Pressnote.in

164 वें सीपीडब्ल्यूडी दिवस पर अभिभाषण का प्रारूप

( Read 1566 Times)

13 Jul, 18 10:27
Share |
Print This Page

नई दिल्ली| 164 वें सीपीडब्ल्यूडी दिवस समारोह के अवसर पर सीपीडब्ल्यूडी बिरादरी में शामिल होने से प्रसन्न हूं। मैं इस अवसर पर इंजीनियरों, आर्किटेक्ट्स, तकनीकी, गैर-तकनीकी कर्मचारियों और कार्यकर्ताओं के पूरे सीपीडब्ल्यूडी परिवार को बधाई देता हूं।
सीपीडब्ल्यूडी के साथ, मेरे सहयोग की बहुत अच्छी यादें हैं, जब मैं शहरी विकास मंत्री था। सीपीडब्ल्यूडी की सबसे महत्वपूर्ण विशेषताओं में, ग्राहकों की संतुष्टि के लिए निर्माण और रखरखाव की आवश्यकता को वितरित करने के लिए मजबूत संस्थागत तंत्र और मानव संसाधन क्षमता द्वारा समर्थित मूल दक्षताएं हैं। इसके अलावा, सीपीडब्लूडी की निर्माण क्षेत्र में बढ़त है क्योंकि समग्र भारत में इसकी मौजूदगी, कार्यों के निष्पादन में वित्तीय अनुशासन और सरकारी संगठनों और स्वायत्त निकायों को पूरा करने वाली अवधारणा से युक्त केंद्रीयकृत सेवा है।
इसके अलावा, सीपीडब्ल्यूडी विभिन्न प्रकार के काम करने में सक्षम है - चाहे वह इमारतों, सड़कों, पुलों, फ्लाईओवर, स्टेडियम, हवाई अड्डे, घाट, सीमा अवसंरचना, विद्युतीकरण, एयर कंडीशनिंग, भूनिर्माण या किसी भी रखरखाव, नवीनीकरण या दूरस्थ स्थानों में पुनःसंयोजन का काम ही क्यों न हो। यह भी ध्यान देने योग्य और आश्वासन देने वाली बात है कि ऐसे पुराने संगठन होने के बावजूद सीपीडब्ल्यूडी खुद को एक मजबूत और स्वस्थ संगठन के रूप में बनाए रखने में सक्षम है।
यह वास्तव में हम सभी के लिए संतोष का विषय है कि वर्तमान में हमारे देश में दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था होने का गौरव है। देश, निर्माण और आधारभूत संरचनात्मक परियोजनाओं में बड़ी गतिविधियों के साथ औद्योगिकीकरण और आधुनिकीकरण के एक प्रमुख चरण से गुजर रहा है। हम बुनियादी ढांचे में सतत वृद्धि को देखने के कगार पर हैं। हालांकि, सीपीडब्ल्यूडी इस विकास प्रक्रिया में योगदान दे रहा है, फिर भी सीपीडब्ल्यूडी को अपनी संस्थागत विस्तार और तकनीकी कौशल से नई बुनियादी ढांचों वाली परियोजनाओं के निर्माण में बड़ी भूमिका निभाने की आवश्यकता है। सीपीडब्ल्यूडी को बुनियादी ढांचे वाली अधिक परियोजनाओं को प्रारम्भ करने के लिए ईमानदार प्रयास करने चाहिए और राष्ट्र के विकास में एक प्रमुख खिलाड़ी बने रहना चाहिए। सीपीडब्ल्यूडी जैसे संगठनों को इन प्रयासों के प्रारम्भ हेतु एक तकनीकी मंच प्रदान करने का कार्य स्वयं वहन करना चाहिए। इस प्रकार, यह आपके लिए अपनी प्रतिभा और क्षमताओं को प्रदर्शित करने के लिए एक सुनहरा अवसर होगा। हम सीपीडब्ल्यूडी जैसे विभाग से क्षमता और दक्षता की ही अपेक्षा करते हैं।
