BREAKING NEWS

रश्मि दवे को पीएचडी

( Read 788 Times)

14 Jan 20
Share |
Print This Page
रश्मि दवे को पीएचडी

बांसवाड़ा / जिले के बोरवट स्थित कृषि विज्ञान केन्द्र में कार्यक्रम सहायक के पद पर कार्यरत रश्मि दवे को पीएचडी उपाधि प्रदान की गई है।
महाराणा प्रताप कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के प्रसार शिक्षा संचार प्रबंधन विभाग के तत्वावधान में सामुदायिक एवं व्यवहारिक विज्ञान विभाग की शोधार्थी के रूप में रश्मि दवे को यह पीएचडी उपाधि प्रदान की गई है। रश्मि दवे ने अपना शोध दक्षिणी राजस्थान के कृषि विज्ञान केंद्रों द्वारा आदिवासी महिलाओं के आर्थिक सशक्तिकरण विषय मुख्य सलाहकार डॉ राज श्री उपाध्याय के निर्देशन में पूर्ण किया है।  
उल्लेखनीय है कि दवे के राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय शोध पत्रिकाओं में शोध पत्र प्रकाशित हुए हैं। उन्होंने अपने शोध में आदिवासी महिलाओं के आर्थिक सशक्तीकरण के लिए कृषि विज्ञान केन्द्र द्वारा प्रवर्तित उद्यमी गतिविधियों को जानने के लिए यह अध्ययन किया है। इस अध्ययन में आदिवासी महिलाओं के चयनित कृषि आधारित उद्यमी गतिविधियों के ज्ञान एवं ग्राहयता का अध्ययन, उनके द्वारा उद्यमी गतिविधियों की ग्राहयता में आदिवासी महिलाओं द्वारा अनुभव की गई बाधाओं का अध्ययन एवं आदिवासी महिलाओं के आर्थिक सशक्तिकरण को जाँचा गया।
तीन कृषि विज्ञान केन्द्रों में चार उद्यमी गतिविधियों पर हुआ शोध:
यह अध्ययन दक्षिणी राजस्थान में आयोजित किया गया और इसमें तीन कृषि विज्ञान केन्द्रों में चार कृषि आधारित उद्यमी गतिविधियाँ जैसे बकरी पालन, मुर्गी उत्पादन, वर्मीकम्पोस्ट उत्पादन और सब्जी उत्पादन का चयन किया गया। शोध दौरान आदिवासी महिलाओं के ज्ञान के बारे में यह पाया गया कि बकरी पालन और वर्मीकम्पोस्ट उत्पादन अधिकांश अच्छे ज्ञान श्रेणी में थे, जबकि मुर्गी उत्पादन और सब्जी उत्पादन में अधिकांश औसत ज्ञान श्रेणी में थे और कोई भी महिला उत्तरदाता खराब ज्ञान में नहीं थी। अधिकांश अपनी आय से संतुष्ट थी क्योंकि वे परिवार के खर्च में योगदान करने में सक्षम थी। यह पाया गया कि उत्तरदाता आर्थिक मामलों के बारे में निर्णय लेने में शामिल थे और उनमें से अधिकांश के पास संसाधनों पर अच्छी पहुंच और नियंत्रण था।


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Banswara News , Education
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like