’’आपातकाल में फर्स्ट रेस्पोन्डर मोबाईक एम्बुलेंस बचाएगी जिंदगी‘‘

( Read 897 Times)

23 Jul 19
Share |
Print This Page
’’आपातकाल में फर्स्ट रेस्पोन्डर मोबाईक एम्बुलेंस बचाएगी जिंदगी‘‘

गीतांजली मेडिकल कॉलेज एवं हॉस्पिटल द्वारा एक नवाचार के रूप में उदयपुर को दुर्घटना एवं आपातकाल के दौरान समय पर उत्कृष्ट चिकित्सा सुविधा प्रदान करने के लक्ष्य से फर्स्ट रेस्पोन्डर मोबाईक एम्बुलेंस का शुभारंभ मुख्य अतिथि विकास सीतारामजी भाले आईएएस, संभागीय आयुक्त एवं पदेन आयुक्त जनजातिय क्षेत्रिय विकास विभाग, उदयपुर (राजस्थान) द्वारा किया गया। इस अवसर पर वाईस चेयरमेन गीतांजली ग्रुप कपिल अग्रवाल, कार्यकारी निदेशक गीतांजली ग्रुप अंकित अग्रवाल, डीन गीतांजली मेडिकल कॉलेज एवं हॉस्पिटल डॉ एफएस मेहता, चिकित्सा अधीक्षक डॉ नरेंद्र मोगरा, सीईओ गीतांजली मेडिकल कॉलेज एवं हॉस्पिटल प्रतीम तम्बोली एवं समस्त कर्मचारी उपस्थित थे।

इस अवसर पर कपिल अग्रवाल ने स्मृति चिन्ह एवं अंकित अग्रवाल ने गुलदस्ता प्रदान कर मुख्य अतिथि विकास सीतारामजी भाले आईएएस का स्वागत किया।

मुख्य अतिथि विकास सीतारामजी भाले ने गीतांजली मेडिकल कॉलेज एवं हॉस्पिटल की नई सोच की प्रशंसा करते हुए कहा कि, ’शहरों में बढते ट्रैफिक के कारण अकसर एम्बुलेंस जाम में फँस सकती है। ऐसे में इस मोबाईक एम्बुलेंस की मदद से आपातकालीन स्थितियों में समय पर रोगी तक चिकित्सा सेवाएं उपलब्ध हो पाएंगी। उन्होंने यह भी कहा कि गीतांजली हॉस्पिटल निरंतर समाज सेवा एवं बेहतर व नवीन चिकित्सा के लिए प्रतिबद्ध है। साथ ही उदयपुर एवं समग्र मेवाड व आस-पास के राज्यों के रोगियों को उत्कृष्ट चिकित्सा सेवाएं उपलब्ध कराने हेतु सदैव तत्पर है।    

डॉ एफएस मेहता, डीन गीतांजली मेडिकल कॉलेज ने गीतांजली हॉस्पिटल की इस अनुठी पहल की सराहना करते हुए कहा कि, ’गीतांजली मेडिकल कॉलेज एवं हॉस्पिटल १२ वर्षों से सतत् रूप से दक्षिणी राजस्थान में उत्कृष्ट चिकित्सा सेवा प्रदान कर रहा है। इसी क्रम में जीवन के कुछ गंभीर क्षणों में तुरंत चिकित्सा सेवा प्रदान करने हेतु फर्स्ट रेस्पोन्डर मोबाईक एम्बुलेंस की शुरुआत की गई है। यह मोबाईक शहर के मध्य स्थित गीतांजली सिटी सेंटर पर २४ग्७ उपलब्ध रहेगी जिससे किसी भी आपालकालीन स्थिति में तुरंत पहुँच कर प्राथमिक चिकित्सा प्रदान कर पाएगी। यह मोबाईक का ४व्हीलर एम्बुलेंस के साथ समन्वय भी रहेगा। इस पहल से शहर की संकरी गलियां एवं भारी ट्रैफिक में भी चिकित्सा सुविधा लोगों तक पहुँच पाएगी। गीतांजली हॉस्पिटल बेहतर स्वास्थ्य एवं समाज के कल्याण के प्रति सदैव समर्पित है। पीक ट्रैफिक घंटों के दौरान, भीडभाड वाली सडकें एवं अघोषित आपातकाल के दौरान चिकित्सा सहायता हेतु मौजूदा एम्बुलेंस सुविधा को पूरक बनाने के लिए फर्स्ट रेस्पोन्डर मोबाईक एम्बुलेंस की अत्यंत आवश्यकता थी। आपातकालीन स्थिति में शुरु का एक घंटा (गोल्डन ऑर) अत्यंत महत्वपूर्ण होता है। ऐसे में इस गोल्डन ऑर में मोबाईक एम्बुलेंस की पहुँच संभव हो पाएगी। इस मोबाईक एम्बुलेंस का कोई अतिरिक्त शुल्क नहीं होगा।‘

मोबाइक के बारे में विस्तृत जानकारी देते हुए गीतांजली के डॉ रमेश पटेल, इंटरवेंशनल कार्डियोलोजिस्ट ने बताया कि यह मोबाइक पोर्टेबल डीफिब्रीलेटर एवं ऑक्सिजन सिलेण्डर, फर्स्ट एड किट, एयर स्लिण्ड्स, जीपीएस व कम्यूनिकेशन डिवाईस एवं दो पैरामेडिकल स्टॉफ के साथ सुसज्जित है। साथ ही पैरामेडिकल स्टॉफ की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए कम्यूनिकेशन के लिए हेलमेट के साथ ही ब्लूटूथ डिवाईस लगाया गया है। मोबाईक के लिए नियुक्त पैरामेडिकल स्टाफ को एसीएलएस एवं बीएलएस ट्रेनिंग भी प्रदान की जाएगी जिससे हृदय रोग, स्ट्रोक, एक्सीडेंट एवं आपातकालीन परिस्थितियों में वह रोगी की जिंदगी को बचा सकेंगे।


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Udaipur News
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like