इसके अलावा, एक इंजीनियरिंग संगठन के रूप में सीपीडब्ल्यूडी को देश के त्वरित आर्थिक विकास को सुनिश्चित करने के लिए आधारभूत संरचना के क्षेत्र में नवाचार और आधुनिकीकरण पर भी अवश्य ध्यान देना चाहिए। ग्रामीण सड़कों में अंतिम छोर की संयोजकता और स्वास्थ्य और शैक्षणिक बुनियादी ढांचा, जल आपूर्ति और स्वच्छता प्रदान करने में विशेष ध्यान दिया जाना चाहिए।
मुझे यकीन है कि आवासन और शहरी कार्य मंत्रालय, सीपीडब्ल्यूडी को अपने मनोहर लक्ष्य प्राप्त करने और ऐसे उच्च लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए आवश्यक मार्गदर्शन और शक्ति प्रदान करेंगे।
मुझे यह जानकर भी खुशी हो रही है कि सीपीडब्ल्यूडी ने प्रमुख परियोजनाओं को इंजीनियर-प्रोक्योर-कंस्ट्रक्ट - ईपीसी मोड में निष्पादित करने का निर्णय लिया है, जिससे डिजाइन और परियोजना प्रबंधन के क्षेत्र में निजी उद्यम की क्षमता का उपयोग किया जा सके।
किसी भी इकाई या उद्यम की सफलता आंतरिक और बाहरी सतत जांच पर निर्भर करती है। मेरे कार्यकाल के दौरान, इस मंत्रालय में सीपीडब्ल्यूडी के कामकाज पर एक अध्ययन किया गया था और मुझे यह सुनकर खुशी हुई कि इसके कार्यान्वयन के लिए कार्रवाई की जा रही है। मुझे यकीन है कि इसके परिणाम, देश, निर्माण क्षेत्र और विभाग को लाभान्वित करेंगे।
सफलता केवल कड़ी मेहनत, अनुशासन, सही रणनीति और योजना को अपनाने से हासिल की जा सकती है। आपको गुणवत्ता पर कभी समझौता नहीं करना चाहिए और हमेशा अपने ग्राहकों की अपेक्षाओं को पूरा करने का प्रयास करना चाहिए। सबसे महत्वपूर्ण पहलू परियोजनाओं के निष्पादन में समयसीमा बनाए रखना होता है। आपको लगातार अपनी कार्यप्रणाली के नवाचार और उसमें सुधार और अपनी गतिविधियों के क्षेत्र में एक विश्वसनीय नेता बनने का प्रयास करना चाहिए। आपको हमेशा नवीनतम प्रचलनों का पालन करना चाहिए और आधुनिक तकनीकों को अपनाना चाहिए। सीपीडब्ल्यूडी को सर्वोत्तम और सबसे कुशल संगठनों में से एक बनाने के लिए सर्वोत्तम अनुशीलन और प्रबंधन उपकरण को अपनाना चाहिए।
मुझे यकीन है कि आगामी वर्षों में विभाग अपनी अजेय भावना, मूल नैतिकता, अखंडता और अपनी प्रणालीबद्ध कार्य संस्कृति के आधारिक मूल्यों के साथ आगे बढ़ना जारी रखेगा और अधिक ऊँचाइयाँ हासिल करेगा।
अपने वार्षिक दिवस पर उपलब्धियों और सफलताओं पर आनन्दित होने के दौरान, यह आप सभी के लिए एक उपयुक्त समय भी है कि आप अपने संगठन के आधारिक मूल्यों, इसके ध्येय और लक्षित वाक्यों के लिए स्वयं का आत्मविश्लेषण और पुनः समर्पण करें, और संगठन की समृद्ध विरासत को आगे बढ़ने में अपना सर्वश्रेष्ठ योगदान देने की प्रतिज्ञा करें।

Source :

यह खबर निम???न श???रेणियों पर भी है: National News
Your Comments ! Share Your Openion

Group Edior : Mr. Virendra Shrivastava
For any queries please mail us at : newsdesk.pr@gmail.com For any content related issue or query email us at newsdesk.pr@gmail.com, CopyRight © All Right Reserved. Pressnote.in