BREAKING NEWS

‘ग्लैमरस जगत पर छाया  माधवानी परिवार के स्वाद का जादू

( Read 7725 Times)

13 Feb 20
Share |
Print This Page
‘ग्लैमरस जगत पर छाया  माधवानी परिवार के स्वाद का जादू

उदयपुर। फिल्म प्रोडक्शन की रंगीन दुनिया में केटरिंग एक महत्वपूर्ण विभाग माना जाता है। उसमें लेकसिटी के माधवानी परिवार की केटरिंग फर्म का ऐसा जादू छाया है की हॉलीवुड हो या बॉलीवुड तमाम लाइन प्रोड्यूसर इनके हाथ के बने भोजन को ही तवज्जो देते है।

अशोका कैटरर्स के अशोक माधवानी ने बताया की पहली बार १९८० में हॉलीवुड फिल्म गांधी की शूटिंग के दौरान प्रोडक्शन से जुडे कुछ १०-१५ लोगों के लिए भोजन उपलब्ध करवाने से हई शुरुआत आज दो सौ से भी ज्यादा बॉलीवुड एवं हॉलीवुड प्रोजेक्ट्स तक जारी है। माधवानी बताते है कि पहले वे रेलवे स्टेशन पर चाय-नाश्ता बेचते थे। गाँधी फिल्म के भारतीय प्रोडक्शन से जुडे लोगों को उनका भोजन का स्वाद पसंद आया की धीरे-धीरे वे पंद्रह सौ लोगों को अपने हाथ का बना भोजन उपलब्ध करवानें लगे। उस दौर में माधवानी ने ऑक्टोपसी, डिसिवर्स, समेत कई मशहूर फिल्मों में केटरिंग का कार्य किया।

बॉलीवुड में पहली बार उन्हें मशहूर फिल्म जोधा-अकबर में कॉन्ट्रेक्ट मिला था, जब पूर्व का ठेकेदार एन वक्त पर भाग खडा हुआ था। माधवानी बताते है की जब फिल्म जोधा-अकबर में युद्ध का दृश्य फिल्माया जाना था तब पूर्व निर्धारित कैटरिंग ठेकेदार करीब तीन हजार लोगों हेतु भोजन बनाने में असमर्थता जताई, ऐसे में आनन-फानन में मुझे उदयपुर बुलावा भेजा गया और हमारी टीम ने वहां सफलतापूर्वक कार्य किया। अशोक माधवानी के साथ उनके तीनों पुत्र मुकेश,विक्रम एवं जय भी इस व्यवसाय में उनका सहयोग करते है। फिल्म धडक, जवीनी- ये दिवानी,राम लीला, पीके, बादशाहों,धमाल,चलो इश्क लडायें, सहित सैकडों फिल्मों व राखी व राहुल का स्वयंर जैसे सीरियल में भी कैटरिंग का कार्य किया था।

निर्माताओं एवं अभिनेताओं के पसंदीदा व्यंजनों का रखते है विशेष ख्याल-शेफ विक्रम माधवानी के अनुसार उनकी फर्म की खासियत ही यही है की वे शूटिंग के दौरान निर्माताओं एवं अभिनेताओं के पसंदीदा व्यंजनों का भी विशेष ध्यान रखते है। विक्रम के अनुसार फिल्म प्रेम रतन धन पायो की शूटिंग के दौरान उन्होंने अभिनेता सलमान खान हेतु उनकी पसंद के विशेष व्यंजन बनाए। वहीं निर्माता निर्देशक राजकुमार हिरानी हेतु भी विशेष सिंधी पकवान बनाए गए थे जिसकी तारीफ स्वंय हिरानी ने की थी।

हर यूनिट का होता है अपना टेस्ट-

अशोका कैटरर्स के मैनेजर मुकेश माधवानी बताते है कि प्रोडक्शन से जुडी हर यूनिट का क्षेत्र के हिसाब से अपना एक टेस्ट होता होता है। उसका भी हमें विशेष ख्याल रखना होता है। जैसे दक्षिण भारत के शूटिंग लोकेशन पर वहाँ के स्वादानुसार भोजन तैयार करना होता है, वहीं उदयपुर में या राजस्थान के अन्य लोकेशन पर यहां के स्वादानुसार व्यंजन तैयार किये जाते है।

आम कैटरिंग से अलग है फिल्म प्रोडक्शन की कैटरिंग-फिल्म प्रोडक्शन से जुडी कैटरिंग सामान्य कैटरिंग की तुलना में काफी भिन्न होती है, क्योंकि शूटिंग का समय दृश्य के अनुसार अलग-अलग होता है। कई बार प्रातः अलसुबह भी भोजन उपलब्ध करवाना पडता है। कई बार देर रात को भोजन उपलब्ध करवाना पडता है। ऐसे में सभी आवश्यकताओं को देखते हुए भोजन की गुणवत्ता आदि का भी विशेष ध्यान रखना पडता है।

देशभर से लेते हैं कॉन्ट्रैक्ट्स-

अपने बेहतरीन स्वाद और गुणवत्ता के चलते अशोका कैटरर्स को देशभर से कॉन्ट्रैक्ट मिलते है। माधवानी के अनुसार उन्हें दक्षिण भारत, पंजाब, उत्तराखंड समेत देश के तमाम हिस्सो से बुलावा आता है तथा वे जहां भी जाते है अपने हाथों के स्वाद का जादू छोड आते है।


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Headlines
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like