GMCH STORIES

केन्द्रीय मंत्री ने कोविड-19 वैक्सीन को लेकर फैलाए जा रहे भ्रम को निराधार बताया

( Read 4370 Times)

16 Jan 21
Share |
Print This Page

-नीति गोपेन्द्र भट्ट

केन्द्रीय मंत्री ने कोविड-19 वैक्सीन को लेकर फैलाए जा रहे भ्रम को निराधार बताया

नई दिल्ली, केन्द्रीय स्वास्थ्य तथा परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्ष वर्धन ने कल से शुरू हो रही राष्ट्रव्यापी वैक्सीनेशन अभियान की तैयारियों की आज समीक्षा की। केन्द्रीय मंत्री ने निर्माण भवन में केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय में विशेष कोविड नियंत्रण कक्ष का निरीक्षण किया।

माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी कल 16 जनवरी, 2021 को सुबह साढ़े 10 बजे कोविड-19 के वैक्सीन की देश भर में शुरुआत के पहले चरण का वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से उद्घाटन करेंगे। टीकाकरण कार्यक्रम में देश भर में सभी राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों में कुल 3,006 स्थानों पर टीकाकरण का काम शुरू होगा। ये सभी स्थान वर्चुअल माध्यम से नियंत्रण कक्ष से जुड़े हैं। प्रत्येक टीकाकरण केन्द्र पर कल लगभग सौ लाभार्थियों को वैक्सीन दी जाएगी। टीकाकरण अभियान चरणबद्ध तरीके से नियोजित किया गया है, प्राथमिकता समूह की पहचान के अनुसार आईसीडीएस के वर्कर समेत सरकारी और निजी क्षेत्र के स्वास्थ्य कर्मियों को पहले चरण में वैक्सीन लगाई जाएगी।

डॉ. हर्ष वर्धन ने कोविड नियंत्रण कक्ष में केन्द्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा विकसित ऑनलाइन डिजिटल प्लेटफॉर्म कोविन के काम के प्रत्येक पहलू की जांच की। देश में  कोविन का उपयोग कोविड-19 टीकाकरण कार्यक्रम के दौरान किया जाएगा। यह वैक्सीन के स्टॉक, भंडारण के तापमान और कोविड-19 वैक्सीन के लाभार्थियों की व्यक्तिगत ट्रैकिंग की रीयल टाइम सूचना प्रदान करने में मदद देगा। डिजिटल प्लेटफॉर्म राष्ट्रीय, राज्य और जिला स्तर के कार्यक्रम प्रबंधकों को टीकाकरण सेशन संचालित करने में सहायता देगा। यह लाभार्थियों की कवरेज को ट्रैक करने, लाभार्थियों की गैर-हाजिरी, नियोजित सत्र बनाम संपन्न सत्र और वैक्सीन के उपयोग में भी प्रबंधकों को मदद देगा।

यह प्लेटफॉर्म राष्ट्रीय और राज्य प्रशासकों को लिंग, आयु और बीमारियों के अनुसार लाभार्थियों के डेटा को अलग-अलग करने और देखने की सुविधा देगा। प्रशासक, वैक्सीनेशन के मेटाडेटा और राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों के जिलों से प्राप्त टीकाकरण के बाद विपरीत प्रभाव को भी देख सकेंगे। जिला प्रशासक किसी स्थान का पिन कोड दर्ज करके और स्थान या गांव को स्पष्ट करते हुए तथा किसी एक वैक्सीनेटर को दायित्व सौंपते हुए अतिरिक्त केन्द्र बना सकेगा। डॉ. हर्ष वर्धन ने सुझाव दिया कि अति उन्नत कोविन प्लेटफॉर्म का उपयोग करते हुए सॉफ्टवेयर संशोधन और अनुभव को भारत के राष्ट्रीय टीकाकरण कार्यक्रम में समाहित किया जाएगा।

केन्द्रीय मंत्री ने कोविन पर सभी गैर-प्राथमिकता वाले समूहों के लिए लाभार्थियों के पंजीकरण पृष्ठ की भी समीक्षा की। उन्होंने चुनाव आयोग के डेटा बेस का उपयोग करके सॉफ्टवेयर पर लाभार्थियों की प्री-पॉपुलेटिंग किए जाने का सुझाव दिया, इसके अलावा पंजीकरण के लिए स्वीकृत अन्य दस्तावेजों के लिए भी ऐसा करने को कहा।

विशेष कोविड नियंत्रण कक्ष देश भर के कोविड-19 के जिलावार डेटा की मॉनिटरिंग कर रहा है तथा महामारी की स्थिति की व्याख्या और मूल्यांकन करने के लिए सघन विश्लेषण कर रहा है। पिछले कई महीनों से इस नियंत्रण कक्ष के माध्यम से सरकार ने मृत्यु दर, संक्रमण दर और अन्य मानदंडों की सघन मॉनिटरिंग की जा रही है। नियंत्रण कक्ष विभिन्न देशों की कार्रवाई पद्धति और उन्हें भारत के लिए अहम सीख में बदलने के एक अंग के अंतर्गत अपनाई गई ट्रैक और रिकॉर्ड की श्रेष्ठ प्रक्रियाओं में भी मदद दे रहा है।

केन्द्रीय मंत्री ने कम्युनिकेशन कंट्रोल रूम-संचार नियंत्रण कक्ष के कामकाज की भी समीक्षा की, जो कोविड-19 वैक्सीन देने से संबंधित दुष्प्रचार अभियान और अफवाहों की बारीकी से मॉनिटरिंग कर रहा है। उन्होंने प्रशासनिक तंत्र को निहित स्वार्थी तत्वों द्वारा फैलाए जा रहे दुष्प्रचार का डटकर मुकाबला करने की सलाह दी।

डॉ. हर्ष वर्धन ने कहा कि कोविड-19 के खिलाफ अपनी जनसंख्या को वैक्सीन देने की भारत की प्रक्रिया विश्व में सबसे बड़ा अभियान होगा। केन्द्रीय मंत्री ने फिर कहा कि दोनों स्वदेशी निर्मित वैक्सीन कोविशील्ड और कोवैक्सीन का प्रमाणित सुरक्षा तथा प्रभावशीलता का रिकॉर्ड है और ये महामारी पर काबू पाने के अत्यंत महत्वपूर्ण टूल हैं। 


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Headlines
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like