GMCH STORIES

दस वर्षीय लेखक की कहानी का दिखा सम्मोहन

( Read 1509 Times)

09 Feb 24
Share |
Print This Page
दस वर्षीय लेखक की कहानी का दिखा सम्मोहन

उदयपुर, ‘हमें उसे बचाने की जरूरत है, लेकिन हम ऐसा कैसे करें? जैस्पर ने पूछा तो उसकी आँखें दृढ़ संकल्प से भर गईं। वह उस उदासी को दूर नहीं कर पा रहा था जो उसके भीतर बस गई थी, जैसे कि जीवन में फिर कभी कुछ भी ठीक नहीं होगा। इन परिस्थितियों में ‘हमें एक योजना के साथ आने की जरूरत है! जैस्पर ने जैसे ही घोषणा की तो चारों दोस्तों के चेहरे खिल उठे।
कुछ ऐसे ही संवादों के साथ विद्याभवन के आॅडिटोरियम में चार दोस्तों ने जैसे ही अपनी प्रस्तुति की शुरूआत की तो मौजूद सैकड़ों लोगों ने तालियों की गड़गड़ाहट के साथ उनके जज्बे की सराहना की। मौका था 10 वर्षीय लेखक अविराज सिंघवी द्वारा लिखित प्रसिद्ध पुस्तक ‘द फेमस फेनटेस्टिक पिल’ पर आधारित नाटिका के मंचन का।  


अतिथियों ने सराहा नाटिका का मंचन:
निर्देशक आशुतोष के सानिध्य में इस नाटिका के मंचन के आरंभ में समाजसेवी अशोक सिंघवी, चांदमल सिंघवी, राजीव सूर्या, जनरल एनके सिंह आदि ने दीप प्रज्वलन किया और नाटिका के सफल मंचन के लिए दल को शुभकामनाएं दी। कार्यक्रम दौरान ख्यातनाम गायक  मंदाकिनी चटर्जी  लाहिड़ी और अवार्ड विनिंग एक्टर कुणाल मेहता ने नन्हें रंगकर्मियों द्वारा नाटिका मंचन के इस प्रयास की सराहना की और कहा कि नाट्यशैली को जीवित रखने में युवा पीढ़ी को आगे आना होगा। उन्होंने इस मौके पर नाटिका में भाग लेने वाले कलाकारों वीर मुर्डिया, अयान मुर्डिया, रेवंत सिंघवी, शौर्य चौधरी, दिव्यांशी और आशना का सम्मान किया। इस मौके पर साहित्य व संस्कृति प्रेमी श्रद्धा मुर्डिया, नित्या सिंघल, अक्षिता सिंघवी, ख्यातनाम वास्तुकार सुनील लड्ढा, प्रस्तर शिल्पकार हेमंत जोशी, चित्रकार डाॅ. चित्रसेन व नीलोफर मुनीर सहित बड़ी संख्या में शहरवासी और कलाप्रेमी मौजूद थे। आभार प्रदर्शन सुनीता सिंघवी व अक्षिता सिंघवी ने किया।  


दादा के लिए चमत्कारी गोली बनाने वाले चार दोस्तों की रोमांचक कहानी:
कश्ती फाउंडेशन प्रमुख श्रद्धा मुर्डिया ने बताया कि बचपन की असीम कल्पना और अदम्य भावना का जश्न मनाने वाली इस मनोरम कहानी मे चार साहसी लड़के एक चमत्कारी गोली बनाकर अपने बूढ़े दादा को बचाने के मिशन पर निकलते हैं। रोमांचक और दिल को छू लेने वाली कहानी में नन्हें कलाकारों की एक्टिंग ने मौजूद दर्शकों को सम्मोहित कर दिया। विविध पात्रों का रूप धारण किए नन्हें कलाकारों ने सिद्धहस्त कलाकारों की भांति रोमांचकारी और विनोदी कारनामों के माध्यम से मौजूद दर्शकों व अतिथियों का मन मोह लिया। इस दौरान इन कलाकारों ने दोस्ती, जिम्मेदारी और दृढ़ता की शक्ति का संदेश संवहित किया।


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Education News
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like