logo

हुक्म या कार्यवाही एवं इनिशियल्स जज

( Read 527 Times)

15 Mar 19
Share |
Print This Page
हुक्म या कार्यवाही एवं इनिशियल्स जज

प्रार्थी मदनलाल उपस्थित। प्रार्थी के अधिवक्ता श्री राजेश जोशी उपस्थित। विपक्षी मय अधिवक्ता श्री शांतिलाल तडवेचा उपस्थित। दोनों पक्षकारों के बीच में न्यायालय द्वारा समझाईश की गई। परिणामस्वरूप दोनों पक्षकार राजीनामा करने हेतु तैयार हो गये।

परिणामस्वरूप दोनों पक्षों में इस प्रकार राजीनामा हुआ है कि प्रार्थी मदनलाल ने अन्य ऋणीयों के साथ मिलकर संयुक्त रूप से विपक्षी बैंक से केसीसी खाता संख्या ५५२२२३२ एवं ट्रेक्टर ट्राली हेतु ऋण जरिये खाता संख्या २२२८०६०००००१७५ के अन्तर्गत जो ऋण लिया था उन दोनों के पेटे बैंक द्वारा ९३९६४०ध्. रूपया तथा खाता एनपीए होने के पश्चात से ब्याज नियमानुसार देय है।

     उपरोक्त समस्त बकाया के पेटे दोनों पक्षकारों के बीच ४३०००० रूपये ऋण के पेटे जमा कराने पर मामला का निस्तारण किया जाना तय हुआ है। जिसमें यह शर्त करार की है जिसमें २००००० रूपये आज न्यायालय के समक्ष प्रार्थीगण द्वारा जमा करा दिये गये है, जिसकी रसीद प्रार्थीगण को दे दी गई है। शेष राशि एक माह की अवधि के भीतर विपक्षी बैंक को जमा कराकर रसीद प्राप्त कर लेगा।

       यह भी शर्त करार पाई है कि निर्धारित अवधि में उक्त राशि प्रार्थी ऋणी द्वारा विपक्षी बैंक को जमा नहीं कराने की सूरत में विपक्षी बैंक विधि अनुसार सम्पूर्ण बकाया राशि वसूल करने का अधिकारी रहेगा। इसके अलावा प्रार्थी द्वारा ट्रेक्टर संख्या आर जे ३५ आर ए ०८२९ तथा ट्रोली रजिस्ट्रेशन क्रमांक आर जे ३५ ई ए २६० के बाबत जो एतराज परिवहन अधिकारी के समक्ष लगा रखा है उसे प्रार्थी ऋणी उठा लेगा। तथा विपक्षी बैंक ने रोडा एक्ट के तहत उपखण्ड अधिकारी के समक्ष जो वसूली की कार्यवाही कर रखी है उसे विड्रा कर लेगा। इस संबंध में रोडा एक्ट के तहत बैंक द्वारा संस्थित की गई वसूली की कार्यवाही के तहत उपखण्ड अधिकारी को कोई खर्चा देय नहीं होगा। विपक्षी बैंक के स्थानीय शाखा प्रबन्धक श्री भूरालाल माली द्वारा बैंक ऑफ बडौदा के सक्षम अधिकारी से अनुमोदन प्राप्त करने के पश्चात राजीनामा किया।

       उपरोक्त आशय का राजीनामा दोनों पक्षों ने लिखित में न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत किया। प्रार्थी पक्ष को अधिवक्ता राजेश जोशी ने पहचान की तथा विपक्षी शाखा प्रबन्धक की पहचान उनके अधिवक्ता श्री शांतिलाल तडवेचा ने की। राजीनामा दोनों पक्षों को पढकर सुनाया गया जिसे दोनों पक्षों ने सही होना स्वीकार कर राजीनामें पर अपने हस्ताक्षर एवं निशानी अंगुष्ठ किये। राजीनामा तस्दीक किया गया । 

तारीख हुक्म

हुक्म या कार्यवाही एवं इनिशियल्स जज

नम्बर व तारीख अहकाम जो इस हुक्म की तामील मे जारी हुए

परिणाम स्वरूप राजीनामा स्वीकार कर उक्त प्रकरण में बकाया राशि ९३९६४०ध्. मय ब्याज के बजाय ४३००००ध्. रूपया प्राप्त करने की शर्त पर प्रकरणों का निस्तारण उपरोक्तानुसार किया जाता है। तथा बैंक ने स्वेच्छा से बकाया राशि का त्याग कर दिया है, खर्चा पक्षकार दोनों अपना अपना वहन करें।

   

 

 

 

 

 


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Pratapgarh News
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like