logo

उदयपुर वासियों को मिलेगा अमृत समान बकरी दुध व दुध उत्पाद

( Read 1046 Times)

16 Mar 19
Share |
Print This Page

उदयपुर वासियों को मिलेगा अमृत समान बकरी दुध व दुध उत्पाद

उदयपुर /  शीघ्र ही उदयपुर वासियों को बकरी दुध व दुध उत्पाद उपलब्ध होंगे। सयुंक्त निदेशक डाॅ ललित जोशी ने बताया कि जिलें के बकरी पालकों से बकरी दुध का संग्रहण कर पाश्च्युरीकृत दुध व दुध उत्पाद उदयपुर वासियों को सरस के बुथ के माध्यम से वाजिब दरों पर उपलब्ध कराये जायेगें।

इसी सन्दर्भ में शुक्रवार को राज. कृषि प्रतिस्र्पधा योजना के राज्य प्रोजक्ट समन्वयक डाॅ. कालरा ने जिला कलक्टर आनन्दी व पशुपालन विभाग के संयुक्त निदेशक डाॅ ललित जोशी को बताया कि वर्तमान में योजना राज्य के 12 जिलों में संचालित की जा रही है। शीघ्र ही योजना में उदयपुर जिलें को भी जोड़ा जायेगा। योजनान्तर्गत बकरी पालकों को राज्य सरकार द्वारा बकरी इकाई का वितरण किया जाता है।

जिला कलक्टर उदयपुर के मार्गदर्शन में पशुपालन विभाग उदयपुर, सरस डेयरी उदयपुर, राजिवीका व बाॅयफ संस्था द्वारा पायॅलट प्रोजक्ट के रूप में जिलें में झाड़ोल पंचायत समिति के बाघपुरा क्षैत्र के बकरी पालकों से दुध संग्रहण कर उदयपुर डेयरी के माध्यम से दुध का प्रसंसकरण कर पाश्च्युरीकृत दुध व उत्पाद तैयार किये जायेंगे। प्रारम्भ में 200 व 500 एमएल की बाॅटल पेकिंग में फ्लैवर्ड दुध सरस बुथों के माध्यम से उपलब्ध कराया जायेगा। इस योजना का उद्देश्य जहां बकरी पालकों को बकरी दुध का सही मुल्य दिलाना है। वहीं औषधीय गुणों से भरपुर बकरी दुध को पहचान दिलाना है। बाघपुरा क्षेत्र में बकरी पालकों की सहकारी समितियों व स्वंय सहायता समुहों के माध्यम से बकरी पालकों को जोड़ा जा रहा है। प्रारम्भ में 1000 से 1500 ली. तक प्रतिदिन दुध संग्रहण का लक्ष्य रखा गया है। जिसे बाद में बढाकर 5000 ली. तक प्रतिदिन के लक्ष्य तक पहुंचाया जायेगा।

इस संबध में गठित कमेटी में उदयपुर डेयरी के प्रबंध संचालक उमेश गर्ग, राजविका परियोजना अधिकारी सुश्री जाफरीन, विभाग के डाॅ राकेश पोखरना, डाॅ चन्द्रशेखर भटनागर, डाॅ सुरेन्द्र छंगाणी, डाॅ ओम प्रकाश साहू ने विस्तार से कार्य योजना बनाई है। बकरी दुध के अन्य उत्पाद चीज, पनीर इत्यादि तैयार करने हेतु डेयरी टेक्नोलोजी महाविधालय व पशु चिकित्सा एवं पशु विज्ञान महाविधालय नवानिया के वैज्ञानिकों का भी सहयोग लिया जा रहा है।

डाॅ ओम प्रकाश साहू ने बताया कि बकरी दुध बच्चों में सुपाच्य व एंटीएलर्जिक है वही औषधीय गुणों से भरपुर होने से डेंगु जैसी बीमारी में अत्यन्त फायदेमंद है। बकरी के दुध में प्रोटीन, कैल्सियम,मैग्निशियम, फास्फोरस, पोटेशियम और विटामिन ए,बी,सी और डी की मात्रा गाय/भैंस के दुध से ज्यादा होती है। मैग्निशियम व मिडियम फैटी एसिड अधिकता से हृदय स्वस्थ रहता है एवं कालेस्ट्रोल को कम करता है। प्लेटलेट काउण्ट में तेजी से बढोतरी करता है। सुपाच्य, रोग प्रतिरोधक क्षमता बढाने वाला, एन्टी एलर्जिक व शरीर में सूजन कम करने का गुण प्रचुर मात्रा में होता है। लेक्टोज की मात्रा कम होने से लेक्टोज सेंसेटिव मनुष्यों के लिए अत्यन्त उपयोगी है।


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Udaipur News
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like