logo

Exclusive:मोबाइल पर भी संभव है उद्यम पंजीकरण

( Read 2182 Times)

16 Sep 18
Share |
Print This Page
 Exclusive:मोबाइल पर भी संभव है उद्यम पंजीकरण रचना शर्मा,सूचना एवम् जनसम्पर्क अधिकारी,बूंदी/ विभिन्न सरकारी योजनाओं के अन्तर्गत उद्योग को मिलने वाले लाभ प्राप्त करने के लिए सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों को एमएसएमई के तहत पंजीकरण कराना होता है। अब तक पंजीकरण की प्रक्रिया में शामिल लंबी कागजी कार्रवाई उद्यमियों के लिए भारी पडती थी और पंजीकरण के बिना वे कई तरह की सरकारी योजनाओं व सुविधाओं का लाभ नहीं उठा पाते थे।
उद्यमियों की परेशानी को ध्यान में रखते हुए और पंजीकरण व्यवस्था को सर्वव्यापी बनाने के लिए प्रयास शुरू हुए तो पंजीकरण की नई एकल प्रणाली सामने आई जो उद्यमियों को मुफीद रही है। एमएसएमई मंत्रालय ने उद्योग आधार (यूए) पोर्टल जैसी अवसंरचना का निर्माण किया है ताकि देश के किसी भी हिस्से में स्थित उद्यम ऑनलाइन उद्योग आधार ज्ञापन (यूएएम) दायर कर सकें। यूए पोर्टल मोबाइल पर चलाया जा सकता है।
यूं शुरू हुई आसानी की अवधारणा
बूंदी के उपनिदेशक (उद्योग) चन्द्रमोहन गुप्ता बताते हैं एमएसएमई क्षेत्र के वित्तपोषक के संबंध में के.वी. कामथ पैनल ने यह सिफारिश की थी कि पंजीकरण को सर्वव्यापी बनाया जाना चाहिए। इस प्रकार उद्योग आधार और पंजीकरण में आसानी की अवधारणा की शुरूआत हुई जो केन्द्र/राज्य सरकारों की विभिन्न योजनाओं के तहत एमएसएमई द्वारा लाभ प्राप्त किया जाना सुनिश्चित करता है।
उद्योग आधार ज्ञापन (यूएएम) सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम के लिए एक पृष्ठ का पंजीकरण प्रपत्र, जो उन्हे एमएसएमई के अन्तर्गत पंजीकृत करने के लिए है। उद्योग आधार प्रपत्र पुरानी प्रणाली (ईएम-1 और ईएम -2 प्रपत्र) के स्थान पर लाया गया है जिसमें कई दस्तावेज और ब्यौरे चाहिए होते थे। यह स्व-घोषणा प्रारूप का निर्माण करता है जिसके तहत एमएसएमई अपनी उपस्थिति तथा अपेक्षित अन्य न्युनतम जानकारी के संबंध में स्व-सत्यापन करेगा।
उद्योग आधार ज्ञापन की मुख्य विशेषताएं
एक पृष्ठ का ऑनलाइन पंजीकरण-मोबाइल अनुकूल - स्व-प्रमाणन- - एक से अधिक उद्योग आधार दायक करना - कोई दस्तावेज अपेक्षित नहीं - उद्योग आधार के लिए कोई शुल्क नहीं एमएसएमई मंत्रालय ने उद्योग आधार (यूए) पोर्टल जैसी अवसंरचना का निर्माण किया है ताकि देश के किसी भी हिस्से में स्थित उद्यम ऑनलाइन उद्योग आधार ज्ञापन (यूएएम) दायर कर सके। यूए पोर्टल मोबाइल पर चलाया जा सकता है। उद्योग आधार की नई प्रणाली पंजीकरण की एकल व्यवस्था है।
यह प्रणाली कारोबार करने में आसानी सुनिश्चित करती है क्योकि देश की 92 प्रतिशत वयस्क जनसंख्या पहले से ही आधार के तहत पंजीकृत है। उद्योग आधार पंजीकरण से इकाइयां उद्यम आधार संख्या के इस्तेमाल से ही सूचना प्राप्त करने और सभी मंत्रालयों/ विभागों द्वारा प्रदान की जा रही विभिन्न सेवाओं का पता लगा सकते है। एमएसएमई मंत्रालय द्वारा एमएसएमई संबंधी आंकड़ो के रख-रखाव से दीर्घावधि में लागत कम होने की उम्मीद है क्योंकि अब राज्यों/ केंन्द्र शासित प्रदेशों को ये आंकड़े नही रखने होंगे।
सरकार को एमएसएमई क्षेत्र के लिए सरलीकृत आधार आधारित पंजीकरण प्रणाली की बहुत प्रतिक्रिया मिली है। अब तक 3,69,754 उद्यम (10 अक्टूबर, 2017) एवं राजस्थान में कुल 3,01,924 पंजीकृत उद्योग हैं जिनमे से 2,69,608 सूक्ष्म, 31,204 लघु एवं 1,112 मध्यम उद्योग आधार संख्या सहित पंजीकृत करा चुके हैें। उम्मीद है कि उद्योग आधार से व्यवसाय करने संबंधी सूचकांक में हमारी अंतरराष्ट्रीय रैंकिंग में सुधार तो होगा ही, साथ ही एमएसएमई के लिए संभावनाओं का विस्तार भी होगा।
Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Headlines
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like