logo

‘बांसवाड़ा एंथम’ का हुआ लोकार्पण

( Read 694 Times)

14 Jan 19
Share |
Print This Page
‘बांसवाड़ा एंथम’ का हुआ लोकार्पण

बांसवाड़ा,  जिला पर्यटन उन्नयन समिति के संरक्षक जगमालसिंह ने कहा है कि लोढ़ी काशी में संगीत के क्षेत्र में कई सारी प्रतिभाएं छिपी हुई हैं, अब धीरे-धीरे इन्हें उचित मंच प्राप्त हो रहा है और वह दिन दूर नहीं जब ये युवा प्रतिभाएं देश-दुनिया में बांसवाड़ा का परचम फहराएं। 
जगमालसिंह शनिवार को अंकुर स्कूल सभागार में राष्ट्रीय युवा दिवस के मौके पर शहर के युवा गायक शुभम कंसारा और नीति कंसारा द्वारा तैयार किए गए विडियो एलबम ‘बांसवाड़ा एंथम’ के लोकार्पण समारोह में बतौर मुख्य अतिथि संबोधित कर रहे थे। 
इस मौके पर उन्होंने जिले में पर्यटन उन्नयन की दृष्टि से किए जा रहे प्रयासों के बारे में जानकारी दी और युवाओं को सोशल मीडिया के माध्यम से जिले की विशिष्टताओं को दुनियाभर मंें पहुंचाने का आह्वान किया। 
समारोह में बतौर विशिष्ट अतिथि जनसंपर्क उपनिदेशक कमलेश शर्मा ने संबोधित करते हुए राष्ट्रीय युवा दिवस पर स्वामी विवेकानंद का स्मरण किया व जिले के नैसर्गिक वैविध्य की सराहना की और बांसवाड़ा एंथम के निर्माण को सराहनीय प्रयास बताते हुए जिले में कला, साहित्य और समाजसेवा में उपलब्धियां अर्जित कर रहे युवाओं के बारे में जानकारी दी। 
विशिष्ट अतिथि अंकुर स्कूल की निदेशक डॉ. रक्षा सराफ ने अपने संबोधन में सिटी ऑफ हण्ड्रेड आईलेण्ड के रूप में प्रसिद्ध बांसवाड़ा जिले के पर्यटन दृष्टि से हो रहे विकास की सराहना की तथा कहा कि युवा प्रतिभाओं को संबल प्रदान करने में अंकुर संस्थान सदैव प्रभावी भूमिका के साथ तत्पर है। 
समारोह को संगीतकार गजेन्द्र पण्ड्या ने भी संबोधित किया और कहा कि संगीत की साधना ही ईश्वर की सर्वोपरि सेवा है। 
अतिथियों द्वारा वाग्देवी सरस्वती की छवि के सम्मुख दीप प्रज्जवलन से प्रारंभ समारोह में स्वागत उद्बोधन प्रहलाद कंसारा ने दिया। अतिथियों का माल्यार्पण प्रवीण और लीना कंसारा ने किया। 
इस मौके पर गायक पुष्पेन्द्र नागर, समाजसेवी शैलेन्द्र सर्राफ व तपन मेघावत, रंगकर्मी जगन्नाथ तेली, साहित्यकार नंदकिशोर नटखट, शिक्षाविद् रेखा कंसारा, चित्रकार आशीष शर्मा सहित बड़ी संख्या में शहरवासी मौजूद थे। समारोह का संचालन रंगकर्मी सतीश आचार्य ने किया जबकि आभार रवि कंसारा ने माना।  
बांसवाड़ा एंथम सराहनीय प्रयास:
बांसवाड़ा एंथम शहर के उभरते गीतकार शुभम कंसारा की पहल है। इस एंथम का लेखन व संगीत समन्वय स्वयं शुभम कंसारा ने किया है जबकि अभियन शुभम व नीति तथा स्वर शुभम व जाह्नवी कंसारा ने दिया है। विडियो संयोजन हरिप्रेम स्टूडियो द्वारा किया गया है। 


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Banswara News
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like