंशनल न्यूरोलॉजी एवं डॉ. नितिन कौशिक, एसोसिएट कंसलटेंट एनेस्थिसियोलॉजी, पारस अस्पताल की टीम ने 45 वर्षीय मरीज का इलाज इमरजेंसी में मध्यात्रि में ग्राफ्टेड स्टैंड से किया गया। मरीज मैलिग्नेंसी के कारण पहले भी कई बार सर्जरी और रेडियोथेरेपी करवा चुका था, जिसके कारण मरीज की कैरोटिड आर्टरी डैमेज हो चुकी थी। यह स्थिति जानलेवा हो सकती है और कई मामलों में मरीज की मृत्यु हो जाती है। कैरोटिड आर्टरी गर्दन में प्रमुख रक्त वाहिकाएं होती हैं जो मस्तिष्क, गर्दन और चेहरे को रक्त पहुंचाती हैं। कैरोटिड आर्टरी गर्दन के दोनों तरफ स्थित होती हैं। 

 डॉ. मनोज महाजन, कंसल्टेंट, कैंसर रोग का कहना है कि, "कैरोटिड आर्टरी डिसऑर्डर का इलाज बहुत ही कठिन है क्योंकि यह गर्दन में प्रमुख रक्त वाहिका हैं इसलिए हमें बहुत सतर्कता के साथ इसका इलाज किया जिससे मरीज को किसी भी प्रकार कि परेशानी ना हो।"


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Udaipur News , Paras Health News
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like