GMCH STORIES

लोकनायक भगवान महावीर का जन्म कल्याणक घर पर ही मनाऍ

( Read 1263 Times)

26 Apr 21
Share |
Print This Page

लोकनायक भगवान महावीर का जन्म कल्याणक घर पर ही मनाऍ

सिरोही। पावापुरी तीर्थ जीव मैत्रीधाम मे विराजित पन्यास प्रवर श्री वेराग्यविजयजी म.सा. ने कहा कि जैन धर्म मे कुल २४ तीर्थंकर हुए हैं। उनमे से अंतिम तीर्थंकर महावीर स्वामी भगवान थे उनका कल दिनांक २५.०४.२०२१ चैत्रसुद-१३ को २६२० वॉ जन्म कल्याणक दिन है। आज के दिन क्षत्रियकुंड नगर में सिद्धार्थ महाराजा की पट्टरानी त्रिशला देवी की कुक्षी से जन्म धारण कर जगत का उद्धार किया था। सच्चे अर्थ में वे समर्थ लोकनायक थे। अंधपरंपराओं, पाखंड, वर्णादि भेदभाव को दूर कर वे सामाजिक सुधार के सबल सुत्रधार बने। उन्होने मानव को सत्य-प्रेम-करूणा-अहिंसा वगैरह के पाठ पढाये। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी भी उनके उपदेशो को सुनकर प्रभावित थे। ऐसे विश्व उद्धारक का जन्म महोत्सव इस महामारी के दौरान सभी जैन धर्मावलंबी अपने घरों मे रहकर मनाए। भगवान महावीर की तस्वीर को मालार्पण कर पूजा-आरती संध्या-भक्ति-पूजन कीर्तिनादि करे। और उनके बताएं मार्ग जीओ और जीने दो पर चलकर अपने जीवन को निर्मल बनाए।

 


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Rajasthan
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like