GMCH STORIES

नीमच वासी 80 वर्षीय रोगीके  रेक्टल प्रोलेप्स (आम/ कांच बाहर आना) का हुआ सफल इलाज

( Read 14393 Times)

19 Aug 21
Share |
Print This Page

नीमच वासी 80 वर्षीय रोगीके  रेक्टल प्रोलेप्स (आम/ कांच बाहर आना) का हुआ सफल इलाज

गीतांजली मेडिकल कॉलेज एवं हॉस्पिटल, उदयपुर का गैस्ट्रोसर्जरीविभाग सभी विश्वस्तरीय सुविधाओं से परिपूर्णहै| यहाँ निरंतर रूप से जटिल से जटिल ऑपरेशन व इलाज कर रोगियों को नया जीवन दिया जा रहा है| गीतांजली हॉस्पिटल के गैस्ट्रो सर्जरी विभाग से सर्जन डॉ. कमल किशोर बिश्नोई, गैस्ट्रोएंटेरोलॉजिस्ट डॉ. पंकज गुप्ता, डॉ. धवल व्यास, डॉ. मनीष दोडमानी, एनेस्थेसिया विभागसे डॉ. वी.एस. राठौड़, एस.आई.सी.यू से डॉ. संजय पालीवाल, ओ.टी. इनचार्ज हेमंत गर्गव टीम के अथक प्रयासों सेमंदसौरनिवासी 80 वर्षीय रोगी को सफलतापूर्वक इलाज कर उसे नया जीवन प्रदान किया गया|
डॉ कमल किशोर बिश्नोई ने बताया कि नीमचनिवासी 80 वर्षीय रोगी जब अस्पताल में आया तब उसकी स्थिति अत्यंत गंभीर थी , रोगी को रेक्टल प्रोलेप्स की बीमारी थी जिससे मारवाड़ी में कांच बाहर आना और मेवाड़ी में आम बाहर आना भी कहा जाता है|यह बीमारी रोगी को पिछले 30 वर्षों से परेशान कर रही थी जिसे रोगीनजरअंदाज कर रहा था|समयके साथ यह बीमारी भी बड़ा रूप लेती है|यह बीमारी कब्ज़ी से शुरू होती है औरजब भी कोई व्यक्ति शौच नहीं आने पर जोर लगाता है तब उस वजह से उसका मलद्वार  बाहर आना शुरू हो जाता है|डॉ बिश्नोई ने बताया कि इसमेंतीन स्टेज में होती है:
पहली स्टेजमें छोटा सा हिस्सा मलद्वारसे बाहर आता है और स्वयंअन्दर चला जाता है|
दूसरी स्टेज में मलद्वार और अधिक बाहर आता है जिसे उंगली की सहायता से अन्दर किया जाता है|
तीसरे चरण में हिस्साइतना अधिक मात्रा में बाहर आ जाता है कि फिर किसी भी तरह उसे वापस अंदर नहीं लिया जा सकता ,इसका इलाजसामान्यतयाऑपरेशन द्वारा ही संभव है क्यूंकि इसमें गैंगरीन के होने की संभावना हो जाती है|
यहां पर इस रोगी की उम्र अधिक होने के कारण यह सर्जरी के लिए उपयुक्त नहीं थे| इसलिए डॉ. कमलऔर उनकी टीम में स्पाइनल एनेस्थेसिया में ऑपरेशन करने का निर्णय लिया जिसमें खतरा कम रहता है| इस ऑपरेशन को बिना शल्यचिकित्सा के मलद्वार की तरफ से किया गया जिसे पेरीनियल प्रोक्टोसिग्मोइडेक्टोमी कहते हैं|
डॉ कमलने यह भी बतायाकि कई लोग इस बीमारी को पाइल्स समझकर नजरअंदाज कर देते हैं| ऐसा बिल्कुलना करें और यदि कोई परेशानी है तो डॉक्टर सेपरामर्शअवश्य लें|
गीतांजली हॉस्पिटल कागैस्ट्रोएंटरोलॉजीविभाग सभी अत्याधुनिक सुविधाओं से सुसज्जित हैतथा गीतांजली हॉस्पिटल पिछले 14 वर्षों से सतत रूप से हर प्रकार की उत्कृष्ट एवं विश्वस्तरीय चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध करा रहा है एवं जरूरतमंदों को स्वास्थ्य सेवाएं देता आया है |
 


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : GMCH ,
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like